महावीर कैंसर अस्पताल में मशीनों का लोकार्पण प्रदेश में ऐसा जागरूक माहौल बनाया जाए कि लोग बीमार ही न हों: गहलोत


प्रदेश में ऐसा जागरूक जा रहे नए कार्यों और चिकित्सालय सुनाता गहलोत, कार्यालय संवाददाता जयपुर। भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र में रेडियेशन थैरेपी की नवीनतम मशीनों ट्रयूबीम एसटीएक्स, हैलसियोन लीनियर एक्सिलरेटर और ब्रेकीथैरेपी का उद्घाटन सोमवार 16 दिसंबर को राजस्थान के माननीय मुख्यमत्री एवं कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अशोक गहलोत ने किया। इस अवसर पर राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री एवं कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि डॉ. रघु शर्मा उपस्थित रहे। कैंसर रोग के उपचार में महत्वपूर्ण चिकित्सा पद्वति मानी जाने वाली रेडियेशन थैरेपी में इन मशीनों की सहायता से कैंसर की गांठ को चंद घंटों की थैरेपी से खत्म किया जा सकता है। रोगी को टारगेट थैरेपी देकर कैंसर रोग के पुनः होने की संभावना को भी कम किया जा सकता है। इस मौके पर सीएम अशोक गहलोत ने चिकित्सालय की ओर से कैंसर उपचार के क्षेत्र में लगातार किए जा रहे नए कार्यों और उपचार के लिए नवीन तकनीक के जुड़ाव की सराहना की। चिकित्सालय के रेडियोथैरेपी विभागाध्यक्ष डॉ निधि पाटनी ने बताया कि हाल ही में स्थापित इस तीसरे लिनियर एक्सिलेटरेटर ट्रयू बीम के माध्यम से बहुत ही सटीक और फोकस रेडियोथैरेपी मात्र एक से पांच दिनों में दी जा सकती है। समारोह में श्रीमति सुनीता गहलोत, चिकित्सालय के अध्यक्ष नवरतन कोठारी, वरिष्ठ उपाध्यक्षा अनिला कोठारी, ट्रस्टी श्री आशक (सेवानिवृत) भी मौजूदाण: इन संजय कोठारी, उपाध्यक्ष श्री संदीप कोठारी एवं कोषाध्यक्ष डॉ प्रेमसिंह लोढा एवं अधिशासी निदेशक मेजर जनरल एससी पारीक (सेवानिवृत) भी मौजूद थे। देश-विदेश में हुआ प्रशिक्षण: इन अत्याधुनिक तकनीकों से सटीक उपचार देने के लिय डॉ निधि पाटनी, डॉ तेज प्रकाश सोनी, डॉ नरेश जाखोटिया, डॉ दिनेश सिंह के साथ ही मेडिकल फीजिसिस्ट श्री सैंथिल कुमार और श्री नटराज एवं टेक्नोलॉजिस्ट श्री नोयल भी शामिल थे। उपचार सुविधाओं में होगा इजाफाः कार्यक्रम के दौरान चिकित्सालय के अध्यक्ष आने कार्यालय का उद्घाटन नवरतन कोठारी ने बताया कि चिकित्सालय आने वाले समय में कई अत्याधुनिक तकनीक अस्पताल में उपलब्ध करवाने की परियोजनाओं पर कार्य कर रहा है, जिन्हे आने वाले समय में शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। इनमें नवीनतम एमआरआई मशीन, 200 बैड का आईपीडी ब्लॉक, बोन मेरो ट्रांसप्लांट विंग, 64 स्लाइड पेट स्कैन, चिल्ड्रन कैंसर विंग और रोबोटिक सर्जरी शामिल है। साथ ही मुख्यमंत्री गहलोत साहब द्वारा निरंतर मिल रहे सहयोग एवं सहयताओं के लिये धन्यवाद किया। समारोह में चिकित्सालय के अधिशासी सेव द चिल्ड्रन की कार्यशाला में निदेशक मेजर जनरल एससी पारीक (सेवानिवृत) ने बताया कि अंतरास्ट्रीय मापदंडो पर हर साल 30 हजार से ज्यादा कीमो थैरपी व इम्यूनोथैरपी दी जाती है। शैल्य क्रिया में माइक्रो वेस्कुलर सर्जरी से फ्लैप रिकंस्ट्रक्शन किया जाता है। ऑटोलोगस ग्राफ्ट से स्तन पुनर्निर्माण एवं लिंब सेविंग सर्जरी की जाती है। चिकित्सालय द्वारा अंतर्राष्ट्रीय रोगियों का भी इलाज किया जा रहा है। राजस्थान में केवल चिकित्सालय के पास ही सेंटिनल नोड बायोप्सी, ल्युटेसियम थैरपी, फ्लो साइटोंमेटरी एवं रेडियो आयोडीन थैरपी बालिकाओं ने उठाये मुद्दे उपलब्ध है। चिकित्सालय निरंतर आमजन में कैंसर जागरूकता एवं कैंसर रोग की जल्द पहचान के लिए जांच शिविर पर कार्यरत हैं हाल ही में चिकित्सालय ने आयुष्मान भारत योजना भी शुरू कर दी है। साथ ही अधिषासी निदेषक ने समारोह में उपस्थित राज्य स्वास्थ्य मंत्री से जनता क्लिनिक /पी एच सी/सी एच सी एवं डी एच के समस्त डॉक्टर व नर्सिंग कर्मचारियों को कैंसर की जल्द पहचान पर प्रशिक्षण देने एवं प्रदेश में आमजन को नुक्कड़ नाटक द्वारा जागरूक करने का प्रस्ताव भी रखामशीनों की जानकारी ट्रयू बीम एसटीएक्स लीनियर एक्सीलरेटरः ट्रयू बीम एसटीएक्स मशीन छः से सात सप्ताह के रेडियेशन उपचार को मात्र एक से पांच दिनों में करने में सक्षम हैं। इसे स्टिरियोटैक्टिक रेडियेशन तकनीक कहते हैं जो कि उपरोक्त मशीन में हैं। यह राजस्थान की पहली व एकमात्र मशीन हैं। हैलसियोन लीनियर एक्सीलरेटरः यह उत्कृष्ट मशीन रेपिड आर्क एवं आईजीआरटी जैसा उपचार करने में सहायक हैं। इस मशीन की क्षमता अधिक होने के कारण कम समय में अधिक मरीजों को लाभ मिल सकेगा उपचार के दौरान रोगियों को होने वाले नकारात्मक प्रभाव न्यूनतम होंगे। यह राजस्थान की पहली व एकमात्र मशीन हैं। ब्रेकीथैरेपी: यह मशीन स्त्री कैंसर रोग सम्बन्धी समस्याओं के उपचार में आवश्यक हैं।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी