ब्रेन के प्रति लापरवाही से कैंसर का खतरा


जयपुर। यूं तो शरीर में किसी भी हिस्से का ये सेल्स आनुवांशिक तौर पर आपके जीन कैंसर खतरनाक होता है, मगर ब्रेन कैंसर में मौजूद नहीं होते लेकिन कुछ डुप्लीकेट जानलेवा साबित हो सकता है। ब्रेन कैंसर जींस या असामान्य कोशिकाएं जरूर मौजूद रहती हैं। जो कि ब्रेन कैसर की शरूआत में होने के बहुत से कारण है। नपे से दूरी, षराब जिम्मेदार हो सकती है। ब्रेन कैंसर जैसी सेवन नहीं करने और पूरी नींद लेने से इससे घातक बीमारी से बचने के लिए सिर दर्द या बचाव हो सकता है। आजकल ब्रेन कैंसर के नींद पूरी नहीं होने की समस्या को गंभीरता उपचार में अत्याधुनिक तकनीकों से सर्जरी से लें और डॉक्टर से जांच करवा कर समय व विभिन्न थैरेपी से इसका इलाज संभव है। पर इलाज कराएं। समय पर इलाज हो तो इसे नारायणा हॉस्पीटल के सीनियर न्यूरो काबू में लिया जा सकता है। सर्जन डॉ. के.के. बंसल बताते हैं कि ब्रेन - डॉ. के.के. बंसल, सीनियर न्यूरो सर्जन कैंसर को शुरुआत में जांच करके काबू में किया जा सकता है। लोगों को ब्रेन को उतना ही जरूरी है दिमाग को आराम देना। होने लगता है। एक सामान्य व्यक्ति में स्वस्थ रखने पर ध्यान देना चाहिए। ब्रेन ब्रेन कैंसर होने के कई लगभग 100,000,000,000 ब्रेन हमारे शरीर का सबसे महत्व पूर्ण हिस्सा हैसेल्स पाए जाते हैं। हालांकि ये भारी इसके लिए थोड़ी सी लापरवाही भी हमारे मात्रा में होते हैं लेकिन यदि हम प्रतिदिन लिए खतरा बन सकती हैं। नजीतन, हम ध्यान ना रखें तो इसका नुकसान इन लोग ब्रेन कैंसर या फिर इसी तरह की किसी . ब्रेन कैंसर आमतौर पर किसी गंभीर ब्रेन सेल्स को भी होता है। दिमागी बीमारी के शिकार हो सकते हैं। ब्रेन बीमारी के कारण होता है तो कई बार . क्या आप जानते हैं ब्रेन यदि ठीक से सेल्स का ख्याल रखना जितना जरूरी है आपकी लापरवाही से ब्रेन सेल्स नष्ट काम ना करे या फिर उसके सेल्स नष्ट होने लगे तो आप और भी कई गंभीर बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। इतना ही नहीं आपके काम करने की गति भी धीमी हो सकती है। हाल ही में आए एक सर्वे के मुताबिक, भारत में लगभग 50 मिलियन लोग अपनी लापरवाही के कारण अपने नर्वस सिस्टम को नुकसान पहुंचाते हैं। ब्रेन कैंसर यानि ट्यूमर बढ़ रहा है कैंसर का पता लगाना बहुत मुश्किल होता है लेकिन ब्रेन कैंसर कई तरह का पाया गया है। इनमें से सबसे खतरनाक ब्रेन कैंसर ग्लिसयोमास पाया गया है। ब्रेन कैंसर कैसे शुरू होता है ये तो कहना मुश्किल है लेकिन शोधों में ऐसा पाया गया है कि इसके जीन आनुवांशिक होते हैं। ब्रेन कैंसर को रोकने के उपाय डॉ के.के. बंसल बताते हैं कि, ब्रेन कैंसर होने का अर्थ है कि आपके दिमाग में ट्यूमर लगातार बढ़ रहा है। ट्यूमर यानी दिमाग में बहुत सारी कोशिकाओं का अनियंत्रित होना। ऐसे में कोशिकाओं को नियंत्रण लगातार बिगड़ता रहता है और कोशिकाओं का विभाजन असमान्य रूप से ब्रेन में होता रहता है। जो कि ब्रेन सेल्स को घातक नुकसान पहुंचा सकते हैं। . ब्रेन में अनियंत्रित कोशिकाएं ब्रेन . नींद पूरी लें, तनाव से दूर रहें, नशा, एल्कोहल इत्यादि ड्रग्स ना लें, नियमित रूप से व्यायाम करें, पौष्टिक और संतुलित आहार लें, जंकफूड से दूर रहें, पानी अधिक मात्रा में लें, अधिक से अधिक सक्रिय रहें।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को