अस्तित्व

 अस्तित्व                                                                                                     टूट कर बिखर गया ज्यु मोती की लादियां  ।                       समेट नहीं पा रही  बीत गए युग बीत गई सदियां।।                   कतरा कतरा बिखरा किरचा-किरचा टूटा मेरा सब कुछ।           गुम हो गया सिरा पकड़ नहीं पा रही कहां ढूंढू कुछ खबर नहीं   ।।                                                                         चलो फिर से पहल करें उम्मीदों की डोर पकड़ चलने की। उमंग में भर आसमान पर उल्टे सीधे भागते तारामंडल को छूने की ।।                                                                         क्या बिखराव का अंत होगा क्या बाधित कर सकेगा ।         जब जमाने के साथ चलना हैं तो सिमटना होगा युग के साथ चलना होगा समेटना होगा अपने अस्तित्व को अपने विचारों को अपने ठहराव को।।                                            खुशहाल जीवन साथ ले सभी के साथ चलना होगा ।        जिंदगी का बिखराव सदा रहे यह तो ठीक ना होगा ।।         मेरा सपना पूरा करने को कोई तो अपना होगा।                 जब सपना पूरा होगा तो जुड़ पाएगी पुराने महलों से नई अट्टालिकाए।।                                                               नव जीवन का नव अंकुर फूटेगा नई कोपले खिलेंगी ।           नया सवेरा होगा जरूर होगा और टूटा अस्तित्व हिमालय सा खड़ा होगा।।                                                          लेखिका: लक्ष्मी गुप्ता, लाजपत नगर,अलवर


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी