हनीट्रैप की धमकी देकर 70 लाख की फिरोती मांगी

हनीट्रैप की धमकी देकर 70 लाख की फिरोती मांगी 

अपह्रत को रिहा करा दो युवती समेत 6 आरोपी गिरफ्तार



जोधपुर 07 अक्टूबर। पूर्व जिले की थाना बनाड़ पुलिस ने जोधपुर एम्स के कर्मचारी को हनीट्रैप के मामले में फंसाने की धमकी देकर 70 लाख रुपये की फिरौती या जोधपुर शहर में जमीन नाम करवाने की धमकी देकर बंधक बनाने के मामले का खुलासा कर दो युवतियों सहित 6 जनों को गिरफ्तार किया है। यह घटना अपह्रत व्यक्ति के रिश्ते में भाई ने ही दोस्तो के साथ मिलकर की थी।

      डीसीपी पूर्व ने बताया कि 6 अक्टूबर को धोरीमन्ना जिला बाड़मेर निवासी हरीराम विश्नोई ने एक रिपोर्ट पेश की कि उसका बेटा श्रवण कुमार एम्स जोधपुर में नौकरी करता हैं। 3 अक्टूबर को उनका रिश्तेदार पाबू राम लेकर गया था। उसके बाद श्रवण के फोन से उसके भांजे जयकिशन के फोन पर कॉल आया और 70 लाख रुपये या जोधपुर शहर में भुखण्ड नाम करने की मांग की गई। नही देने पर बलात्कार व एससी एसटी के मुकदमे में फसाने की धमकियां दी गई। घटना की गम्भीरता को देख एसीपी मंडोर के सुपरविजन व थानाधिकारी सीता राम खोजा के नेतृत्व में विशेष टीम गठित की गई।

     गठित टीम ने मुखबिर तन्त्र व सुचना संकलन के आधार पर जोधपुर शहर रेल्वे स्टेशन के सामने से अपहृत श्रवण कुमार को अभियुक्त पन्ना राम उर्फ पवन पुत्र बीजा राम जाट (27) निवासी थाना धोरीमन्ना बाडमेर व विनित कुमार पुत्र जगदीश प्रसाद मेघवाल (28) निवासी सारण नगर जोधपुर के कब्जे से छुड़ा लिया। उसके बाद उनसे प्राप्त जानकारी पर घटना में शरीक अन्य अभियुक्त महेन्द्र उर्फ मुकेश पुत्र नारायण राम जाट (25) निवासी थाना बिलाडा, जोधपुर, विकास मान पुत्र लीलाधर जाट (35) निवासी थाना भुवाना, जिला झून्झनु हाल निवासी शिकारगढ थाना बनाड, संगीता पत्नी गोपाल सिह राजपूत (35) निवासी टूट की बाडी मण्डोर व मुस्कान पुत्री राजू सिन्धी (21) निवासी नागपुर महाराष्ट्र हाल टूट की बाडी थाना मण्डोर जोधपुर को संकलित सुचना के आधार टीम ने जोधपुर शहर के अलग अलग जगह पर दबिशे देकर गिरफ्तार किया गया।

*रिश्ते में भाई ने ही रची थी साजिश*

अभियुक्त पाबूराम विश्नोई रिश्ते मे श्रवण कुमार विश्नोई का भाई है। जिसने लाखो रुपये व जोधपुर शहर मे भुखण्ड प्राप्त करने की नियत से गिरफ्तार आरोपितों के साथ मिल कर अपने भाई श्रवण कुमार को शिकारगढ किराये के कमरे मे बुलाकर युवती मुस्कान के साथ कमरे में बन्द कर मारपीट की व मोबाइल से अश्लील वीडियो बना परिवार वालो से रुपये व जमीन की मांग  की।

     घटना के बाद 03 अक्टूबर से गुरुवार 07 अक्टूबर तक जोधपुर शहर में अलग अलग जगह पर बंधक बना कर रखा व लगातार परिजनों को धमकियां देते रहे। गिरफ्तार मुलजिमों से गहनता से अनुसंधान किया जा रहा है। अपहृत श्रवण कुमार को रिहा करवाने व मुल्जिमों की गिरफ्तारी में एएसआई गंगा राम, कांस्टेबल नेमा राम खोजा व हनुमान सिह बेनिवाल की महत्वपूर्ण भूमिका रही है ।

Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ