अंजुदास गीतांजलि  की दो मुक्तक

अंजुदास गीतांजलि  की दो मुक्तक


. मुक्तक -01


 


     हक के लिये आवाज़ उठाना जरूरी है।


     औक़ात दुश्मनों को दिखाना जरूरी है।


     जब आंच आएगी कभी अपने वतन पे तो,


     सरहद पे कत्लेआम मचाना जरूरी है।


 


. मुक्तक-02


  


 


कभी हिन्दू कभी मुस्लिम, मरे हैं इस सियासत में।


न जाने भेंट कितने शीश, चढ़ने हैं हिफाज़त में।


लहू का आख़िरी कतरा ,वतन पे मैं बहा दूंगी,


मेरा भी नाम जुड़ जाये , शहीदों की शहादत में।


_____________________________________


अंजु दास गीतांजलि......✍️ पूर्णियाँ ( बिहार )


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी