बड़ के बालाजी में अष्टानिका पर्व ध्वजारोहण के साथ शुरू हुआ आठ दिवसीय सिद्धचक्र महामंडल विधान पूजन


जयपुर। शहर के अजमेर रोड़ स्थित चन्द्रपुरी दिगम्बर जैन मंदिर सुपार्श्व गार्डन सिटी, बढ़ के बालाजी में गणिनी आर्यिका  विज्ञाश्री माताजी ससंघ सानिध्य में सोमवार से आठ दिवसीय अष्टानिका महापर्व का शुभारंभ समाजसेवी चूड़ीवाल परिवार द्वारा ध्वजारोहण कर किया गया। इससे पूर्व प्रातः 7 बजे भगवान चन्द्रप्रभ का कलशाभिषेक और शांतिधारा की गई।


अखिल भारतीय दिगम्बर जैन युवा एकता संघ अध्यक्ष अभिषेक जैन बिट्टू ने बताया कि सोमवार से शुरू हुए अष्टानिका पर्व के शुभारंभ के अवसर पर प्रातः 7.30 बजे देवाज्ञा, गुरु आज्ञा और आचार्य निमंत्रण देकर प्रातः 8 बजे घटयात्रा और मण्डप शुद्धि के संस्कार किये गए। जिसके बाद प्रातः 9 बजे ध्वजारोहण मंत्रोउच्चर और जयकारों के बीच सम्पन्न हुआ। इसी दौरान गणिनी आर्यिका विज्ञाश्री ने उपस्थित श्रद्धालुओ को संबोधित किया।


आठवें तीर्थंकर को चढ़ाया सवा आठ किलो का निर्वाण लड्डू


जिला महामंत्री रक्षित जैन ने बताया कि सोमवार को जैन धर्म के आठवें तीर्थंकर भगवान चन्द्रप्रभ का मोक्ष कल्याणक पर्व भी मनाया गया, इस दौरान प्रातः नित्य नियम पूजन के साथ मंगलाष्टक पाठ किया गया और जयमाला अर्घ के साथ मोक्षकल्याणक अर्घ चढ़ाते हुए आठवें तीर्थंकर को सवा आठ किलो का निर्वाण लड्डू चढ़ाया गया। दोपहर मध्याह 1 बजे से सकलीकरण और इंद्र प्रतिष्ठा के साथ सिद्धचक्र महामंडल विधानपुजन प्रारम्भ हुआ। इस पूजन में सोहनलाल काला, महावीर गोधा, विकास जैन संकल्प डवलपर्स, रमेश कुमार जैन, अशोक सबलावत, पदमचंद पाटनी, आर.के जैन, पदम कुमार जैन, हरकचंद, कपूरचंद जैन, पदमचंद गंगवाल, कमलकुमार सोगानी और चूड़ीवाल परिवार आदि को विधान पूजन में प्रमुख इंद्र बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।


10 मार्च को होगा महामस्तकाभिषेक, 9 को भजन भक्ति संध्या


कार्यक्रम मुख्य संयोजक श्रीपाल, भागचंद चूड़ीवाल ने बताता की होली पर्व के अवसर पर दो दिवसीय विशेष आयोजन होली के रंग प्रभु के संग रखा गया है। 9 मार्च को सायं 6.15 बजे से मूलनायक चन्द्रप्रभ भगवान की मंगल आरती, गुरु आरती का आयोजन गीत-संगीत के साथ किया जाएगा जिसके बाद भजन-भक्ति संध्या का आयोजन होगा। 10 मार्च को भगवान चन्द्रप्रभ का विभिन्न रसों के माध्यम स्वर्ण एवं रजत कलशों से महामस्तकाभिषेक का भव्य आयोजन होगा।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी