जो काम अभी तक सुप्रीम कोर्ट/हाईकोर्ट नहीं कर पाया, वो न्यायपूर्ण काम राजस्थान सिविल सेवा ट्रिब्यूनल ने कर दिया 

जो काम अभी तक सुप्रीम कोर्ट/हाईकोर्ट नहीं कर पाया, वो न्यायपूर्ण काम राजस्थान सिविल सेवा ट्रिब्यूनल ने कर दिया 



जयपुर : जो काम अभी तक सुप्रीम कोर्ट/हाईकोर्ट नहीं कर पाया, वो न्यायपूर्ण काम राजस्थान सिविल सेवा ट्रिब्यूनल ने कर दिया। 


राजस्थान सिविल सेवा ट्रिब्यूनल ने अजा/अजजा को सामान्य पदों पर पदोन्नति की छूट देने वाला दिनांक 13/09/2013 (पिछली गहलोत सरकार) का आदेश निरस्त करने के निर्णय पर आजाद मंच भारत सिविल सोसाइटी ऑफ इंडिया ने आर ए टी की बैंच के चेयरमैन आर एस श्रीवास्तव व सदस्य जस्साराम चौधरी को इस साहसिक, ऐतिहासिक एवं न्यायपूर्ण निर्णय का स्वागत किया है।


आजाद मंच भारत के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राजस्थान प्रदेश प्रभारी देशबंधु जोशी, प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट हंसा पांडे और अखिल भारतीय ब्राह्मण परिषद (रजि) के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव शर्मा ने अत्यंत खुशी जाहिर करते हुए इसे एक अच्छी पहल बताया है। जोशी ने कहा कि आरक्षित अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग को सामान्य वर्ग से पहले पदोन्नति में आरक्षण देना पदोन्नति में आरक्षण सरकारी सेवा में एक सरकारी अवैधानिक श्रेणी में माना जाता रहा है। सरकारी सेवा में पदोन्नति में आरक्षण के चलते ही सरकारी तंत्र का ढांचा चरमरा गया था, आरक्षित वर्ग के अधिकांश जूनियर लोगों ने अपने अधिकारियों की बातों को गंभीरता से लेना कम कर दिया था। इधर समन्वयक के अधिकारी कर्मचारी पदोन्नति में आरक्षण को गलत मानते हुए अपने आप को असमर्थ मान रहे थे। 


आजाद मंच के जोशी एवं पांडे ने आर ए टी की बैंच के चेयरमैन आर एस श्रीवास्तव व सदस्य जस्साराम चौधरी को इस साहसिक, ऐतिहासिक एवं न्यायपूर्ण निर्णय के लिए साधुवाद बोलते हुए आभार व्यक्त किया और मिठाई वितरण की। इस अवसर पर आजाद मंच के राष्ट्रीय सचिव अशोक गर्ग, एडवोकेट कमलेश शर्मा, भगवान शेखावत, उमा खुल्वे, राष्ट्रीय स्वर्ण दल के बेनी प्रसाद शर्मा, त्रिलोक तिवारी आदि मौजूद रहे।


जयपुर : जो काम अभी तक सुप्रीम कोर्ट/हाईकोर्ट नहीं कर पाया, वो न्यायपूर्ण काम राजस्थान सिविल सेवा ट्रिब्यूनल ने कर दिया। 


राजस्थान सिविल सेवा ट्रिब्यूनल ने अजा/अजजा को सामान्य पदों पर पदोन्नति की छूट देने वाला दिनांक 13/09/2013 (पिछली गहलोत सरकार) का आदेश निरस्त करने के निर्णय पर आजाद मंच भारत सिविल सोसाइटी ऑफ इंडिया ने आर ए टी की बैंच के चेयरमैन आर एस श्रीवास्तव व सदस्य जस्साराम चौधरी को इस साहसिक, ऐतिहासिक एवं न्यायपूर्ण निर्णय का स्वागत किया है।


आजाद मंच भारत के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राजस्थान प्रदेश प्रभारी देशबंधु जोशी, प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट हंसा पांडे और अखिल भारतीय ब्राह्मण परिषद (रजि) के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव शर्मा ने अत्यंत खुशी जाहिर करते हुए इसे एक अच्छी पहल बताया है। जोशी ने कहा कि आरक्षित अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग को सामान्य वर्ग से पहले पदोन्नति में आरक्षण देना पदोन्नति में आरक्षण सरकारी सेवा में एक सरकारी अवैधानिक श्रेणी में माना जाता रहा है। सरकारी सेवा में पदोन्नति में आरक्षण के चलते ही सरकारी तंत्र का ढांचा चरमरा गया था, आरक्षित वर्ग के अधिकांश जूनियर लोगों ने अपने अधिकारियों की बातों को गंभीरता से लेना कम कर दिया था। इधर समन्वयक के अधिकारी कर्मचारी पदोन्नति में आरक्षण को गलत मानते हुए अपने आप को असमर्थ मान रहे थे। 


आजाद मंच के जोशी एवं पांडे ने आर ए टी की बैंच के चेयरमैन आर एस श्रीवास्तव व सदस्य जस्साराम चौधरी को इस साहसिक, ऐतिहासिक एवं न्यायपूर्ण निर्णय के लिए साधुवाद बोलते हुए आभार व्यक्त किया और मिठाई वितरण की। इस अवसर पर आजाद मंच के राष्ट्रीय सचिव अशोक गर्ग, एडवोकेट कमलेश शर्मा, भगवान शेखावत, उमा खुल्वे, राष्ट्रीय स्वर्ण दल के बेनी प्रसाद शर्मा, त्रिलोक तिवारी आदि मौजूद रहे।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी