उत्तर प्रदेश : अमित शाह ने कहा.. सीएए के खिलाफ राहल.ममता. अखिलेश. मायावती ब्रिगेड कांव-कांव कर रही है सीएए का विरोध


एजेंसी


लखनऊ। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह मंगलवार को उत्तर दौरे पर हैं। उन्होंने लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में रैली की। कानून के समर्थन में रैली की। उन्होंने कहा- मैं देश को बताना चाहता हूं कि सीएए के खिलाफ दुष्प्रचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा- सीएए के खिलाफ राहुल बाबा, ममता, अखिलेश, मायावती समेत सारी ब्रिगेड कांव-काव कर रही है। मैं लखनऊ की भूमि से डंके की चोट पर कहने आया हूं कि जिसे विरोध करना हो करे, सीएए वापस नहीं होगा। सीएए के समर्थन में शाह की यह छठी रैली है। इससे पहले वे अहमदाबाद, जोधपुर, नई दिल्ली, जबलपुर, वैशाली में जनसभाएं कर चुके हैं। शाह ने कहा- मैंने इस बिल को लोकसभा में पारित किया: 'राहुल बाबा, अखिलेश, ममता जी, बहन जी सार्वजनिक चर्चा के लिए तैयार हूं। अल्पसंख्यक छोड़ दीजिए, किसी की भी नागरिकता चली जाए यह बता दीजिए। देश में कांग्रेस, सपा, बसपा और तृणमूल धरने और दंगे करवा रहे हैं। सीएए में किसी की नागरिकता छीनने का नहीं बल्कि नागरिकता देने का प्रावधान है।'


'पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में करोड़ो लोग रह रहे हैं, वहां अब अत्याचार हो रहा हैमैंने उनके दर्द को सुना है। सामूहिक बलात्कार किया जाता है। जबरन निकाह, धर्म परिवर्तन कराया जाता है। हजारों मंदिरगुरुद्वारे तोड़े जाते हैं। अफगानिस्तान में भगवान बुद्ध के पुतले को गोले दागकर जीर्ण शीर्ण करने का पाप हुआ है।' 'अभी-अभी संसद का सत्र था। नरेंद्र मोदी सीएए लेकर आए। सीएए के खिलाफ राहुल बाबा एंड कंपनी, ममता दीदीअखिलेश, बहन जी सभी कांव-काव करने लगे। कांग्रेस के पाप के कारण देश के दो टुकड़े हो गए। जब विभाजन हुआ तब पाकिस्तान में 23% अल्पसंख्क थे, लेकिन आज 3 न बचे हैं।' 'कहां गए वो लोग या तो मार दिया गया या फिर भारत में शरण ली। तब आपका ह्यूमन राइट्स कहां सो रहा था। कश्मीर से पांच लाख से ज्यादा कश्मीरी पंडितो को अपने देश के भीतर विस्थापित होना पड़ा। जिन कश्मीरी पंडितो की हवेलियां थीं, आज उनके पास खाने को खाना नहीं है।'


लखनऊ: सीएए का विरोध करने पर शायर मुनव्वर राना की 2 बेटियों समेत 125 पर केस दर्ज


लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध महिलाओं का प्रदर्शन 5वें दिन मंगलवार को जारी रहा। इससे पहले पुलिस ने सोमवार देर शाम शायर मुनव्वर राना की दो बेटी सुमैया और फौजिया समेत 125 के खिलाफ धारा-144 के उल्लंघन केस दर्ज किया। इस पर राना ने कहा- पुलिस काम है एफआईआर दर्ज करना। वो कर रही है। यह दोहरा कानून देश को बर्बाद करने के लिए है। अगर शासन-प्रशासन सूझबूझ से कदम नहीं उठाएगा देश की हालत और खराब हो जाएगी। उन्होंने कहा- न्याय तो देना पड़ेगा। 400 ऊपर सीटें इंदिरा गांधी भी लेकर आई थीं, लेकिन आज कांग्रेस 40-50 पर सिमट गई है। इस बात ध्यान भाजपा को भी रखना चाहिए। वहीं, बेटी सुमैया ने कहा- घंटाघर पर दो से 4 हजार महिलाएं डटी हैं। आप सभी को डरा नहीं सकते हैं। जिस सरकार का 'बेटी बचाओ' नारा था, वही हमारे साथ ऐसा कर रही है। जब कोई आंदोलन करता है तो वह हर मुश्किल से लड़ने की हिम्मत भी रखता है। पुलिस ने तीन अलग-अलग केस दर्ज किए शहर में हुसैनाबाद घंटाघर के बाहर चल रहे धरने में महिला प्रदर्शनकारी सीएए को वापस लेने की मांग कर रही हैं। पुलिस ने ठाकुरगंज थाने में प्रदर्शन को लेकर तीन अलग-अलग केस दर्ज किए हैं। इनमें रास्ता जाम करके प्रदर्शन करना, सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी वायरल करना, धारा 144 का उल्लंघन और बलवा का मामला शामिल है। ठाकुरगंज थाने में महिला सिपाही ज्योति कुमारी ने सुमैया राना और फैजिया राना समेत 10 के खिलाफ जबकि दो अन्य मुकदमे सब-इंस्पेक्टर सेठ पाल सिंह और सिपाही विक्रांत कुमार ने दर्ज करवाए हैं। बाकी लोगों के खिलाफ धारा-144 के उल्लंघन समेत अन्य मामलों में केस दर्ज किया गया है।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ