कुत्ते की वफादारी

 कुत्ते की वफादारी

पालखी यात्रा में पांच किमी तक चला 

शव का अंतिम संस्कार होने तक रहा



कुत्ते की वफादारी: सूरत में साध्वी की पालखी यात्रा में पांच किमी तक चला, शव का अंतिम संस्कार होने तक रहा

सूरत। डायमंड नगरी सूरत शहर के वेसू क्षेत्र में जैन संप्रदाय के एक 100 वर्षीय साध्वी का समाधि अवस्था में निधन हो गया. उनकी पालखी यात्रा के साथ एक स्वान (कुत्ता) भी पालखी के साथ 5 किलो मीटर दूर उमरा श्मशान घाट तक साथ चलता रहा. पालखी के सदस्यों ने सोचा कि कुता वापस वेसु के पास कैसे पहुंचेगा, इसलिए उन्होंने उसे एक कार में बिठा दिया और उसे वेसू क्षेत्र में छोड़ दिया।

वफादार प्राणियों में कुत्तों के कई उदाहरण हैं. 100 वर्षीय पीयूष वर्षा साध्वी महाराज का बुधवार को जीडी गोयनका स्कूल के सामने रामेश्वरम अपार्टमेंट में निधन हो गया. साध्वी महाराज पीयूष वर्षा जो कुछ समय से वेसू क्षेत्र के उप-आश्रय में रहे थे, इस स्वान को नियमित रूप से भोजन, पानी के साथ दया और करुणाभाव देते थे।

जब साध्वी महाराज की पालखी यात्रा निकाली गई, तो एक कुत्ता पालखी के ठीक नीचे चलना शुरू कर दिया. वहां मौजूद लोगों को थोड़ी देर के लिए लगा कि हर कोई इकट्ठा हो रहा है इसलिए वह भी हमारे साथ चल रहा है. इसके बाद पालखी यात्रा में शामिल हुए लोगों ने कुत्ते को बाहर निकाल दिया।

लेकिन थोड़ी देर बाद, वह पालखी के नीचे फिर से चलना शुरू कर दिया और जब तक वह पांच किलोमीटर दूर उमरा श्मशान घाट तक नहीं पहुंचे तब तक पालखी के नीचे चलता रहा. जब महात्मा का अग्नि-संस्कार किया गया, तब भी स्वान पास में ही खड़ा रहा।

घटना को देखने के बाद, पालखी के साथ आए सदस्यों को आश्चर्य हुआ कि यह स्वान अब वापस कैसे जाएगा, तो कुत्ते को प्यार से पालखी समूह के एक सदस्य ने उठा लिया फिर तुरंत गाड़ी में डाल दिया और फिर उसे वेसू क्षेत्र में छोड़ दिया गया।(news18.com)

Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

जानिए छिपकली से जुड़े शगुन-अपशगुन को