आईएमएफ और गीता गोपीनाथ को मोदी सरकार के हमले के लिए तैयार रहना चाहिए


नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट 4.8% रहने का अनुमान जताया है। इस पर पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि अब आईएमएफ और गीता गोपीनाथ को मोदी सरकार के हमले झेलने के लिए तैयार हो जाना चाहिए। चिदंबरम ने यह भी कहा, "आईएमएफ को 4.8% ग्रोथ रेट देने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। मुझे कोई आश्चर्य नहीं होगा, अगर ग्रोथ रेट इससे नीचे रहे।" हालांकि गीता गोपीनाथ ने यह भी कहा था कि कॉर्पोरेट टैक्स दर में कटौती के चलते अगले साल भारत की अर्थव्यवस्था में सकारात्मक असर दिख सकता है। आईएमएफ ने सोमवार को चालू वित्त वर्ष (2019-20) में भारत की जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 1.3% घटाकर 4.8% कर दिया है। अक्टूबर में 6.1% का अनुमान जारी किया था। आईएमएफ लगातार 9वीं एजेंसी है जिसने जीडीपी ग्रोथ का अनुमान कम किया है। एसबीआई और फिच के 4.6% के अनुमान के बाद आईएमएफ का अनुमान सबसे कम है।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ