जैन समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल जैन सेठी "श्रावकोत्तम " उपाधि से सम्मानित

जैन समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल जैन सेठी श्रावकोत्तम उपाधि से सम्मानित.                                              झारखंड 5 अक्टूबर । श्री भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थ संरक्षण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल जैन सेठी को "श्रावकोत्तम " उपाधि से सम्मानित किया गया झारखंड प्रांत के महासभा के अध्यक्ष इटखोरी भगवान शीतलनाथ तीर्थ क्षेत्र कमेटी के महामंत्री सुरेश जैन झाझंरी ने सम्मान की घोषणा करते हुए कहा की राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल जैन सेठी एक सरल स्वभाव के व्यक्तित्व है उन्होंने अपना पूरा जीवन धर्म के प्रति अर्पित कर दिया है जैन संस्कृति और उसकी धरोहर को बचाने के लिए तन मन धन से लगे हुए हैं और पूरे भारतवर्ष और विदेशों में जाकर जैन धर्म के प्राचीन अवशेष और मूर्तियों को एकत्रित कर लोगों में समाज के बीच धर्म की चेतना जगा रहे हैं बिहार झारखंड और आसाम के महासभा के पदाधिकारियों ने संयुक्त रुप से निर्मल जैन सेठी के कार्यों की प्रशंसा की कोलकाता से महासभा के राष्ट्रीय पदाधिकारी राजकुमार जैन सेठी ने कहा कि जैन धर्म को संरक्षण और संवर्धन देने में इनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है l


आज के जूम मीटिंग में भारत सरकार के कोलकाता से पुरातत्व विभाग के प्रसिद्ध विशेषज्ञ जानकार शुभ मजूमदार जैन समाज के पदाधिकारियों के साथ शामिल हुए उन्होंने कहा कि झारखंड बिहार और आसाम में जगह जगह पर जैन धर्म की प्राचीनता बिखरी हुई है कई स्थानों पर जैन धर्म की मूर्तियां उसके अवशेष और धरोहर निकल रहे हैं मैंने स्वयं इन स्थानों पर निकल रहे मूर्ति अवशेषों को देखा है परंतु यहां पर जैन समाज जागरूक नहीं है जिसके कारण जैन धर्म के प्राचीनतम अवशेष मूर्तियां लोग अपने पास एकत्रित नहीं कर पा रहे हैं झारखंड में तो कई स्थानों पर जहां पर मूर्तियां निकली है वहां पर गांव के लोगों ने अपने अपने घरों में मूर्तियां स्थापित कर ली है और पूजा पाठ शुरू कर दिया है बंगाल में भी पुरुलिया आदि कई स्थानों पर बहुतायात रूप में जगह-जगह जैन भगवान की मूर्तियां निकल रही है परंतु वहां के लोग जागरूक हैं और मंदिर का निर्माण कर मूर्तियों को संरक्षित कर स्थापित कर रहे हैं झारखंड में भी लोगों को जैन धर्म के प्रति जागरूकता की आवश्यकता है यहां पर लोगों को जानकारी ही नहीं है की कहां-कहां पर जैन तीर्थंकरों की मूर्तियां निकल रही है कोलकाता पुरातत्व विभाग के विशेषज्ञ शुभ मजूमदार ने कहा नए मंदिरों के निर्माण से पहले राज्यों में उत्खनन के द्वारा जो जैन धर्म के प्राचीन अवशेष मिल रहे हैं उसे संयोजित करने की आवश्यकता है


 महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल जैन सेठी ने कहा झारखंड बिहार आसाम मे जैन समाज के लोगों को जागरूक कर जैन धर्म के प्राचीन अवशेष मूर्तियां और धरोहर को संरक्षित किया जाएगा जर्जर हालात में जो मंदिर है उसका जीर्णोद्धार कर नया रूप दिया जाएगा श्री सेठी जी ने ने कहा हम लोगों को अपने क्षेत्र में केंद्र सरकार राज्य सरकार वहां के सांसद और विधायक सभी से मिलकर पत्राचार कर अपने धर्म के प्रति समस्याओं को बताना चाहिए और उसका समाधान करना चाहिए जिन जिन स्थानों पर जैन धर्म की मूर्तियां और अवशेष निकल रहे हैं वहां के फोटो डाटा आदि सुरक्षित रखना चाहिए क्योंकि कल यही इतिहास बनता है


झारखंड प्रांत के महासभा के अध्यक्ष सुरेश जैन झाझंरी ने कहा की झारखंड और बिहार में खुदाई के दौरान बहुत स्थानों पर जैन धर्म की मूर्तियां निकली है राज्य सरकार से सहायता प्राप्त कर ऐसे सभी स्थानों पर जैन धर्म की मूर्तियों को एकत्रित किया जाएगा सुरक्षित किया जाएगा जिन स्थानों पर उत्खनन के दौरान मूर्तियां निकल रही है उस क्षेत्र के आसपास के जैन समाज के लोगों को एकजुट होने की आवश्यकता है भारतवर्षीय दिगंबर जैन धर्म संरक्षण महासभा झारखंड के अध्यक्ष सुरेश जैन झाझंरी ने कहा महासभा पूरे झारखंड बिहार आसाम के जैन मंदिरों के जीर्णोद्धार एवं जगह-जगह प्राप्त हो रहे जैन धर्म के अवशेष मूर्तियों को संरक्षित करने के लिए कृत संकल्प है ।जैन समाज मीडिया प्रभारी नवीन जैन एवं राजकुमार अजमेरा ने यह जानकारी दी।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी