शिव का तांडव शुरु होने ही वाला है, जिसको बचा सकते हो, बचा लो-बाबा उमाकान्त महाराज

शिव का तांडव शुरु होने ही वाला है, जिसको बचा सकते हो, बचा लो-बाबा उमाकान्त महाराज


जयपुर 21 मार्च ।  उज्जैन से पधारे वक्त के पूरे सन्त सतगुरु बाबा उमाकान्त  महाराज ने आज जयपुर में सीकर रोड स्थित मौज महल रिसोर्ट वाटर पार्क सत्संग कार्यक्रम में बताया कि 2 महीना पहले निकला था उज्जैन से। कई प्रांतों में गया। महाराज  ने जयपुर सतसंग कार्यक्रम में पधारे भक्तों को नामदान बख्शीश कर गुरु मंत्र की महिमा के बारे में बताया। 

*इतिहास उठाकर देख लो, जब-जब युग परिवर्तन हुआ है, मरे बहुत हैं*

गुरु महाराज  के काम, नाम को आगे बढ़ाने के लिए अपने अपने स्तर से आप लोग लग जाओ। देखो एक काम जो गुरु महाराज छोड़ कर के गए की धरती पर ही सतयुग आ जाए तो सतयुग तो आएगा, समय पर आएगा। उसको कोई रोक नहीं सकता है। लेकिन कलयुग जब जाएगा तभी तो। आप यह समझो जब युग बदलता है तो मरते बहुत हैं। त्रेता गया तब बहुत मरे। द्वापर गया तब बहुत मरे। कलयुग जाएगा तो क्या छोड़ेगा? रगड़ाई करता हुआ ले जाएगा, बहुत मरेंगे।


प्रेमियो! लोगों को शाकाहारी बनाओ जिससे उनकी भी खराब समय में रक्षा हो जाये

महाराज  कहा कि अब सब मर ही जाए तो सतयुग आने का क्या फायदा। इसलिए सतयुग के लायक बनाओ, शाकाहारी बनाओ, सदाचारी बनाओ, नशा मुक्त बनाओ, भजनानंदी बनाओ।

*बज रहा काल का डंका, कोई बचने ना पाएगा।

 बचेगा साधुजन कोई, जो सत से लौ लगाएगा।।*

 आप यह समझो बचेगा कोई साधुजन जो सत से लौ लगाएगा। प्रभु से प्रेम करने वाला, भजन करने वाला - वही बचेगा। बज रहा काल का डंका बचने ना कोई पाएगा।

*काल भगवान का डंका बजने ही वाला है*

महाराज  ने कहा कि काल का डंका बजने ही वाला है। शिवजी का तांडव शुरू होने ही वाला है। कब तक वो इंतजार करेंगे।

*प्रेमियों! लोगों को बचाने के लिये अपने-अपने स्तर से जितना कर सकते हो, करो*

महाराज  ने कहा कि जीवों को बचाने के लिए, रक्षा के लिए आप अपने स्तर से जितना भी कर सकते हो करो। हम तो मेहनत कर ही रहे हैं। तुम लोग अगर लग जाओगे तो जल्दी काम हो जाएगा। ज्यादा जीवों की जान बच जाएगी। कहने का मतलब है प्रेमियों कि समय बहुत खराब आ रहा है। यह 2021 का साल 2020 से ज्यादा खराब जाएगा। हर तरह की तकलीफें लोगों के सामने आएंगी।

*लोग कल्पना भी नहीं कर सकते, ऐसा समय आने जा रहा है*

महाराज  ने बताया कि लोग कल्पना भी नहीं कर रहे है कि ऐसा होगा। उस तरह की तकलीफें आएंगी, कर्मों की सजा से कोई बच नहीं पाएगा।


*कर्मों की सजा तो मिलेगी ही मिलेगी*

 महाराज  ने कहा कि कर्म लोगों के बहुत खराब होते जा रहे हैं। सजा तो मिलेगी ही मिलेगी। अब आप जितने लोगों को बचा सकते हो - बचा लो। आप भी  बचो, परिवार वालों को बचा लो, रिश्तेदारों को बचा लो, मिलने-जुलने वालों को बचा लो - जिनको बचा सको उनको बचा लो।

कार्यक्रम के आयोजक  कैलाश चंद शर्मा ने बताया कि जयपुर में प्रेमियों ने महाराज  से अपनी दुख तकलीफ को बता कर दर्शन लाभ लिए। कार्यक्रम में मुख्य रूप से  प्रेमचंद कूलवाल,  बंशीधर सैनी, कैलाश पारीक,  राजेश स्वामी, दिनेश सांखला, निखिल गुप्ता जी का सहयोग रहा। कार्यक्रम में सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग मास्क का भी ध्यान रखा गया।


Comments

Popular posts from this blog

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ

जानिए वर्ष 2020 में बनने वाले गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग की शुभ दिन और शुभ मुहूर्त को