श्री खंडेलवाल वैश्य समिति और नारायणा हॉस्पिटल की ओर से स्वास्थ्य परिचर्चा का आयोजन


जयपुर। खान-पान, कम शारीरिक गतिविधियां और व्यस्त जीवनशैली में लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर कम समय दे पा रहे हैं जिसका परिणाम है कि बुढ़ापे में होने वाली बीमारियां कम उम्र में ही होने लगी हैं। चाहे बीमारी दिल की हो या हड्डियों की, स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही ने हमें हर जगह से प्रभावित किया है। 


श्री खंडेलवाल वैश्य समितिटोंक फाटक क्षेत्र और नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल ओर से लालकोठी स्थित एक होटल स्वास्थ्य परिचर्चा का आयोजन किया गया जिसमें विशेषज्ञों ने लोगों हृदय और हड्डी रोग से जुड़ी कई जानकारियां दी। समिति के अध्यक्ष दिनेश बडया ने बताया कि परिचर्चा नारायणा हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर और सीनियर जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. विजय शर्मा ने अलगअलग रोग और उनसे बचाव के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने लोगों के सवालों के जवाब दिये और निशुल्क परामर्श भी दिया। सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने बताया कि सर्दियों में हृदय रोगियों का विशेषतौर पर ध्यान रखना चाहिए क्योंकि इस मौसम में नसों के सिकुडने से हृदय को रक्त प्रवाह बनाए रखने में मुश्किल होती है और इससे हार्ट अटैक भी हो सकता है। वहीं सीनियर जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. विजय शर्मा ने बताया कि आर्थराइटिस जब अपनी एडवांस स्टेज पर आ जाता है तो मरीज को बिना देर किये अपने जॉइंट रिप्लेसमेंट आवश्यक रूप से कराने चाहिए। इससे वह अपना सामान्य जीवन फिर से जी सकते हैं और ऑर्थराइटिस से होने वाला असहनीय दर्द से भी उन्हें मुक्ति मिलेगी।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ