कौन है जितेंद्र गोगी जिसे कोर्ट रूम में दोस्त ने ही मरवा दिया

कौन है जितेंद्र गोगी जिसे कोर्ट 

रूम में  दोस्त ने ही मरवा दिया

 


नई दिल्ली। जितेंद्र गोगी पर दिल्ली में 4 लाख और हरियाणा में 3 लाख का इनाम घोषित था। मकोका भी लगाया। हरियाणा पुलिस ने ये इनाम रागिनी गायिका हर्षिया दहिया मर्डर केस में रखा था।



दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में ज़बरदस्त शूटआउट  में पेशी पर आए दिल्ली के एक बड़े अपराधी जितेंद्र गोगी  की बदमाशों ने हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक हमला टिल्लू गैंग के लोगों ने हमला किया, हमलावर वकील की वेशभूषा में आए थे। स्पेशल सेल ने दोनों हमलावरों को मौके पर मार गिराया। एक का नाम राहुल है, जिस पर 50 हज़ार का इनाम था जबकि दूसरा उसका साथी है। तिहाड़ जेल में बंद गोगी को स्पेशल सेल आज पेशी के लिए ले गई थी, जहां टिल्लू गैंग के बदमाशाें ने उसकी हत्या कर दी। टिल्लू और गोगी गैंग के बीच कई सालों से गैंगवार चल रहा है, जिसमें दोनों तरफ से 25 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। अब इसी गैंगवार की भेंट खुद गोगी भी चढ़ गया।

 


कौन था जितेंद्र गोगी

आखिर कौन था जितेंद्र गोगी  जो 30 साल की उम्र में ही गुनाहों की दुनिया में कुख्यात हो गया था, आइए जानते हैं। कोर्ट रूम में हुए शूटआउट में मारा गया जितेंद्र गोगी दिल्ली का बड़ा बदमाश है। जानकारी के मुताबिक गोगी दिल्ली पुलिस द्वारा बनाई गई टॉप-10 मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में भी शामिल था। वह जेल से ही रंगदारी, फिरौती के लिए अगवा करने और सुपारी लेकर मर्डर करने का काला कारोबार जारी रखा। 

 

7 लाख का इनामी था गोगी

गोगी पर दिल्ली में 4 लाख और हरियाणा में 3 लाख का इनाम घोषित था। मकोका भी लगाया। हरियाणा पुलिस ने ये इनाम रागिनी गायिका हर्षिता दहिया मर्डर केस में रखा था। गोगी कई बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुका था। नरेला में आम आदमी पार्टी के नेता वीरेंद्र मान को गोगी गैंग के गुंडों ने 26 गोलियां मारी थी। 2018 में इस गैंग का टिल्लू गैंग से झगड़ा हुआ था, जिसमें 4 लोगों की मौत और 5 घायल हुए थे। आपको बताते हैं जितेंद्र गोगी के काले कारनामों के बारे में।

 


3 बार पुलिस कस्टडी से हो चुका था फरार

जितेंद्र गोगी 3 बार पुलिस कस्टडी से फरार हो चुका था। दिल्ली के अलीपुर का रहने वाला गोगी 30 जुलाई 2016 की सुबह बहादुरगढ़ में दिल्ली पुलिस की कस्टडी से फरार हो गया था। तब हरियाणा रोडवेज की बस से नरवाना कोर्ट में पेशी पर ले जाते वक्त बहादुरगढ़ में दो कारों में सवार 10 बदमाशों ने बस को ओवरटेक कर रुकवा लिया था। पहले से ही बस में बैठे कुछ बदमाशों ने पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्च झोंक दी और फायर करते हुए गोगी को छुड़ाकर ले गए थे। गोगी पुलिसवालों के असलहे भी लूट ले गया था। इसके बाद गोगी अपने गुर्गों के साथ दिल्ली और हरियाणा में ताबड़तोड़ वारदातों को अंजाम देकर पुलिस को चुनौती देने लगा। दिल्ली और हरियाणा जैसे राज्यों में इस गैंगस्टर ने पुलिस की नाक में दम कर रखा था।

 

इन बड़ी वारदातों में रहा शामिल 

  • 2017 में सिंगर की हत्या : जीतेंद्र उर्फ गोगी पर हरियाणा की मशहूर सिंगर हर्षिता दाहिया की हत्या का आरोप भी है। 22 साल की इस उभरती कलाकार को साल 2017 में पानीपत में गोलियों से भून दिया गया था। हर्षिता के जीजा दिनेश कराला ने गोगी को सुपारी दी थी।
  • 2017 में टीचर को मारी 25 गोली: नवंबर 2017 में ताजपुर निवासी टीचर दीपक बालियान का स्वरूप नगर में मर्डर हुआ। जनवरी 2018 में अलीपुर के रवि भारद्वाज को 25 गोलियां मार छलनी कर दिया। 
  • 2018 मे गैंगवार में 4 मारे : जून 2018 में बुराड़ी में टिल्लू गैंग से हुई गैंगवॉर में 4 लोग मारे गए और 5 जख्मी हुए। 
  • 2019 में आप नेता को मारी 26 गोली: 2019 में दिल्ली के नरेला इलाके में एक स्थानीय नेता वीरेंद्र मान की हत्या में गोगी और उसके गुर्गों का हाथ था। जितेंद्र गोगी और उसके गैंग ने दिनदहाड़े वीरेंद्र मान को 26 गोलियां मारी थी। 
  • जुलाई 2020 जेल से मांगी रंगदारी: देश के सबसे सुरक्षित जेल तिहाड़ केंद्रीय कारागार के अंदर से अपराधी जितेंद्र गोगी ने दिल्ली के एक मशहूर बिजनेसमैन से 5 करोड़ रुपए की रंगदारी मांगी थी, इतना ही नहीं रंगदारी की रकम नहीं देने पर उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी गई थी। उस समय गोगी तिहाड़ जेल के सेल नंबर-8 में बंद था। पुलिस का दावा था कि सेल के अंदर से रंगदारी की यह रकम मांगी गई थी। रंगदारी मांगने की सूचना मिलने के बाद जेल प्रशासन की तरफ से जेल के अंदर छापेमारी भी की और जितेंद्र गोगी के सेल से 3 मोबाइल फोन बरामद किए। 
  • 2021: इस साल 19 फरवरी को रोहिणी के कंझावला में आंचल उर्फ पवन की 50 राउंड फायरिंग कर हत्या की। इस हत्या में भी जितेंद्र गैंग का हाथा था। 

पिछले साल पकड़ा गया था

पिछले साल स्पेशल सेल ने उसे गुरुग्राम से गिरफ्तार किया था।  2020 मार्च के महीने में गोगी को गुरुग्राम पुलिस ने घेर लिया था। उस वक्त जितेंद्र गोगी ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था। कुख्यात क्रिमिनल जीतेंद्र उर्फ गोगी के साथ पुलिस ने उसके 2 सहयोगियों कुलदीप मान और रोहित को भी पकड़ा था।

 


पुलिस ने घेरा तो डर गया था

गोगी को गिरफ्तार किये जाने के बाद उसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। बताया जा रहा है कि यह वीडियो उस वक्त का था जब पुलिस ने उसे चारों तरफ से घेर लिया था। वीडियो में यह कुख्यात गैंगस्टर कहते हुए सुनाई दे रहा था कि ‘मैं दिल्ली पुलिस के सामने सरेंडर कर रहा हूं…हमें चारों तरफ से घेर लिया है…इसलिए मैं सरेंडर कर रहा हूं।’ 

 

वर्चस्व की लड़ाई: जिगरी यार बन गया दुश्मन

टिल्लू ताजपुरिया और जितेंद्र गोगी कभी जिगरी दोस्त हुआ करते थे, लेकिन अब दोनों के अलग-अलग गैंग है। 2009 मेंं जेल से आने के बाद अलीपुर गांव के जितेन्द्र गोगी ने गिराेह बना लिया था। उसके गिराेह में ताजपुरिया गांव का सुनील उर्फ टिल्लू भी था। 2010 में बाहरी दिल्ली के एक कॉलेज छात्र संघ चुनाव से इनकी दोस्ती में दरार आ गई जो गैंगवार में तब्दील हो गई।

 

 वर्ष 2012 में टिल्लू ने अलग गिरोह बना लिया जिसके बाद से जितेन्द्र उसकी हत्या करना चाहता था। उधर दिल्ली का कुख्यात गैंगस्टर नीतू दाबोदिया 2013 में पुलिस एनकाउंटर में मारा गया। वहीं खुद को दिल्ली का डॉन कहने वाला नीरज बवानिया भी जेल चला गया। इसके बाद गोगी और टिल्लू के बीच वर्चस्व की जंग तेज हो गई। दोनों गैंग के दर्जनों लोग गैंगवार में मारे जा चुके हैं। गोगी गैंग का दक्षिणी पश्चिमी, द्वारका, बाहरी, रोहिणी, उत्तरी और दक्षिणी पश्चिमी दिल्ली में जितने बड़े गैंगवार हुए उनमें हाथ है। कुछ गैंगवारों में 50 से 100 राउंड तक फायरिंग तक के आरोप इस गैंग पर लग चुके हैं।

Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ