नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में भाजपा का विशाल पैदल मार्च व धरना-प्रदर्शन


जयपुर, 20 दिसम्बर। भाजपा ने नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में आज विशाल पैदल मार्च निकाला। यह पैदल मार्च भाजपा मुख्यालय से शहीद स्मारक होते हुए सिविल लाइन फाटक पहुंचा। भाजपा द्वारा निकाले गए इस पैदल मार्च व धरना-प्रदर्शन में भाजपा के तमाम दिग्गज शामिल हुए। जिनमें केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, गजेन्द्र सिंह शेखावत, कैलाश चैधरी पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां, प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. अरुण चतुर्वेदी, अशोक परनामी, प्रतिपक्ष उपनेता राजेन्द्र राठौड़, प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा, वीरमदेव सिंह, प्रदेश मंत्री मुकेश दाधीच, पूर्व सांसद ओंकार सिंह लखावत, पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी, पूर्व विधायक ज्ञानदेव आहूजा समेत हजारों की संख्या में पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल हुए। भाजपा के इस विशाल पैदल मार्च और धरना-प्रदर्शन में हजारों की संख्या में कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।
केन्द्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा को पुराने रोग ठीक करने के लिए ही लाया गया है। इस दौरान उन्होंने धारा 370, राम मंदिर, तीन तलाक और नागरिकता संशोधन कानून जैसे पुराने रोगों को देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने ठीक किया है।
प्रसाद ने कहा कि एनआरसी बिल के प्रस्ताव हिंदुस्तान की जनता में बड़ा उत्साह है। एनआरसी बिल, तीन तलाक, धारा 370, राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आदि निर्णय उच्च स्तर के हुए हैं, जिनको लेकर जनता में विशेष उत्साह है। तीन तलाक से मुस्लिम बहन-बेटी जो परेशान हो रहीं थी उनका मोदी सरकार सहारा बनी है।
प्रसाद ने कहा कि पाक, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक आधार पर हिंदुओं को प्रताड़ित किया जाता है, उनको हमने नागरिकता देने का प्रयास किया है। वहां के मुस्लिम को यहां नागरिकता की जरूरत नहीं है, भारत का मूल निवासी चाहे हिंदू हो, मुस्लिम हो, सिख हो, इसाई हो या और कोई संप्रदाय का हो हमको नागरिकता से हमें कोई ऐतराज नहीं।
वहीं प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस वोट की राजनीति करती है, बंटवारे की राजनीति करती है हम वोट की राजनीति नहीं करते, हम लोगों को जोड़ने की राजनीति करते हैं। जो विभाजन की राजनीति करते हैं, जो लोगों में भ्रम फैलाते हैं, भ्रम को दूर करने के लिए आप जाएं और नीचे स्तर तक इस आंदोलन को लेकर जाएं और लोगों को समझाएं और इसका करारा जवाब दें।
प्रसाद ने कहा कि हम भाजपा वाले हैं हम देश के लिए जीते हैं और कुछ लोग वोट के लिए जीते हैं, यह हममें अंतर हैं। आज हमारी सरकार है किसी को गोली नहीं लगी और जो अलगाववाद की बातें करते हैं, वो आज जेल की हवा खा रहे हैं। 370 के बाद आज कश्मीर की जनता खुश है। कश्मीर भारत का गौरवशाली अंग हैं। उन्होंने कहा कि राम मंदिर का फैसला सर्वसम्मति से आया है। बेबुनियादी बातों का जवाब देना जरूरी है। देश का विभाजन धर्म के आधार पर होना गलत था।
प्रसाद ने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उस समय नेहरू और लियाकत अली खान के मध्य एक पैक्ट हुआ था कि पाकिस्तान में हिंदु शरणार्थियों का सम्मान किया जाएगा और हिंदुस्तान में पाकिस्तान से जो शरणार्थी आए हैं, उनका सम्मान किया जाएगा और भाजपा ने इनका सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि आज मुस्लिम हमारे देश में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, न्यायाधीश बनने पर अच्छा लगता है, उन्हें सम्मान देते हैं और आगे भी देते रहेंगे।
प्रसाद ने कहा कि जनता ने हमें सरकार चलाने के लिए चुना हैं और कहा कि भाजपा द्वारा दी गई सुविधाओं में सभी को समान अधिकार दिया हैं, किसी भी अल्पसंख्यक को इससे अलग नहीं रखा। पूर्व सीएम और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे का जिक्र करते हुए कहा कि वसुन्धरा राजे जब राजस्थान की सीएम थी तब उन्होंने अल्पसंख्यकों के लिए कई कार्य किए। नागरिकता संशोधन कानून हिंदुस्तान के किसी नागरिक पर लागू नहीं है। यह लागू होता है वैसे हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, पारसी, बौद्ध जो अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में आस्था और धर्म के कारण प्रताड़ित होकर देश में आ रहे हैं। विरोध करने वालों ने कभी विस्थापितों की पीड़ा नहीं देखी है। नागरिकता संशोधन कानून को एनआरसी से जोड़ना गलत है। एनआरसी अलग है इसके बारे में अलग ढांचा बनेगा उसी अलग प्रक्रिया होगा और आवश्यकता पड़ी तो अलग से चर्चा भी होगी। लेकिन विरोधियों द्वारा दोनों को जोड़ने की कोशिश की जा रही है।
लोकतंत्र में हर व्यक्ति को विरोध करने का अधिकार है, जिसका हम सम्मान करते हैं। लेकिन जो देश को तोड़ने की बात करेगा, टुकड़े टुकड़े गैंग बनेगा जो कभी बर्दाश्त नहीं होगा, ऐसे लोग हिंसा करेंगे तो उन पर सख्त कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि यह 1947 का हिंदुस्तान नहीं है, यह 2019 का हिंदुस्तान है, हम लोगों अब बहुत मजबूत हैं। उन्होंने गहलोत से सवाल करते हुए कहा कि हमे चाहिए आजादी अशोक गहलोत, राहुल गांधी और सोनिया गांधी का क्या कहना है?
1971 में जब बांग्लादेश बना था, तब लाखों लोगों को नागरिकता मिली थी। उस दौरान इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री थी, जब श्रीलंका के विस्थापित आए थे तब राजीव गांधी ने 3-4 लाख लोगों को नागरिकता दी थी। नेहरू, इंदिरा और राजीव गांधी करे तो ठीक लेकिन मोदी और शाह करते तो गलत। हिंदुस्तान को कोई कमजोर नहीं कर सकता। आज मोदी और शाह की वजह से हिंदुस्तान की इज्जत पूरी दुनिया में बहुत आगे बढ़ी है। उन्होंने कहा कि जब वोट की बात आती है तो राहुल गांधी मंदिर चले जाते हैं। लेकिन भाजपा का एक ही लक्ष्य है भारत को दुनिया की सबसे बड़ी ताकत बनाना।
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन में आए हजारों विस्थापित, भाजपा कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधियों एवं आमजन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की सरकार यह वर्षगांठ नहीं, बरसी है। उन्होंने ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक का अशोक गहलोत, उनकी सरकार और कांग्रेस विरोध कर रही है, क्योंकि मोदी जी एवं अमित शाह ने सरकार में आते ही, अपने किए वादों को पूरा करना शुरू किया, चाहे ट्रिपल तलाक हो, धारा 370 हो, राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करना हो इससे बौखला कर कांग्रेस नागरिकता संशोधन विधेयक के नाम पर देश में अशांति फैलाना चाहतीे है, किंतु इनके यह मंसूबे कभी पूरे नहीं होंगे। कांग्रेस एड़ी से चोटी तक कितना ही विरोध कर ले, भारत की जनता ने इनको वैचारिक रूप से विदाई दे दी है। इस देश में आजादी के साथ सभी धर्मों के लोग चाहे हिंदू हो, मुस्लिम हो, सिख हो, ईसाई हो, बौद्ध हो, जैन हो इस सरजमी पर सुख और शांति के साथ रहते हैं।
डाॅ. पूनियां ने कहा कि इस देश में मुसलमानों को रहने का पूरा अधिकार है। कांग्रेस उनमें भय फैलाकर उनसे हिंसा करवा रही है। इस देश के सभी राष्ट्रभक्त मुसलमान एपीजे अब्दुल कलाम और अशफाक उल्ला खां की तरह उन्हें इस देश में रहने का पूरा अधिकार है।
डाॅ. पूनियां ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान से आए हजारों विस्थापित दलित और आदिवासी बंधु भी यहां उपस्थित हैं, जिनके आंसू पौंछने का काम भाजपा की सरकार करती आई है। मैं हृदय से धन्यवाद देना चाहूंगा, विस्थापित बंधुओं की तरफ से हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का जिन्होंने उनकी पीड़ा को समझा और नागरिकता कानून की जटिलताओं को संशोधन द्वारा दूर कर उनकी नागरिकता प्राप्त करने का रास्ता आसान किया। जब राजस्थान में भाजपा की सरकार थी उस समय यहां भी उनकी मदद हमारी सरकार ने ही की थी। उन्होंने ने गहलोत सरकार को चेतावनी देते हुए कहा नागरिकता संशोधन कानून की प्रक्रिया जल्द से जल्द राजस्थान में प्रारंभ की जाए और विस्थापितों को नागरिकता जल्द से जल्द दी जाए, नहीं तो यहाँ उपस्थित जनता के सैलाब को देखकर लगता है, फिल्म का ट्रेलर ही इतना जबरदस्त है, तो फिल्म जब पूरी होगी अशोक गहलोत अपने बोरी-बिस्तर बांध कर भाग लेंगे।
सभा को संबोधित करते हुए पूर्व सीएम और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे ने जोधपुर से आए हुए पाक विस्थापित लोगों को एवं सभी कार्यकर्ताओं को बधाई दी। उन्होंने कहा कि धार्मिक अल्पसंख्यक से जो प्रताड़ित है, उनकी नागरिकता के लिए यह बिल हम लाए हैं। पाक विस्थापित से जब-जब बात होती थी तो उनकी बात सुनकर आंखों में आंसू आते थे। अटल जी के समय भी हम इनकी पीड़ा लेकर गए थे तब उन्होंने हमें वादा किया था कि हम मदद करेंगे।
राजे ने कहा कि पाक विस्थापितों के बच्चे जब स्कूल, काॅलेज, हाॅस्पिटल नहीं जा सकते तो हम लड़-झगड़ कर हमने यह सुविधा फार्म के माध्यम से यह सुविधा दिलवाई। लाॅन्ग टर्म वीजा, शार्ट टर्म वीजा में परिवर्तन करने का काम हमने करवाया और कोशिश की विस्थापितों की फीस को आधा करने का काम करवाया था। वर्ष 2004 से 2007 तक हमने 13 हजार लोगों को नागरिकता देने का काम किया था। आज उनका सपना पूरा हुआ है उनके लिए हम नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद देना चाहते हैं।
केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका दौरे के दौरान इस समस्या से निजात दिलाने की घोषणा की थी और संसद में इस विषय पर चर्चा हो रही थी, उस दौरान मैंने भी विस्थापितों का दर्द लोकसभा में रखा। उन्होंने कहा कि विस्थापितों को धर्म के आधार पर प्रताड़ित किया जाता था और इन विस्थापितों के दर्द को समझते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह ने मरहम लगाने का काम किया और नागरिकता संशोधन कानून लागू किया। उन्होंने कहा कि विस्थापितों द्वारा हिंदुस्तान में आने पर भी उन्हें कष्ट झेलने पड़ते हैं और 7 साल बाद वह नागरिकता का आवेदन करने के लायक होता था।
शेखावत ने कहा कि भारत में जो मुस्लिम रह रहे हैं वह सम्मान के साथ रह रहे हैं और बराबर का अधिकार दिया है। लेकिन घुसपैठियों और वैध दस्तावेजों से भारत में आए हैं, इन दोनों को एक नजर से बराबर देखने का काम भाजपा की सरकारें कभी नहीं करती है। लेकिन राजनैतिक संरक्षण के चलते उन्हें वोट का अधिकार भी दे दिया गया और वो आज वहां के लोकतंत्र को प्रभावित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान, पश्चिम बंगाल और मध्यप्रदेश की सरकार कहती हैं कि नागरिकता संशोधन कानून को लागू नहीं करेंगे, वो यह कहते हैं कि कलेक्टर के द्वारा नागरिकता दी जाएगी। कलेक्टर राज्य सरकार के अधीन काम कर रहे हैं, जब तक कलेक्टर को निर्देश नहीं करेंगे तब तक नागरिकता का सर्टिफिकेट जारी नहीं होगा। उन्होंने कहा कि यह अधिकार कलेक्टर के पास नहीं, यह भारत सरकार के पास है। जिस दिन राजस्थान की सरकार रोकने का प्रयास करेगी इनकम टैक्स, कस्टम के अधिकारी को अधिकार दे देंगे कि ऐसे सारे लोगों को कैंप लगाकर उन्हें नागरिकता दी जाए तक कोई भी किसी हालत में नहीं रोक सकता है।
केन्द्रीय मंत्री कैलाश चैधरी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि आज हम सबके लिए बहुत ही खुशी का दिन है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह द्वारा लिए गए ऐतिहासिक फैसले का आभार जताया। उन्होंने कहा कि बाड़मेर हो, जैसलमेर हो या पूरा देश हो ऐसे नागरिक जिनको पाकिस्तान, अफगानिस्तान या बांग्लादेश जिनको धार्मिक उत्पीड़न दी गई हो और उन्हें वहां से अपनी जान बचाकर निकलना पड़ा, आज उनके लिए यह स्वर्णिम दिन है। क्योंकि उनको यहां आने के बाद नागरिकता नहीं मिल रही थी और इस कानून के तहत उन्हें आने वाले समय में यहां रहने का अधिकार मिल जाएगा, उन्होंने कहा कि विस्थापितों का दुख मैंने देखा है।
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने कानून बनाकर विस्थापितों को एक नई जिन्दगी देने की पहल की। जो लोग इस कानून का विरोध कर रहे है वे एक बार विस्थापितों का जीवन जीकर देखे कि कितना शारीरिक, मानसिक पीड़ा होती है और कितना शर्मनाक जीवन जीना पड़ता है। उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चेतावनी देते हुए कहा कि एक बार आप उन विस्थापितों का जीवन जीके देखों, आप सिर्फ वोट बैंक के खातिर इस कानून को प्रदेश में लागू होने से रोक रहें है, यह प्रदेश की जनता बर्दाश्त नहीं करेंगी। संविधान के तहत ही आप मुख्यमंत्री हो और संविधान की रक्षा करना आपका कत्र्तव्य है और आप देश के कानून को आप यहां लागू करने से मना करते हो, यह कहां का संविधान है।
भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि विस्थापित लोग पहले मीडिया के सामने आने से डरते थे कि कहीं पाकिस्तान हमकों देख लेगा तो वहां हमारे लोगों को परेशान किया जायेगा, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी जी और गृहमंत्री अमित शाह जी ने नागरिक संशोधन कानून बनाकर उनके सम्मान बढ़ाया तथा सम्मानपूर्वक जीने का मार्ग प्रदर्शित किया और आज इस प्रदर्शन मंे सैकड़ों विस्थापितों ने इस कानून के समर्थन में भाग लिया, वे सभी एवं कार्यकर्ता धन्यवाद के पात्र है।    


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी