अदृश्य शक्तियों ने  मेरा मार्गदर्शन किया - पं. शिव कुमार शर्मा

 अदृश्य शक्तियों ने  मेरा मार्गदर्शन किया - पं. शिव कुमार शर्मा


                                                                           कोलकाता 27 सितंबर l कुछ अदृश्य दैवीय शक्तियों ने जीवनभर मेरा मार्गदर्शन किया है और मेरा पूरा ध्यान संतूर शिक्षा पर केंद्रीत किया है। संगीत किसी संगीत कार्यक्रम के जरिये नहीं बल्कि संगीत यहां दिल और दिमाग में हर समय चलता है। श्री सिमेंट एवं कोलकाता की सुप्रसिद्ध सामाजिक संस्था प्रभा खेतान फाउंडेशन द्वारा आयोजित ‘एक मुलाकात’ कार्यक्रम के ऑनलाइन सत्र में भारत के अष्टकोणीय संत कथा के पंडित शिव कुमार शर्मा ने यह बातें कही। वह सुप्रसिद्ध लेखक, जीवनी लेखक और कला ज्ञानी इना पुरी के साथ विचारों के आदान प्रदान के दौरान अपनी पुरानी यादों को ताजा कर रहे थे। इस ऑनलाइन सत्र में देश के बड़े से बड़े और छोटे से छोटे शहरों में मौजूद सैकड़ों संगीत प्रेमियों और प्रशंसकों के साथ वह इस ऑनलाइन सत्र के जरिये जुड़े थे।


 


पं. शिव कुमार शर्मा एक हाथ से शास्त्रीय गायन, एक अज्ञात 100, तारांकित (शततंत्री वीणा) संगीत वाद्ययंत्र, शास्त्रीय भारतीय संगीत वाद्ययंत्र और संगीत के पवित्र पोर्टल्स के ज्ञाता हैं।


 


संतूर वादक पं. शर्मा के शब्दों में: एक गायक और तबला वादक के रूप में मैने अपने जीवन की प्रारंभिक संगीत यात्रा शुरू की। मेरे पिता (उमा दत्त शर्मा) बनारस घराने के एक महान ज्ञानी संगीतकार थे। शास्त्रीय संगीत में संतूर को पेश करना मेरा पहला प्रयोग था। मेरे पास ऐसा करने के लिए सरोद, वीणा, सितार और अन्य जैसे शास्त्रीय उपकरणों के रूप में एक दृष्टि थी, जो अकल्पनीय थी। मैने शोधकार्य की शुरुआत की, शुरू में यह मेरे लिए लंबा संघर्ष था लेकिन इसका मुझे पहले से एहसास था, इसके कारण इसके लिए मै पहले से तैयार भी था।


 


पं. शिव कुमार शर्मा ने संतूर को पूरे विश्व में एक अलग पहचान दी, जिसके कारण इसे वैश्विक लोकप्रियता हांसिल हुई। वह भारतीय फिल्मों में संतूर पेश करनेवाले पहले व्यक्ति भी रह चुके हैं।


 


 पं. शर्मा ने कहा, मैं 1955 में मुंबई में एक संगीत कार्यक्रम में शामिल था। वहां फिल्म निर्देशक वी. शांताराम की बेटी मधुरा जी मेरे पास आई और मुझे अपने पिता से मिलवाया। बाद में मैंने जीवन में पहली बार उनकी फिल्म झनक-झनक पायल बाजे के लिए संतूर वादन किया और इसी तरह से संतूर भारतीय फिल्मों में आया। इसके बाद हरि जोड़ी फूल प्रसाद-हरि प्रसाद चौरसिया के सहयोग से सिलसिला, लम्हे, चांदनी, फासले और शिव जैसी अन्य फिल्मों के लिए कई संगीतमय गीतों की रचना हिंदी फिल्मों में एक के बाद एक करते चले गये।


 


पं. शर्मा संगीत के प्रति खुले विचार रखते हैं लेकिन संगीत की पवित्रता पर कभी समझौता नहीं करते। उन्होंने स्वर्गीय पंडित जसराज और हरि प्रसाद चौरसिया जैसे अन्य कलाकारों के साथ गहरे आजीवन रिश्ते बनाए और सहयोग के माध्यम से पारंपरिक भारतीय संगीत को समृद्ध किया।


 


एक बार पंडित जी की शास्त्रीय संगीत, पृष्ठभूमि से वाकिफ नहीं होने के कारण महान गायक किशोर कुमार ने शुरू में फिल्म सिलसिला के लिए गाने से इनकार कर दिया था, जिसका संगीत वह कंपोज कर रहे थे। पं. शर्मा ने कहा, हमने गाने को टेप किया और उन्हें भेजा, जिसे सुनने के बाद वह आसानी से इसके लिए सहमत हो गए।


 


एक सवाल के जवाब में कि उन्होंने दर्शकों के दिल में वर्षों अपनी अमिट छाप कैसे छोड़ दी, पं. शर्मा ने कहा, समाज में परिवर्तन के अनुसार लोगों की श्रद्धा और प्रतिक्रिया बदल जाती है। 50 के दशक तक हम लंबी अवधि के लिए खेलते थे क्योंकि लोगों के पास अधिक समय था और टिकट इतने महंगे नहीं थे। समय के साथ, कार्य स्थल के परिवर्तन और अन्य चीजों को एक साथ रखा गया। हमें अपनी प्रस्तुति को उसी के अनुसार बदलना पड़ा। मुझे याद है कि मैं जब अमेरिका में यात्रा करता था उस समय वहां आधे घंटे के कार्यक्रम के लिए हमे चार घंटे की यात्रा करनी पड़ती थी। अब, भारत में भी कई कारणों से संगीत कार्यक्रम की अवधि एक या डेढ़ घंटे की होती है। मैं यह नहीं कहूंगा कि गुणवत्ता में बदलाव हुआ है लेकिन यह जरूर कहूंगा कि अब संगीत की मात्रा में बदलाव आया है।


 


इच्छुक कलाकारों के लिए पंडित जी की सलाह : कड़ी मेहनत, अपने कार्य पर पूरा फोकस और समर्पण सफलता का प्रमुख मूल मंत्र हैं। भाग्य इसे प्रतिस्थापित नहीं कर सकता है, कड़ी मेहनत के बिना कभी किसी का भाग्य उदय नहीं होता है। पंडित जी ने समय की आवश्यकता के मुताबिक आभासी संगीत कार्यक्रमों को स्वीकार करते हुए महसूस किया कि दर्शकों एवं संगीत प्रेमियों के दिलों में लंबे समय तक बसे रहने के लिए इसे समय की जरूरतों के साथ इसमें बदलाव करते रहना होगा।


 


एक सवाल के जवाब में कि पंडित जी, सफलता के लिए बॉलीवुड कनेक्शन होना कितना महत्वपूर्ण है? पं. शर्मा ने कहा कि उन्हें लगता है कि सफल होने के लिए फिल्म उद्योग से जुड़ा होना उतना महत्वपूर्ण नहीं है क्योंकि ऐसे कई संगीतकार हैं, जो फिल्म उद्योग से कभी जुड़े नहीं हैं।


 


पंडितजी ने संतूर बजाते हुए अपने जीवन के कई आध्यात्मिक अनुभवों को याद किया। उन्होंने कहा, मैंने पुणे में ओशो आश्रम में एक घंटे तक बिना ब्रेक के संतूर बजाया। आखिर में कोई ताली नहीं बजती थी। सभी लोग बंद आंखों के साथ बैठे मिलते थे, फिर मैंने उन्हें परेशान किए बिना कार्यक्रम का अंत कर दिया।


 


कोविड-19 संक्रमण की इस कठिन घड़ी में अपने जीवन पर विचार करते हुए पंडितजी ने कहा, यह समय खुद के भीतर झांककर आत्ममंथन करने और खुद को महसूस करने का बहुत अच्छा समय था कि आप कौन हैं। अचानक हम एक वास्तविकता के साथ आमने-सामने होते हैं जो जीवन में एक अलग तरह का अहसास लाता है और हम जीवन और प्रकृति के बारे में बहुत सी बातें सीखने लगते हैं।


 


कोलकाता में प्रभा खेतान फाउंडेशन की तरफ से ‘एक मुलाकात’ वेबिनार कार्यक्रम की श्रृंखला के जरिये देश-विदेश के विभिन्न कोने में रहनेवाले कलाकारों, विचारकों और लेखकों को भारत के विभिन्न राज्यों में रहनेवाले के महानुभावों एवं श्रोताओं को जोड़ने के साथ उनके विचारों का आदान प्रदान करने के लिए एक उचित, कारगर एवं सफल मंच प्रदान करता रहता है।


 


 


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी