राज्य सरकार की नाकामियों ने ली 107 बच्चों की जान - आप

-- 35 दिनों बाद कोटा का दौरा कर घड़ियाली आंसू बहाकर अपनी नाकामियों पर पर्दा ना डाले उपमुख्यमंत्री


-- चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा को तत्काल बर्खास्त करें राज्य सरकार


जयपुर। प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्था पर पहली बार उंगली नही उठ रही है बल्कि है यह पिछले 1 साल से चल रहा है और पूर्वर्ती सरकार में भी चलते आ रहे है किंतु ना पूर्वर्ती भाजपा सरकार ने चिकित्सा व्यवस्था पर कभी ध्यान दिया और ना वर्तमान और पूर्वती काँग्रेस सरकार ने प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्था पर ध्यान दिया। पिछले 35 दिनों 107 मासूम बच्चों ने चिकित्सा व्यवस्था की बदहाली के चलते दम तोड़ दिया। उसके बावजूद प्रदेश की कांग्रेस सरकार है कि राजनीति करने से बाज नही आ रही है और केवल खुद की नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए तरह-तरह के प्रोपोगंडे रचकर मात्र बयानबाजी कर रहे है।


शनिवार को राज्य के उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने पूरे 35 दिनों और 107 बच्चों की मौत के बाद कोटा जाने की सूद ली और अब खुद की सरकार पर सवाल खड़े कर खुद की लाचारी दर्शा कर केवल मात्र घड़ियाली आंसू बहाकर खुद की पार्टी और सरकार की नाकामियों पर पर्दा डाल रहे है। आम आदमी पार्टी राज्य सरकार की मासूम बच्चों की मौत की जा रही राजनीति की घोर निंदा करती है और राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट से मांग करती है कि वह राज्य के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा से तुरंत प्रभाव से इस्तीफा लेकर राज्य की चिकित्सा व्यवस्था को दुरुस्त करने का काम करे एवं दिवंगत 107 बच्चों के माता-पिताओं से मांफी मांगे एवं मुआवजा देने का कार्य कर उन्हें सांत्वना प्रदान करे।


आम आदमी पार्टी यूथ विंग प्रदेश संगठन सचिव अभिषेक जैन बिट्टू ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार राज्य की जनता को लगातार अव्यवस्थाओं का तोफा देकर उन्हें प्रताड़ित करने का लगातार काम कर रही है। एक तरफ राज्य के मुख्यमंत्री पूर्व में ऐसी घटनाओं का हवाला दे रहे है और दूसरी तरफ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट घड़ियाली आंसू बहाकर खुद की पार्टी और सरकार को सवालों के घेरे में खड़ा कर रहे है। क्या प्रदेश में कांग्रेस की सरकार इतनी लाचार है कि वह सत्ता में रहकर लोगो को इंसान तक देने का काम नही कर पा रही है।
अभी कुछ माह पूर्व में भी डेंगू जैसे गंभीर मामले में राज्य सरकार की नाकामियां प्रदर्शित हुई थी उसके बाद अब कोटा के जेके लोन अस्पताल में 107 बच्चों की मौत पर केवल तमाशा देख रही है। 


अभिषेक जैन बिट्टू ने कहा कि डेंगू और कोटा के जेके लोन अस्पताल में हुई मौत केवल राज्य सरकार की नाकामी है जो केवल सत्ता का सुख तो भोगना चाहते है लेकिन प्रदेश की जनता को सुविधा देना नही चाहते है। इससे अच्छा है राज्य सरकार को इस्तीफा देकर राज्य को अपने हाल पर झोड देना चाहिए।
प्रदेश में सरकार के होते हुए भी प्रदेश भगवान भरोसे चल रहा है। 


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ