उद्यमों के सशक्तिकरण में अधिकारी बनेंगे सहभागी, औद्योगिक विकास का बनेगा रोडमेपः अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग


जयपुर। राज्य के एमएसएमई सेक्टर सहित उद्यमों के सशक्तिकरण और विस्तारिकरण में उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारी सहभागी बनेंगे। अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने विभागीय अधिकारियों को इसके लिए रिसर्च, औद्योगिक प्रतिष्ठानों सहित संबंधित संस्थानों की फिल्ड विजिट, केन्द्र व राज्य सरकार के संबंधित विभागों से समन्वय और डेटाबेस बनाते हुए रोडमेप बनाने का निर्देश दिए हैं। एसीएस उद्योग डॉ. अग्रवाल मंगलवार को उद्योग विभाग में विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक ले रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में विद्यमान उद्यमों को मजबूत बनाने, उनकी समस्याओं को समझने, केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ उन तक पहुंचाने और प्रदेश में नए उद्यमों की स्थापना में विभागीय अधिकारियों को सक्रिय सहभागिता निभानी होंगी। उन्होंने बताया कि इसके लिए विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को सेक्टरवाइज प्रभारी अधिकारी बनाया जा चुका है। प्रभारी अधिकारियों और ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टमेंट प्रमोशन के अधिकारियों के बीच समन्वय स्थापित किया जाएगाडॉ. अग्रवाल ने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों को उद्यमों के लिए प्रमोटर की भूमिका में आना होगा। उन्होंने कहा कि इसी को ध्यान में रखते हुए विभागीय अधिकारियों को सेक्टरवाइज प्रभारी बनाकर जिम्मेदारी सौंपी गई हैआयुक्त उद्योग श्री मुक्तानन्द अग्रवाल ने बताया कि सेक्टर विशेषज्ञ प्रभारी बनाने से इन क्षेत्रों के उद्यमों के विस्तार और नवाचारों को बढ़ावा दिया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि इससे भावी संभावनाओं को भी चिन्हित कर कार्य योजना बनाने में सहयोग मिलेगा। उन्होंने बताया कि उद्योग विभाग व बीआईपी के अधिकारी परस्पर सहयोग से कार्य योजना बनाएंगे और बीआईपी प्रमोशनल गतिविधियां संचालित करते हुए औद्योगिक विकास में भागीदार बनेगी।


उद्योग आयुक्त ने बताया कि विभाग के 14 अधिकारियों को अलग अलग सेक्टर प्रभारी बनाकर जिम्मेदारी दी है। श्रीअविन्द्र लढ्डा को केमिकल्स, श्री संजीव सक्सैना को लवण, श्री आरके आमेरिया को होटल व हॉस्पिलिटी, वाईएन माथुर को वस्त्र, एसएस शाह को हस्तशिल्प, योगेन्द्र गुरनानी को लघु खाद्योत्पाद, सीबी नवल को खान एवं खनिज, पीआर शर्मा को सामाजिक आधारभूत संरचना और लॉजिस्टिक, संजय मामगेन को इंजीनियरिंग गुड्स, पीएन शर्मा को कृषि, खाद्य प्रसंस्करण और डेयरी, चिरंजी लाल को लेदर, धर्मेन्द्र पूनिया को इलेक्ट्रोनिक्स गुड्स, श्रीमती निधि शर्मा को परिधान, राजीव गर्ग को इंजीनियरिंग गुड्स संरचना में सहयोग और बालेन्द्र सिंह को सामाजिक आधारभूत संरचना में सहयोग व स्वयं सहायता समूह निर्माण का प्रभारी बनाया गया है।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ