भाजपा संबित ने दूसरा वीडियो ट्वीट कर प्रदर्शन में देश विरोधी भाषणों का दावा किया


नई दिल्ली


(एजेंसी)। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शाहीन बाग में नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन पर स पर सवाल उठाया। उन्होंने सोमवार को कहा कि शाहीन बाग में लोग सिर्फ मोदी का विरोध कर रहे हैं। वहां प्रदर्शनकारी एंबुलेंस को निकलने नहीं देते। बच्चों को स्कूल नहीं जाने दिया जा रहा। लोगों को दफ्तर जाने से रोका जा रहा है। वहां कुछ हजार लोग भारत को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। इस मामले पर राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल खामोश हैं। वे वहां क्यों नहीं जाते। दूसरी ओर, भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने रविवार रात दूसरा वीडियो ट्वीट किया उन्होंने दावा किया कि शाहीन बाग में लोगों को भड़काने के लिए देश विरोधी भाषण दिए जा रहे हैं।


कांग्रेस जिन्ना को भारतीय राजनीति में ले आई: रविशंकर उन्होंने कहा, सुना है कि जिन्ना भी भारतीय राजनीति में आ गए हैं। शशि थरूर कह रहे हैं कि सीएए लागू करने से जिन्ना के विचारों की जीत होगी। कांग्रेस इस पर जवाब दे। आपका पाकिस्तान प्रेम कौतूहल का विषय है। अब देश का बंटवारा नहीं होने दिया जाएगा। अफगानिस्तान में पहले 5 लाख सिख रहते थे। अब 200:300 रह गए हैं। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ 15 दिसंबर से प्रदर्शन चल रहा है।


रविशंकर ने कहा, हम लगातार बता रहे हैं कि सीएए नागरिकता छीनता नहींए बल्कि देने का काम करता है। हमने आश्वस्त किया था कि भारतीय मुस्लिम हमेशा भारत में रहेंगे। इस कानून की किसी भी एक धारा को लेकर कोई आपत्ति नहीं जताई गई। आप कहते हैं कि हम लोकतंत्र में विश्वास करते हैंए जबकि इसे लोकतांत्रिक तरीके से ही दोनों सदनों से पारित किया गया। दोनों सदनों में इस पर बहस हुईए मतदान हुआ और पारित किया गया। कोर्ट ने चार हफ्ते में हमसे जवाब मांगा है और हम उन्हें अवगत कराएंगे। पहले की कांग्रेस सरकार ने ही एनपीआर लागू करने की बात कही थी। हमने क्या नया किया।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी