जेजेएस में पहुंचे भारी संख्या में पहुंचे बायर्स एवं रिटेलर्स, कल है जेजेएस का समापन





-- जेजेएस के तीसरे दिन
-- जयपुर ज्वैलरी डिजाइन फेस्टिवल में नजर आए कंटम्परेरी ज्वेलरी डिजाइन
-- इंडोलॉजी लाइव चैनल के जरिए एग्जीबिटर्स बेच रहे है ज्वैलरी
-- 12,000 से अधिक लोग आए देखने


जयपुर, 22 दिसम्बर। सीतापुरा के जेईसीसी में चल रहे जयपुर ज्वैलरी शो (जेजेएस) में तीसरे दिन रविवार होने के कारण भारी संख्या में जैम एवं ज्वैलरी के बायर्स एवं रिटेलर्स पहुंचे। जेजेएस में विजिट करने वाले लोगों की संख्या 12,000 से अधिक थी। जयपुर के आसपास के छोटे शहरों से भी लोग अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ जेजेएस देखने पहुंचे। शो में जैम एवं ज्वैलरी के बेहतरीन प्रोडक्टस् प्रदर्शित किए जा रहें हैं। स्त्रियों की ज्वैलरी के अलावा शो में पुरूषों एवं बच्चों के लिए भी फैशनेबल ज्वैलरी मौजूद है। इसके अलावा डेकोरेटिव सामान, कारपोरेट गिफ्ट आईटम, पैकिंग प्रोडक्टस और चांदी की कलाकृतियां जैसे टी पॉट, कार्ड होल्डर्स, बुलक कार्ट, बच्चों के झुले और कई अन्य रोजमर्रा के सामान। उल्लेखनीय है कि जेजेएस का समापन सोमवार को होने जा रहा है। यह जानकारी जेजेएस के अध्यक्ष श्री विमल चंद सुराणा ने दी।


जेजेएस के सचिव राजीव जैन ने बताया कि इसी तरह जेमस्टोन सेक्शन में प्रेशियस और सेमी-प्रेशियस रत्न भी लोगों को आकर्षित कर रहे हैं। एमरल्ड, डायमंड, ओपेल, ऑनिक्स, रूबी, तेंजेनाइट, सफायर आदि की डिजाइनर ज्वैलरी जैसे ब्रेसलेट, एंकलेट, नेकलेस, रिंग्स, डेंगलर, आदि को वो ग्राहक बहुत पसंद कर रहे है जो कुछ अनूठा खरीदना चाहते है। इस वर्ष शो में व्यापार केन्द्रित भी रहा है। यहां अनेक ब्रांड ऐसे है जो सिर्फ बीटूबी नेटवर्किंग के लिए आए हैं।


जेजेएस के मीडिया कॉर्डीनेटर श्री अजय काला ने बताया कि ट्रेड विजिटर कुंदनमीना, पोलकी और जडाउं ज्वैलरी में काफी रूचि दिखा रहे हैं जिसे वे विभिन्न अवसरों पर पहन सकें। शो में मिलेनियल्स जनरेशन के लिए लाइटवेट में आर्टिस्टिक ज्लैवरी भी उपलब्ध है जो मार्डन एवं वेस्टर्न डिजाइंस के साथ सभी अवसरों पर पहनी जा सके। ये ज्वैलरी पीसेज गोल्ड के अतिरिक्त स्टर्लिंग सिल्वर, स्वरोस्की, जर्मन सिल्वर, जैम स्टोंस के कॉम्बिनेशन के साथ बनाई गई है।


जयपुर ज्वैलरी डिजाइन फेस्टिवल (जेजेडीएफ)
जयपुर ज्वैलरी डिजाइन फेस्टिवल (जेजेडीएफ) के तीसरे संस्करण में लोगों की काफी भीड उमड रही है। डिजाइनर आवृति जैन द्वारा रचनात्मक तरीके से तैयार किए गए डोम्स में लोग देश के महिला ज्वैलरी डिजाइनर्स द्वारा तैयार की गई कंटम्परेरी ज्वैलरी को पसंद कर रहे हैं। यहां एक विशेष आकर्षण है जहां लोग विभिन्न ब्रांडस की ज्वेलरी जयपुर की ऐतिहासिक हेरिटेज स्मारक हवामहल के इंस्टालेशन पर आग्मेंटेड रियल्टी मिरर्स के माध्यम से पहन कर देख सकतेे है। यहां लोगों के लिए शानदार लाईव म्यूजिक और पर्सनलाइज्ड स्कल्प्चर्स और टैक्सटाईल आर्ट ऑफ काईट विथ जैम्स कला का भी आनंद ले रहे हैं। यह फेस्टिवल जेजेेएस का अहम हिस्सा है।


डेली रैफल ड्रॉ
शनिवार शाम को जेजेएस का रैफल ड्रॉ जीजेसी के पूर्व अध्यक्ष, श्री नितिन खंडेलवाल ने निकाला। इस ड्रॉ के विजेता श्री रविन्द्र कुमार द्रोणा रहे। इस रैफल ड्रॉ के प्रायोजक जेजेएस था।


एक्जीबिटर्स इंडोलॉजी के जरिए बेच रहे ज्वैलरी
जेजेएस में इस बार नए फीचर के तौर पर भारत का सबसे बडा क्यूरेटेड ज्वैलरी एंड स्टाइल डेस्टिनेशन-इंडोलॉजी लाइव किया जा रहा है। टीवी द्वारा ज्वैलरी एग्जीबिटर्स अपने प्रोडक्टस् सीधे देश के विभिन्न हिस्सों में ऑनलाईन प्रदर्शित कर पा रहें हैं। इस चैनल के लाइव स्टूडियो के माध्यम से करीब 30 प्रोडक्ट हर रोज दिखाए जा रहे हैै।  चैनल के पांच मिलियन से ज्यादा दर्शको को बेचा जा रहा है।


पैनल डिस्कशनः 'कंपॉजिट इंपॉर्टेन्स ऑफ फैशन एंड सोशियल मीडिया ऑन द  ज्वैलरी इंडस्ट्री'
जेजेएस में रविवार को 'कंपॉजिट इंपॉर्टेन्स ऑफ फैशन एंड सोशियल मीडिया ऑन द  ज्वैलरी इंडस्ट्री' पर पैनल डिस्कशन आयोजित किया गया। इस अवसर पर ब्लॉगर प्रेरणा माखरिया ने कहा कि वर्तमान में आभूषण के प्रचार प्रसार में स्पष्ट बदलाव देखने को मिल रहा है। अब यह प्रिंट मीडिया से सोशल मीडिया की ओर शिफ्ट हो रहा है। कन्टेंट के बारे में बताते हुए, ज्वैलरी जर्नलिस्ट, प्रीता अग्रवाल ने कहा कि सोशल मीडिया पर कन्टेंट आकर्षक एवं जानकारीपूर्ण होना चाहिए। इसमें प्रोडक्ट की स्टोरी को भी शामिल करना चाहिए। फैशन ब्लॉगर, मेघा बजाज ने कहा कि ब्रांड्स को अपने प्रोडक्ट्स के लिए सही इन्फ्लुयेन्सर्स का चयन करना चाहिए और इन इन्फ्लुयेन्सर्स को सदैव अपनी स्टाईल के अनुरूप ही प्रोडक्ट का प्रमोशन करना चाहिए। ब्लॉगर, रेणु चौधरी ने कहा कि सोशल मीडिया ने ग्राहकों को यह जानने में मदद की है कि हीरे कैसे निर्मित और खनन किए जाते हैं। इस सैशन का संचालन वेडिंग स्टाइलिस्ट और ज्वैलरी डिजाइनर सुजाता भंडारी ने किया।


जेजेएस आयोजन स्थल तक लाने और वापस छोड़ने के लिए निःशुल्क शटल सुविधा उपलब्ध
जेजेएस के मीडिया कॉर्डीनेटर श्री अजय काला के अनुसार जेजेएस आयोजन स्थल तक लाने और वापस छोड़ने के लिए निःशुल्क शटल सुविधा उपलब्ध है। यह सुविधा सेन्ट्रल पार्क के गेट नं. 1 एवं 2 पर (प्रातः 9 बजे से दोपहर 4 बजे तक) और वापसी के लिए जेजेएस आयोजन स्थल पर (दोपहर 1 बजे से शाम 7 बजे तक) उपलब्ध है। इसके अतिरिक्त शो में आने वाले व्यापारियों व जौहरियों की सुविधा के लिए अलग से ''बिजनेस आवर्स'' है। हर वर्ष की तरह व्यापारियों की सुविधा के लिए प्रातः 10 से 1.00 बजे तक का समय (बी2बी) रखा गया है।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ