वीजीयू में विद्यार्थियों और शिक्षकों ने सीखे योग के गुर

  वीजीयू में विद्यार्थियों और शिक्षकों ने सीखे योग के गुर



आगामी 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों को लेकर आयुष मंत्रालय और वैश्विक योग एलायंस के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हुआ शिविर



जयपुर। आयुष मंत्रालय, भारत सरकार के तहत वैश्विक योग एलायंस के सहयोग से 21 जून को विश्व भर में आयोजित होने वाले अंतराष्टीय योग दिवस में लोगों की अधिकाधिक भागीदारी बढाने और आमजन को योग के प्रति जागरूकता अभियान के तहत रविवार को विवेकानंद ग्लोबल युनिवर्सिटी में योग शिविर का आयोजन किया गया । जिसमें योग प्रशिक्षकों के मार्गदर्शन में विद्याथर्यों के साथ शिक्षको और स्टाफ ने उत्साह के साथ शिविर में हिस्सा लिया। इस अवसर पर योग प्रशिक्षकों ने स्वस्थ जीवन के लिए नियमित योग की महत्ता बताई और विभिन्न प्रकार के योगासन और प्रणायाम कराए।


    शिविर में सिंधु प्रकाश भटनागर, क्षेत्रीय निदेशक, क्षेत्रीय एनएसएस निदेशालय, जयपुर, युवा मामले और खेल मंत्रालय, भारत सरकार,  कमल किशोर मक्कड़, युवा अधिकारी, क्षेत्रीय निदेशालय एनएसएस, जयपुर, युवा मामले और खेल मंत्रालय, वीजीयू के सीईओ इंजी. ओंकार बगरिया, एक्टिंग प्रेसीडेंट प्रो संतोष कुमार, प्रो प्रेसीडेंट प्रो डीवीएस भगवानुलु, ग्लोबल योग एलायंस के अध्यक्ष गोपाल जी ने योग शिविर में हिस्सा लिया।

 


  अपने संबोधन में इंजी ओंकार बगरिया ने कहा कि योग हमारी संस्कृति की पहचान है। योग में ऐसे अनेक आसन हैं जिनको जीवन में अपनाने से कई बीमारियां समाप्त हो जाती हैं और खतरनाक बीमारियों का असर भी कम हो जाता हैं और पॉजिटिव एर्नजी भी देता है।  उन्होने कहा कि 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाये जाने के लिए  संयुक्तराष्ट्र में प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी द्वारा रखे गये प्रस्ताव को 177 देशो ने पारित किया था जिसके परिणाम स्वरूप हर साल 21जून 2015 को पूरी दुनिया मे उत्साह के साथ मनाया जा रहा है।

   क्षेत्रीय निदेशक, एनएसएस सिंधु प्रकाश भटनागर, ने कहा कि आज के प्रदूषित वातावरण में योग एक ऐसी औषधि है जिसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है योग जीवन के लिये  संजीवनी है। हमारे देश की ऋषि परंपरा योग को आज विश्व भी अपना रहा है। वीजीयू एक्टिंग प्रेसीडेंट प्रो संतोष कुमार ने विद्यार्थियों कोयोग के प्रति प्रेरित करते हुए कहा कि योग के माध्यम से आत्मिक संतुष्टि, शांति और ऊर्जावान चेतना की अनुभूति प्राप्त होती है, जिससे हमारा जीवन तनाव मुक्त तथा हर दिन सकारात्मक  ऊर्जा के  साथ आगे बढता है। 

   भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा 21 जून को अंतराष्टीय योग दिवस को सफल बनाने के लिए आम जन की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए 100 दिन का देश व्यापी अभियान के तहत वीजीयू में यह शिविर का आयोजन किया गया जिसमें करीब 800 विद्यार्थियों और शिक्षको और स्टाॅफ ने हिस्सा लिया और शिविर प्रशिक्षण का लाभ उठाया।

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

नाहटा को कई संस्थाएं करेंगी सम्मानित

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे