ओशो जन्मोत्सव का चतरपुरा में आयोजन

ओशो जन्मोत्सव का चतरपुरा में आयोजन


जयपुर। बुद्धपुरुषों की अमृत धारा में ओशो एक नया प्रारम्भ हैं। 11 दिसंबर से 13 दिसंबर तक कल्याण मित्र ओशो का जन्मोत्सव पूरे विश्व मे मनाया जा रहा है। ओशो ध्यान मंदिर चतरपुरा में आयोजित हो रहे "ओशो जन्मोत्सव" में पूरे भारतवर्ष से ओशो प्रेमी भाग ले रहे हैं और ध्यान के आनंद में डूब रहे हैं।

ओशो लाइब्रेरी , जयपुर के प्रवक्ता स्वामी देव अनुराग ने बताया कि "ओशो जन्मोत्सव" के दौरान ओशो प्रेमी सद्गुरु द्वारा बताए विभिन्न ध्यान प्रयोगों का आनंद ले रहे हैं। साथ ही यहाँ ओशो साहित्य की प्रदर्शनी का आयोजन भी किया जा रहा है, जिसमे ओशो की क्रांतिकारी जीवन दृष्टि को समाहित किए हुए प्रवचनों की पुस्तकें उपलब्ध हैं। 

उन्होंने बताया कि जीवन का ऐसा कोई आयाम नहीं, जो ओशो की वाणी से अस्पर्शित रहा हो। उनके प्रवचन 650 से भी अधिक पुस्तकों के रूप में प्रकाशित हो चुके हैं। राजनीति, कला, विज्ञान, मनोविज्ञान, दर्शन, परिवार, समाज, पर्यावरण समेत अनेक विषयों पर उनकी अपूर्व जीवन दृष्टि इन पुस्तकों में समाहित है।


उन्होंने ऐसे मनुष्य की कल्पना की है जो भौतिक जीवन का भी पूरा आनंद मनाना जानता है और बुद्ध की भाँति मौन होकर ध्यान में उतरने में भी सक्षम है। ऐसा मनुष्य जो भौतिक और आध्यात्मिक , दोनो तरह से समृद्ध है, इस नए मनुष्य को  उन्होंने "ज़ोरबा दि बुद्धा" का नाम दिया है।

Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को

चीन में फैले वायरस से हुई महामारी की भविष्यवाणी सत्य साबित , पूरे विश्व में केवल भारत देश के दिलीप नाहटा ही ऐसे ज्योतिषी बने , जिन्होंने 2020 में चीन में आए वायरस की सबसे बड़ी भविष्यवाणी सटीक रूप से लिखी थी