जेकेके में जैज म्यूजिक और राजस्थान ने जीता संगीत प्रेमियों का दिल


कार्यालय संवाददाता


जयपुर। जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में जयपुर के कलाप्रेमियों के लिए आयोजित 'विविधा-2' फेस्टिवल की सोमवार को शुरूआत हुई। फेस्टिवल के प्रथम दिन जयपुर के तपेश आर. पंवार के निर्देशन में इंडोवायरस बैंड ने विभिन्न वेस्टर्न म्यूजिक शैलियों के साथ राजस्थानी लोकगीतों का अनूठा फ्यूजन पेश कर संगीतप्रेमियों का दिल जीत लिया। कार्यक्रम में पियानो के संगीत के साथ राजस्थानी गानों की जीवंत परफोरमेंस सबसे बेहतरीन रही। कार्यक्रम के दौरान तपेश ने उपस्थित श्रोताओं को 'जीओ और जीनो दो' तथा 'नो मोर प्लास्टिक एंड गो ग्रीन का संदेश भी दिया। ___ युवा पीढ़ी को राजस्थान की पारंपरिक रचनाओं से रूबरू कराते हुए बैंड ने जिप्सी जैज संगीत शैली में 'हिचकी', बैलेड जॉनर में 'उमराव थारी बोली प्यारी लागे', एम्बियंट शैली में 'होली आई पियाजी रे देश', ब्लू जॉनर में 'नैना मोरे तरस गए जैसे राजस्थानी लोकगीतों को पिरोते हुए मनमोहक तरीके से पेश किया। प्रस्तुति देने वाले कलाकारों में तपेश आर पंवार (वोकल्स एंड परकशन), शेरोन जॉनसन (पियानो), अभिषेक गोस्वामी (गिटार), आर्डी (ड्रम्स), अर्नव (बैस गिटार) एवं प्रियांश 'फैट करंट' (बीट बॉक्सर) शामिल थे। साउंड व्यवस्था वरुण पाटिल ने और लाइट व्यवस्था सचिन लेले की रही। मंगलवार को होगी कन्टेम्परेरी डांस ड्रामा 'द चाइल्ड, द इंडियन डांस क्रिएशन्स' की प्रस्तुति फेस्टिवल के तहत मंगलवार, 17 दिसंबर को कन्टेम्परेरी डांस ड्रामा 'द चाइल्ड, द इंडियन डांस क्रिएशन्स की प्रस्तुति होगी। कोलकाता की तनुश्री शंकर के रुप यह नृत्य नाटिका पेश करेगा। उल्लेखनीय है कि 16 से 20 दिसंबर तक आयोजित होनेवाले इस पांच दिवसीय फेस्टिवल के दौरान अगले चार दिन कथक, ध्रुपद एवं कन्टेम्परेरी डांस ड्रामा की प्रस्तुतियां देखने को मिलेंगी। फेस्टिवल के सभी कार्यक्रम सायं 6.30 बजे मध्यवर्ती में होंगे। इस फेस्टिवल में दर्शकों के लिए प्रवेश निशुल्क रहेगा।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ