समायोजित शिक्षाकर्मियों ने रखा उपवास

 समायोजित शिक्षाकर्मियों ने रखा  उपवास 


जयपुर 15 जनवरी ।समायोजित शिक्षाकर्मियों ने जयपुर स्थित कलेक्ट्रेट पर सरकार को जगाने के लिए एक दिन का सामुहिक उपवास रखा । इस अवसर पर जिलाध्यक्ष ईश्वर सिहं शेखावत एव महामंत्री प्रदीप प्रकाश शर्मा  ने बताया कि राजस्थान समायोजित शिक्षाकर्मी संघ राजस्थान द्वारा बड़े खेद के साथ लिखना पड़ रहा है की माननीय सर्वोच्च न्यायालय के 13 सितंबर 2018 के आदेश द्वारा राज्य के समायोजित शिक्षा कर्मियों को 2004 से पूर्व कार्मिक मानते हुए पुरानी पेंशन योजना का लाभ देने का आदेश राजस्थान सरकार को दिया           


                                                                                   इसे लागू करवाने के लिए संघ द्वारा शिष्टमंडलों व अनेक मंचो के माध्यम से अनुनय विनय प्रार्थना व आग्रह किया साथ ही पार्टी के बड़ी मात्रा में विधायकों व संगठन पदाधिकारियों ने भी समय-समय पर हमारी वैधानिक मांग को जायज मानते हुए सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के अनुपालन की लिखित में अनुशंसा की है। तथा पेंशन आदेश लागू करने का आपसे आग्रह किया गया है लेकिन इसे लागू नहीं करने के लिए कुटिल नौकरशाही द्वारा विधि के विपरीत पेंशन आदेश को लंबित करने तथा अवमानना से बचने के लिए पुनर्विचार याचिका दायर की         

                                                                                   राज्य सरकार की हठधर्मिता निरंकुशता वह संवाद हीनता के कारण  संघ के प्रदेश व्यापी आव्हान पर 15 जनवरी 2021 को यहां जयपुर कलेक्ट्रेट के सामने  कार्मिक प्रातः 11:00 बजे से सायं 4:00 बजे तक  उपवास रखा तथा परमात्मा से विनम्र निवेदन किया कि सरकार को यह सद्बुद्धि दें कि समय पर पुरानी पेंशन का नियम इन कार्मिकों के लिये लागू कर इनके सामाजिक सम्मान को बचाने के साथ  इनके जीवन को बचाने में मदद करें ।     

                                                                                    इस उपवास कार्यक्रम मे जिला इकाई के कॉलेज व स्कूल शिक्षा कार्मिकों ने  भाग लेकर उपवास के बाद सायं 3 बजे  अन्तर सिहं नेहरा  जिलाधीस जयपुर को ज्ञापन दिया ।

Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ