सभी को रास आया 'विधायक आवास परियोजना' का परिसर

सभी को रास आया 'विधायक आवास परियोजना' का परिसर



   कार्यक्रम समाप्त होने के बाद भी लगा रहा लोगों का तांता



केसर क्यारी और बारहदरी के सफेद कबूतर बने आकर्षण का केंद्र



     परिसर में सुरक्षा इंतजामात को विधायकगण ने सराहा



मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, नगरीय विकास मंत्री और नेता प्रतिपक्ष से लेकर विधायकों ने की आयुक्त की दिल खोलकर तारीफ



जयपुर, 13 अगस्त। महज 23 महीनों में बनकर तैयार 160 आलीशान फ्लैट्स की विधायक आवास परियोजना का दीदार करने वाले हर आगंतुक बरबस ही वाह कह उठे। किसी का मन सेंट्रल लॉन में लगी केसर क्यारियों में अटका तो किसी को म्यूजिकल वॉक वे ने आकर्षित किया।

शनिवार की शाम को जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत परियोजना का लोकार्पण कर रहे थे तो आने वाला हर आगंतुक परिसर की खूबसूरती और भव्यता को अपनी आंखों में कैद करने की कोशिश कर रहा था। सहभोज के बाद भी आने वाले आगंतुकों ने परिसर में घंटों रुक कर नज़ारों का लुत्फ उठाया।

मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत, विधानसभा अध्यक्ष  सीपी जोशी, नगरीय विकास मंत्री  शांति धारीवाल, नेता प्रतिपक्ष  राजेंद्र राठौड़ अलावा आए मंत्री  प्रताप सिंह खाचरियावास, श्रीमती ममता भूपेश,  सुभाष गर्ग, विधायक  रफीक खान,  अमीन कागजी,  बलराम पूनिया सहित श्रीमती अर्चना शर्मा,  जीतराम गोदारा सहित सैकड़ों जनप्रतिनिधि गणों ने विधायक आवास परियोजना की जमकर तारीफ की और आयुक्त  पवन अरोड़ा को कई बार व्यतिगत बधाइयां भी दी।

*सब है पवन अरोड़ा की करामात*

मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने शनिवार को अपने संबोधन में कहा था कि हाउसिंग बोर्ड की प्रगति  पवन अरोड़ा की ही करामात है। जो हाउसिंग बोर्ड बंद होने वाला था। उसका अब 5 हजार  करोड रुपए का बैलेंस है और 10 हजार करोड़ का टर्नओवर हो गया है।

विधायक गोविंद सिंह डोटासरा भ्रमण के दौरान परिसर की ग्रीनरी और लैंडस्कैपिंग को देखकर खुशी जाहिर करते नजर आए। उन्होंने कहा कि सेंट्रल पार्क में लगे पेड़ों को देखकर सुकून महसूस होता है। परिसर में आए एक पूर्व विधायक को सेंट्रल पार्क में लगे बच्चों के स्कल्पचर खासे रास आए। उन्होंने कहा इन स्क्लप्टर्स को देखकर अल्हड़ता और मस्ती का सुखद एहसास होता है।

आवासन आयुक्त  पवन अरोड़ा ने कहा कि भले ही मंडल की टीम ने केवल 23 महीना में कार्य को पूर्ण कर दिया लेकिन इसकी गुणवत्ता और खूबसूरती से किसी भी स्तर पर समझौता नहीं किया गया। _उन्होंने बताया कि परिसर का 5 साल का रखा का रखरखाव भी मंडल द्वारा किया जाएगा उसके बाद इसका जिम्मा सामान्य प्रशासन विभाग को सौंप दिया जाएगा।


उन्होंने बताया कि हर कमरे का इंटीरियर, कलर स्कीम्स, पर्दे, पेंटिंग्स, कारपेट, एंटिक और ओरनामेंटल ऑब्जेक्ट्स बहुत ही खूबसूरत रखे गए हैं। हर फ्लैट में लगाए गुणवत्तायुक्त और आकर्षक फर्नीचर, डबल बेड, सोफा, कुर्सियां, डाइनिंग टेबल, एलईडी, फ्रीज, एसी, पंखे, आरओ, मॉडयूलर किचन, साज-सज्जा जैसी लक्जरी सुविधाओं का भी ध्यान रखा गया है।

 अरोड़ा ने बताया कि विधायकगण की फिटनेस को देखते हुए मंडल ने बेहतरीन व्यवस्थाएं की है। उन्हें ऊर्जावान और फिजिकली फिट बनाए रखने के लिए सेन्ट्रल पार्क, क्लब हाउस, स्वीमिंग पूल, जिम, योग-मेडिटेशन सेंटर, बिलियर्डस् व टेबल टेनिस, इन्डोर गेम्स रखे गए हैं।

*बिना अनुमति के परिंदा भी नहीं मार सकता पर*

आयुक्त ने बताया कि छह बहुमंजिले टॉवर (जी+8) में 3 हजार 200 स्क्वायर फीट वाले कुल 160 फ्लैट्स में विधायकगणों की सुरक्षा का विशेष रूप से ध्यान रखा गया है। पूरे परिसर के कॉमन एरिया (पार्किंग, ड्राइव वे, बेसमेंट, लिफ्ट) में 80 से ज्यादा अत्याधुनिक और हाई रेंज के सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। ऑटोमैटिक बूम बैरियर, बैग स्कैनर और मुख्य द्वार पर अंडर व्हीकल स्कैनर लगाया गया, जिसकी स्पाय आई किसी गडबड़ी पर तुरंत सिस्टम को अलर्ट करेगी। सुरक्षा के मामले में सबसे खास ‘इंट्रूडर अलर्ट सिस्टम’ है, जिससे कोई भी अवांछित व्यक्ति भवन में यदि बिना अनुमति के प्रवेश करेगा तो अलार्म बज जाएगा। इसके अलावा विधायकगण के लिए परिसर में डबल बेसमेंट में स्मार्ट पार्किंग की भी सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है, जिसमें दोनों मंजिलों को मिलाकर 921 चौपाहिया वाहन-ईसीयू (इक्वेलेंट कार यूनिट) एक साथ पार्क किए जा सकेंगे। 

*प्रत्येक ब्लॉक में रिसेप्शन और गेस्ट रूम*

श्री अरोड़ा ने बताया कि परिसर के प्रत्येक ब्लॉक में विधायकगण से मिलने के लिए क्षेत्र से आने वाले आगंतुकों के लिए ग्राउंड फ्लोर पर रिसेप्शन, वेटिंग लॉन्ज, एडमिनिस्ट्रेटिव मीटिंग हॉल, मल्टीपपर्स हॉल, कॉन्फ्रेंस हॉल, पेंट्रिज, वॉशरूम्स, ड्राइवर डोरमेट्री कक्ष, लिफ्ट, सर्विस लिफ्ट और हर ब्लॉक्स पर 26 गेस्ट रूम (22 कमरे, 4 सुइट) भी बनाए गए हैं। इसके अलावा विधायकगण की सुविधा के लिए कॉफी हाउस, रेस्टोरेंट, बैंक्वेट हॉल, सैलून, शॉप्स भी बनाई गई हैं। इसके अतिरिक्त एलौपेथी, आयुर्वेदिक और होम्योपैथी चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध रहेगी। 

रविवार को भी परिसर को देखने के लिए भारी संख्या में विधायक गण व आगंतुकों का आना जाना लगा रहा। हर कोई मंडल की तय सीमा से पूर्व काम पूरा करने और परिसर को भव्यता और खूबसूरती की ही प्रशंसा करता नजर आया।

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे