अंजुदास गीतांजलि  की दो मुक्तक

अंजुदास गीतांजलि  की दो मुक्तक


. मुक्तक -01


 


     हक के लिये आवाज़ उठाना जरूरी है।


     औक़ात दुश्मनों को दिखाना जरूरी है।


     जब आंच आएगी कभी अपने वतन पे तो,


     सरहद पे कत्लेआम मचाना जरूरी है।


 


. मुक्तक-02


  


 


कभी हिन्दू कभी मुस्लिम, मरे हैं इस सियासत में।


न जाने भेंट कितने शीश, चढ़ने हैं हिफाज़त में।


लहू का आख़िरी कतरा ,वतन पे मैं बहा दूंगी,


मेरा भी नाम जुड़ जाये , शहीदों की शहादत में।


_____________________________________


अंजु दास गीतांजलि......✍️ पूर्णियाँ ( बिहार )


Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ