जयपुर में आक्रोश रैली में बोले राहुल गांधी मोदी सरकार में देश की ग्रोथ रेट 9% से घटकर 5% हुई, 1 करोड़ युवाओं ने रोजगार खोया


कार्यालय संवाददाता


जयपुर। युवा आक्रोश रैली में राहुल गांधी ने कहा पिछले साल देश के एक करोड़ युवाओं का रोजगार छिन गया, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी इस पर मौन हैं। सीएए, एनआरसी और एनपीआर पर लंबे भाषण देने वाले मोदी इस मुद्दे पर कुछ नहीं बोलते। जयपुर के अल्बर्ट हॉल में आयोजित सभा में राहुल ने कहा कि यूपीए सरकार के समय देश की ग्रोथ रेट 9% थी, जो अब घटकर5% रह गई। उन्होंने कहा कि हम गरीबों को पैसा देते थे, जिससे बाजार की खपत बढ़ती थी और ग्रोथ होती थी, लेकिन मोदी ने इकोनॉमिक्स नहीं पढ़ा, इसलिए उन्हें यह बात समझ नहीं आती। राहुल ने कहा- हर देश के पास कोई न कोई पूंजी होती है। अमेरिका के पास हथियार, सबसे बड़ी नेवी, एयरफोर्स और आर्मी है। सऊदी के पास तेल है। हिंदुस्तान के पास करोड़ों युवा हैं। आज में दुख से कहता हूं कि 21वीं सदी का हिंदुस्तान अपनी पूंजी को बर्बाद कर रहा है। जो आप इस देश के लिए कर सकते हैं, उसे सरकार और हमारे पीएम होने नहीं दे रहे हैं। उन्होंने कहा- आज हिंदुस्तान का युवा कॉलेज स्कूल में जाकर पढ़ता है, लेकिन पढ़ाई के बाद उसे रोजगार नहीं मिलता। हमारे पीएम जहां भी जाते हैं, एनआरसी सीएए और एनपीआर की बात करते हैं। इस समस्या पर पीएम एक शब्द नहीं बोलते।


मोदी सरकार के वक्त आर्थिक हालात बदतर: मोदी सरकार के दौरान देश के आर्थिक हालात पर राहुल गांधी ने कहा- यूपीए के समय देश की ग्रोथ रेट 9% थी। पूरी दुनिया हिंदुस्तान की तरफ देख रही थी। अब जहां जीडीपी नई तरीके से नापी जाती है, तो वह घटकर 5% फीसदी रह गई हैअगर यूपीए के तरीके से नापें, तो यह 2.5%ही है। यूपीए के समय हम पैसा गरीबों को देते थे। हिंदुस्तान के गरीब लोग माल खरीदते थे, तो फैक्ट्रियां चालू हो जाती थींउन्ही फैक्ट्रियों में रोजगार मिलता था और इन्वेस्टमेंट आता था। नरेद्र मोदी इकॉनोमिक्स नहीं पढ़ें हैं, इसलिए समझते नहीं हैं।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन