विधानसभा का विशेष सत्र शुरू गुरु गोलवलकर की टिप्पणी पर हंगामा


कार्यालय संवाददाता


जयपुर। राजस्थान विधानसभा का विशेष सत्र गरुवार सुबह 11 बजे शुरू हुआ। विशेष सत्र में संविधान पर बहस से पहले अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि किन परिस्थितियों में संविधान लागू सामने आ रही हैं सभी लोगों में समरसता इस सत्र में प्रश्नकाल व शून्यकाल नहीं किया गया, देश का विभाजन हुआ। का माहौल कायम हो और भेदभाव रहित होगा। संविधान के बारे में चर्चा होगी। इनको ध्यान में रखते हुए तथा संसदीय वातावरण बने। सत्र संविधान दिवस के धारीवाल की गोलवलकर पर गरिमा बनाए रखने के लिए सार्थक बहस उपलक्ष्य में बुलाया गया है। क्योंकि टिप्पणी पर हंगामा: विधानसभा के होनी चाहिए। आज हमें क्या समस्या संविधान बने हुए 70 साल हो गए हैं। विशेष सत्र में संसदीय कार्यमंत्री धारीवाल की ओर से गुरु गोलवलकर लेकिन गोलवलकर की संस्थाओं के यहां को लेकर टिप्पणी से विपक्ष ने जोरदार भगवा ही फहराया गया। इस पर विपक्ष ने हंगामा किया। धारीवाल ने गोलवलकर हंगामा कर दिया। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद को लेकर दो बार टिप्पणी की। दोनों ही कटारिया ने कहा कि संविधान पर बार विपक्ष ने उन्हें टोका और इसका सार्थक चर्चा के लिए विशेष सत्र बुलाया विरोध किया। धारीवाल ने पहले गया है। हमने भी पढ़ा है। पहले क्या हुआ गोलवलकर की एक पुस्तक का हवाला इसके बजाय संविधान पर सार्थक बहस देते हुए कहा कि उन्होंने मुस्लिम, इसाई की जाए तो अच्छा होगा। और वामपंथियों को देश के लिए धात वहीं उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने बताया है। इसका विपक्षी सदस्यों ने कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर के विरोध किया। स्पीकर सीपी जोशी के योगदान को नहीं भुलाया जा सकता। दखल के बाद मामला शांत हुआ। उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता इसके थोड़ी देर बाद धारीवाल ने अंबेडकर की 125वीं जयंती मनाई जा कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने 30 रही है। हम भले ही दलों में बंटे हैं लेकिन जनवरी को देशवासियों से घरों-प्रतिष्ठानों हमें तुम की बजाए हम की बात करनी पर तिरंगा फहराने के लिए कहा था, चाहिए।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ