भृगु महाराज की पावन धरती पर निकली विराट शोभायात्रा

 भृगु महाराज की पावन धरती पर निकली विराट शोभायात्रा



 


- सप्तद्वीपों की परिक्रमा, सभी पापों को नष्ट करने वाली एवं सर्वत्र विजय प्रदान करने वाली यात्रा में दिखा युवाओं का जोश


 


बलिया, 16 नवंबर । एक तरफ जब भगवान श्रीराम की नगरी में दीपोत्स्व का उत्साह था तो ठीक उसी समय भृगु - दर्दर क्षेत्र में पंचकोशी परिक्रमा यात्रा भृगु मंदिर से प्रारम्भ हुई। परिक्रमा यात्रा ने स्वामी रामबालकदास जी महाराज, श्री विनय ब्रह्मचारी जी, वेदान्ती जी महाराज श्री अयोध्या धाम एवं श्री बद्रीविशाल जी महाराज के सानिध्य में गाजे बाजे के साथ अपने पहले पड़ाव गर्गाश्रम, वेदव्यास जन्मभूमि सागरपाली के लिये प्रस्थान किया। आगे- आगे मोटरसाइकिलों पर झण्डा लहराते युवाओं के पीछे संतों , भक्तों की कीर्तन करती टोली के पीछे रथारूढ़ भृगक्षेत्र के दिग्पाल देवताओं के विग्रहों का दर्शन - पूजन कर पुराधिपति बाबा बालेश्वरनाथ की नगरी के नर - नारी निहाल हो गए। अर्वाचीन समय में भृगुक्षेत्र के सिद्ध संतश्री खाकी बाबा ने दीर्घकाल तक परिक्रमा यात्रा का संचालन किया। वर्तमान में भी उन्हीं के वंशजों के द्वारा इस पुनीत परम्परा को जीवित रखा गया है।


यात्रा का स्वागत नगर में स्थान - स्थान पर लोगों ने किया । श्री रामजानकी मंदिर खोरीपाकड़ पर भी यात्रा का आरती पूजन किया गया। पंचकोशी परिक्रमा के संबंध में साहित्यकार शिवकुमार सिंह कौशिकेय ने बताया कि गर्गाश्रम सागरपाली रेलवे स्टेशन के पास पंचकोशी मेले मे रात्रि विश्राम के उपरांत सोमवार को प्रातः काल यह परिक्रमा के तीर्थयात्री विमलतीर्थ देवकली पहुँचेगें , जहाँ रात्रि विश्राम करेंगे । मंगलवार को यहाँ से प्रातः काल चलकर कुशेश्वर - क्षितेश्वर महादेव मंदिर छितौनी में रात्रि विश्राम कर बुधवार को पराशर आश्रम परसिया पहुँचेगें । इन सभी स्थानों पर पंचकोशी के मेले लगते हैं । जो कोविड महामारी के कारण नियमों का पालन करते हुए दोगज की दूरी , मास्क के साथ संक्षेप में परम्परा निर्वाह करने के लिए लगेंगे ।



द वैदिक प्रभात फाउंडेशन के तत्वावधान में नगर में निकली पंचकोशी परिक्रमा की शोभायात्रा में परिक्रमा यात्रा संवाहक खाकी बाबा के वंशज पुजारी उमेश चन्द्र चौबे, जितेन्द्र सिंह, शत्रुघ्न पाण्डेय, विजय शुक्ल, आशीष बर्नवाल ,अटल विहारी सिंह, रोहित सिंह, ओम प्रकाश पांडेय, राममूर्ति जी ,संजय सिंह, मिथिलेश सिंह, दिलीप राय, बलजीत सिंह की उपस्थिति उल्लेखनीय रही ।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी