जमीन का उचित मुआवजा मांग रहे किसानों का समाधि सत्याग्रह, सांसद समेत 101 लोगों ने गड्ढों में ही सर्द रात बिताई


निजी संवाददाता


दौसा। दौसा के पास लाडली का बास गांव में 101 किसानों का जमीन समाधि सत्याग्रह शुक्रवार को दूसरे दिन भी जारी है। सांसद किरोड़ी लाल मीणा के साथ बीती रात किसानों ने खुले में ही बिताई। सुबह डॉक्टरों की टीम ने आंदोलनरत किसानों का मेडिकल चैपकअप किया। दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस हाइवे के लिए अधिग्रहण की गई भूमि का बाजार दर पर मुआवजा नहीं मिलने से किसान आंदोलन कर रहे हैं। किसानों ने गुरुवार को राज्यसभा सांसद डॉ. किरोडी लाल मीणा के नेतृत्व में अनिश्चित कालीन जमीन समाधि सत्याग्रह शुरू किया है। प्रदेश किसान संघर्ष समिति के संयोजक हिम्मत सिंह गुर्जर ने कहा कि सरकार हमारी सुन नही रही है। हमें मजबूर होकर यह कदम उठाना मानसित पड़ा है|


किसानों के हक के लिए कंधे से कंधा मिलाकर लड़ेंगे: इससे पहले गुरुवार को किसानों ने हाइवे के लिए अधिग्रहित खेतों में बैठक आयोजित की जिसमें हजारों महिला-पुरुषों शामिल हुए। बैठक में डॉ. किरोड़ी ने कहा कि जब तक किसानों की जमीन का मुआवजा नहीं मिलेगा तब तक सत्याग्रह जारी रहेगा। साथ ही, सरकार रात में सप्लाई बंद कर किसानों को दिन में बिजली दे। वीसीआर के नाम पर किसानों के साथ लूट की जा रही है, इसे बंद किया जाए। सांसद ने कहा कि किसानों के हक की लड़ाई के लिए कंधे से कंधा मिलाकर साथ देंगे। इसके बाद सांसद के नेतृत्व में किसान जमीन समाधि सत्याग्रह पर बैठ गए।


जेसीबी मशीन से खुदवाए गड्डे: किसानों ने जेसीबी मशीन मंगवाकर 101 गड्ढे तैयार करवाए हैं। यहां 31 महिलाओं समेत 70 किसानों ने सांकेतिक तौर पर जमीन समाधि ली हुई है। इस दौरान महिलाएं गोद में छोटे बच्चे भी साथ लेकर जमीन के अन्दर बैठी हैं। समाधि स्थल के चारों तरफ भीड़ उमड़ रही है। किसानों ने महिला और बच्चों के साथ जमीन समाधि ली है जिसे देखने के लिए आई भीड़ को रोकने के लिए कार्यकर्ताओं और किसानों के साथ पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी