Posts

पहली आदिवासी महिला द्रोपदी मुर्मू बनेगी देश की राष्ट्रपति

Image
  पहली आदिवासी महिला द्रोपदी मुर्मू बनेगी देश की राष्ट्रपति  इस बार बदलेगा इतिहास आज़ाद भारत में 72 साल से चली आ रही परम्परा टूटेगी                       दिल्ली ।(छाया शर्मा)।  देश के नए राष्ट्रपति  (presidential election) के चयन को लेकर तारीखों का ऐलान हो गया है और तमाम राजनीतिक दल राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवारों के नाम तय करने में लगे हैं। केंद्र में भारतीय जनता पार्टी अगर अपने एनडीए गठबंधन और अन्य पार्टियों से बातचीत कर रही है तो विपक्ष की और से बवाल शुरू हो गया है। पिछले हफ्ते ममता बनर्जी  ने विपक्षी दलों की ओर से साक्षी को उम्मीदवार बनाने के लिए दिल्ली में एक बड़ी बैठक की है। लेकिन क्या इस बार नया राष्ट्रपति स्वतंत्र भारत के इतिहास को बदल पाएगा….जो अब तक पिछले 14 राष्ट्रपति नहीं... 1947 में आजादी से लेकर 2014 तक देश के हर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का जन्म आजादी से पहले हुआ था। लेकिन मई 2014 में प्रधानमंत्री बने नरेंद्र मोदी 1947 के बाद पैदा हुए और शीर्ष पद पर रहने वाले पहले नेता बने। मोदी स्वतंत्र भारत में जन्म लेने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री हैं। परन्तु अब तक जितने भी न

मानसरोवर मेट्रो पर महापड़ाव

Image
घुमंतू जातियों की भूमि पर भू माफियाओं की नजर  रावण मंडी प्रभावितों को अभी तक सरकारी सहायता नहीं  मानसरोवर मेट्रो पर महापड़ाव  जयपुर। प्रदेश भर में 30 वर्ष से भी अधिक समय से एक ही स्थान पर रह रहे घुमंतु अर्ध घुमंतु तथा विमुक्त जाति की भूमि को इन्हें आवंटन न कर भू माफियाओं के साथ मिलीभगत कर जयपुर विकास प्राधिकरण तथा अन्य स्थानीय निकाय द्वारा भू माफियाओं को बेचने के लिए नियमों में फेरबदल का आरोप लगाते हुए जयपुर स्थित रावण मंडी में भू माफियाओं द्वारा लगाई गई आग की शिकायत मुख्यमंत्री को ज्ञापन द्वारा किए जाने के 20 दिन बाद भी सरकारी मदद नहीं पहुंचने से नाराज प्रदेश भर के हजारों घुमंतु अर्ध घुमंतु तथा विमुक्त जाति से संबंध रखने वाले संगठनों के वरिष्ठ पदाधिकारियों एवं नागरिकों ने जयपुर में महापड़ाव डाल शीघ्र ही सरकार द्वारा इस दिशा में ध्यान नहीं देने पर जयपुर में ऐक लाख  से अधिक घुमंतु अर्ध घुमंतु तथा विमुक्त जाति से संबंध रखने वाले नागरिकों के महापड़ाव की चेतावनी दी गई है। घुमंतू, जंतु तथा विमुक्त जाति परिषद के प्रदेश अध्यक्ष रतन नाथ कालबेलिया ने बताया कि विगत 1 जून को जयपुर में मानसरोवर मे

वास्तुशास्त्र में रंगों का महत्व

Image
        वास्तुशास्त्र में रंगों का महत्व -डॉ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज ’,  रंग हज़ारों वर्षों से हमारे जीवन में अपनी जगह बनाए हुए हैं। यहाँ आजकल कृत्रिम रंगों का उपयोग जोरों पर है वहीं प्रारंभ में लोग प्राकृतिक रंगों को ही उपयोग में लाते थे। उल्लेखनीय है कि मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की खुदाई में सिंधु घाटी सभ्यता की जो चीजें मिलीं उनमें ऐसे बर्तन और मूर्तियाँ भी थीं, जिन पर रंगाई की गई थी। उनमें एक लाल रंग के कपड़े का टुकड़ा भी मिला। विशेषज्ञों के अनुसार इस पर मजीठ या मजिष्ठा की जड़ से तैयार किया गया रंग चढ़ाया गया था। इसी तरह हजारों वर्षों तक मजीठ की जड़ और बक्कम वृक्ष की छाल लाल रंग का मुख्य स्रोत थी। पीला रंग और सिंदूर हल्दी से प्राप्त होता था। होली के रंग पलास आदि के फूलों से तैयार किये जाते थे। इस तरह रंगों प्राप्ति प्राकृतिक वस्तुओं से प्राप्त की जाती रही है। वास्तु विज्ञान में ध्वनियों तथा रंगों का स्थान अत्यधिक महत्वपूर्ण है। रंग और ध्वनि इस प्रकार की ऊर्जाएं हैं, जिन्होंने प्रकृति और वातावरण के माध्यम से हमें घेर रखा है। शुभ रंग भाग्योदय कारक होते हैं। वास्तु विज्ञान में विभिन्न रंगों को व

रिया रॉय एक उभरता हुआ सितारा

Image
              रिया रॉय एक उभरता हुआ सितारा         टाली गंज से मुंबई तक का खूबसूरत सफर  मुंबई। (सुनील भोंसले) सपनों की मायानगरी मुम्बई की चमक से कोई अछूता नहीं रहा। लेकिन अपनी मंजिल तक पहुंच पाना आसान नहीं। दिल में जज्बा, जुनून और खुद को इस काबिल बनाना कि हर चुनौती को पार कर सके। यदि आपकी योग्यता और कौशल में आप निपुण हैं तो कोई भी मंजिल में पहुंचने से आपको रोक नहीं सकता। कोलकाता के टालीगंज से आयी होनहार, मेहनती और आकर्षक व्यक्तित्व की धनी रिया रॉय ने मुम्बई आते ही अपनी कुशलता का जौहर दिखा दिया है। कोलकाता से मुम्बई आने से पहले रिया ने स्वयं को अभिनय और सौंदर्य के हर कौशल में परिपूर्ण बना लिया है।  मशहूर पार्श्वगायक कुमार शानू के पुत्र जान कुमार शानू के नए म्यूजिक एलबम 'सुट्टा' में रिया रॉय की अदाकारी और खूबसूरती का जलवा देखने को मिलेगा। यह एक पेप्पी पार्टी सांग है जो कश्मीर की अदभुत सुंदर वादियों में फिल्माया गया है। इस एल्बम से रिया रॉय मायापुरी की दुनियां का हिस्सा बनेंगी।  रिया रॉय का बचपन अभिनय की दुनिया में ही बीता है। इनके पिता भी अभिनय जगत में अपने कदम रख चुके हैं। उन्हे

प्राइवेट स्कूल्स राष्ट्रीय अधिवेशन का जयपुर में आगाज

Image
प्राइवेट स्कूल्स राष्ट्रीय अधिवेशन का जयपुर में आगाज  पत्रकार आरिफ आजाद को किया सम्मानित  जयपुर। प्राइवेट स्कूल्स एण्ड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन का तीन दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन का आगाज़ 17 जून को जयपुर के मैरियट होटल में हुआ। तीन दिवसीय अधिवेशन का उद्घाटन झारखंड सरकार के वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव,प्राईवेट स्कुल्स ऐण्ड चिल्ड्रेन वेल्फेयर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद शमायल अहमद,इराकी दूतावास अब्दुल जब्बार एच.नवाफ, एसोसियेट दूतावास इराक डा.अमर अब्दुल्ला, कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी अस्पताल के न्यूरोलॉजिस्ट डा.संजय पाण्डेय,पासवा के झारखण्ड प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे एवं देशभर से आये हुए प्रतिनिधियों की उपस्थिति ने दीप प्रज्ज्वलित कर संयुक्त रुप से किया।  कार्यकर्म के मुख्य अतिथि डा.रामेश्वर उरांव ने कहा कि प्राइवेट स्कूल्स एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन देश भर के 2 लाख से अधिक निजी विद्यालयों का प्रतिनिधित्व करता है, निजी विद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में सबसे अच्छा काम कर रही है, आज  प्राइवेट स्कूल्स एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन के 11 वर्ष पूरे होने पर एसोसिएशन का नवां अधिवेशन

पुरूषों की सुनवाई के लिए पुरुष आयोग क्यों नही - डॉ.निरुपमा उपाध्याय

Image
  बेटा पढ़ाओ-संस्कार सिखाओ अभियान   पुरूषों की सुनवाई के लिए पुरुष आयोग क्यों नही -  डॉ.निरुपमा उपाध्याय क्या हमेशा पुरूष ही दोषी होता है? क्या आज बेटियों की स्वेच्छा चारिता, माता-पिता का अन्धा प्रेम, बेटियों को उच्छंखल बनाने में सहायक नहीं है? लक्ष्मणगढ़ - (सीकर) । बेटा पढ़ाओ-संस्कार सिखाओ अभियान की ओर से कवयित्री डॉ. निरुपमा उपाध्याय ने कहा कि आज एक ऐसे विषय पर चर्चा करने का मन है, जिस पर कभी भी समाज का या प्रशासन का  ध्यान ही नहीं गया। जहाँ भी देखो नारी उत्पीड़न की चर्चा होती है ।महिला आयोग का गठन हुआ है। आज कोई भी महिला अपने ऊपर हुए अत्याचार के खिलाफ आवाज उठा सकती है और उसकी शिकायत पर तुरत कार्यवाही भी होती है। हम सब इस व्यवस्था का सम्मान भी करते हैं और करना भी चाहिये, लेकिन जो व्यवस्था स्त्री को सुरक्षा प्रदान करती है, उसको न्याय देती है, गुनहगारों को सलाखों के पीछे ले जाती है, उस व्यवस्था का कुछ लोग दुरुपयोग भी करते हैं। आप यदि अपने चारों तरफ़ नजर घुमायेंगे तो 10 में से 3 लोग तो अवश्य ऐसे निकलेंगे जो निरपराध होते हुए भी सजा पा रहे हैं, कोर्ट के चक्कर लगाते-लगाते थक चुके हैं, उनके लिये

साहित्यकार सीमा रंगा सावित्री बाई फुले अवार्ड से सम्मानित

Image
साहित्यकार सीमा रंगा सावित्री बाई फुले अवार्ड से सम्मानित  नई दिल्ली।  अपनी कविताओं के माध्यम से साहित्य के क्षेत्र में एक अलग ही पहचान बनाने वाली कवयित्री व लेखिका सीमा रंगा इन्द्रा जी को गोपाल किरण समाज सेवी संस्था भोपाल द्वारा *सावित्रीबाई फुले अवार्ड* व सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया।  देश के तकरीबन तकरीबन 150 शिक्षकों को सम्मानित किया इसमें ।टीम मंथन गुजरात , पंजाब ,हरियाणा ,दिल्ली, जम्मू, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश व बिहार विभिन्न प्रांतों से आए हुए शिक्षकों को वे देश के लिए शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने वाले विभिन्न लोगों को सम्मानित किया गया।  इससे पहले भी कवयित्री सीमा रंगा इन्द्रा जी को *हरियाणा गौरव सम्मान* *गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड* *द प्रेसिडेंट स्कूल चेंजमेकर अवार्ड* वह देश की अलग-अलग संस्थाओं ने सम्मानित किया है। इनकी कविताएं देश प्रेम से ओतप्रोत होती है जो लोगों के दिलों को छू जाती है ।यह प्रोग्राम इंडियन सोशल इंस्टीट्यूट नई दिल्ली में किया गया था ।कार्यक्रम सुबह 9:00 बजे से प्रारंभ होकर शाम को 6:00 बजे तक चला ।  जिसमें एक दिवसीय शिक्षा संवाद रखा गया कि शिक्षा को बे