*दहेज लोभियों ने ली नवविवाहिता की बलि*

 *दहेज लोभियों ने ली नवविवाहिता की बलि*

जयपुर। दहेज लोभी ससुराल वालों ने आखिरकार मेरी दोहिती हिना की जान लेकर ही दम लिया। रोते बिलखते ये कहना है शहर के हसनपुरा ए निवासी मीना देवी का, जो कि नवविवाहिता हितेश्वरी उर्फ हिना की नानी हैं, जिन्होंने अपनी दोहिती का विवाह पूरे मान मनुहार के साथ टोंक जिले में निवाई तहसील के गुंसी गांव निवासी अक्षय कुमार के साथ 25 नवम्बर 2020 को कर दिया था। विवाह सम्पन्न हुए अभी केवल एक महिने ही पूरे हुए थे कि मृतका हिना के ससुराल वालों ने बार-बार प्रताड़ित करते हुए आखिरकार हिना की जान ले ली।             


ऐसी दर्दनाक अमानवीय घटना की शिकार ऐसी युवती के साथ हुआ, जिसके माता-पिता का साया बचपन में ही उसके सिर से उठ गया था। उसके नाना-नानी ने जैसे-तैसे उसका पालन पोषण करके बड़ी मन्नतों से अपनी हैसियत से उसका विवाह किया था       

                                                                              लेकिन उनको क्या मालूम था कि जिसके हाथों में वो अपनी दोहिती के जीवन को सौंप रहे हैं, वही लोग उसके जान के दुश्मन बनकर एक दिन उसकी जान ले लेंगे और उनके जीवन का दर्दनाक दिन रहा 28  दिसम्बर 2020 जब हिना के ससुराल वालों ने फोन करके बताया कि उनकी दोहिती ने आत्महत्या करके अपनी जान दे दी है।                                                       

  जबकि मृतका के छोटे भाई दुलारा और ननिहाल पक्ष से नानी मीना देवी, दोनों मामा हरिनारायण एवं संजय और मौसा दामोदर प्रसाद का कहना है कि अगर लड़की आत्महत्या करती तो कोई सुसाइड नोट भी तो लिखकर जाती, जिसमें वह बता देती कि उसने किस कारण से आत्महत्या की इसलिए इसे सुसाइड नाम दिया जा रहा जबकि ये हत्या है।                             

                                                                               क्योंकि मृतका के ससुराल वालों की सूचना पर जब मौके पर पहुंचे तो उसके शरीर पर जगह-जगह चोट के निशान हैं, जिससे ये साबित होता है कि उसके साथ मारपीट करते हुए उसकी हत्या कर दी गई और आत्महत्या का नाम दे दिया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ