राम मंदिर निर्माणः निर्मोही अखाड़े, ने की ट्रस्ट में अहम भूमिका देने की मांग, प्रधानमंत्री से मिलेंगे संत


अयोध्या। राम मंदिर निर्माण के लिएबनने वाले ट्रस्ट में अहम भूमिका देने की मांग को लेकर निर्मोही अखाड़ा अगले हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेगा। सोमवार को अखाड़े के साधु-संतों की बैठक में यह फैसला लिया गया। अखाड़े के प्रवक्ता रंजीत लाल वर्मा ने कहा, 'राम जन्मभूमि मंदिर में निर्मोही अखाडे की ऐतिहासिक उपस्थिति है और रामलला को पूजने का अधिकार हमेशा निर्मोही अखाड़े के पास रहा है।' अखाड़े के महंत दिनेंद्र दास ने कहा- मंदिर निर्माण में निर्मोही अखाड़ा सकारात्मक भूमिका निभाएगा। अखाड़े को राम जन्मभूमि न्यास के मॉडल पर मंदिर निर्माण करने पर आपत्ति नहीं है। साथ ही निर्माण में न्यास की कार्यशाला में तराशकर रखे गए पत्थरों का इस्तेमाल करने पर भी कोई ऐतराज नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अयोध्या भूमि विवाद में पक्षकार रहे निर्मोही अखाड़े का संबंध रामानंदी वैष्णव संप्रदाय से है। अखाड़ा रामलला की पूजन के अधिकार की मांग करता रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार से ट्रस्ट में निर्मोही अखाड़े को प्रतिनिधित्व देने को कहा था। बैठक में महंत दिनेंद्र दास, सरपंच राजा रामचंद्राचार्य, भगवानदास, मनमोहन दास, नरसिंह दास, धनश्याम दास, सुरेश दास, रामसेवक दास सहित करीब 25 प्रमुख साधु-संत शामिल हुए।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को