किसी की याद में जीना किसी की याद में मरना

 ग़ज़ल


 


किसी की याद में जीना


किसी की याद में मरना।


 


मुहब्बत हो अगर जाए


तड़पकर तुम नहीं मरना।


 


ख़बर लग जाएगी सब को


किसी से कुछ नहीं कहना।


 


जियोगे ज़िन्दगी घुटकर


पड़ेगा दर्द भी सहना।


 


बड़ी मुश्किल डगर है ये


न इसपर पाँव तुम रखना।


 


जहां में तुम कहीं रह लो


मगर दिल में नहीं रहना।


 


नसीहत दे रही अंजू


मुहब्बत में नहीं पड़ना।


------------------------------


अंजु दास "गीतांजलि"


मोबाइल नं -9471275776


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी