विशेष मजिस्ट्रेट एवं उनके दो कर्मचारियों के खिलाफ कुकर्म का मामला दर्ज

 विशेष मजिस्ट्रेट एवं उनके दो कर्मचारियों के खिलाफ कुकर्म का मामला दर्ज 


हाईकोर्ट ने मजिस्ट्रेट को किया  निलंबित 

भरतपुर । भरतपुर के मथुरा गेट थाने में रविवार को एक महिला ने एक विशेष मजिस्ट्रेट  जितेंद्र गुलिया और उनके दो कर्मचारी अंशुल सोनी और राहुल कटारा के खिलाफ अपने नाबालिग बेटे के साथ कुकर्म करने का मामला दर्ज कराया। बच्चे की उम्र 14 साल है। हाईकोर्ट ने आरोपी मजिस्ट्रेट जितेंद्र गुलिया को निलंबित कर दिया।

रविवार को बच्चे को साथ लेकर उसकी मां मथुरा गेट थाने पहुंची और मजिस्ट्रेट के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। महिला का कहना है कि मजिस्ट्रेट बच्चे को डरा-धमका कर डेढ़ महीने से उसके साथ कुकर्म कर रहा था। दो दिन पहले इस पूरे मामले का खुलासा हुआ। इसके बाद उसने पुलिस के पास जाने का निर्णय लिया।पुलिस में मामला दर्ज होने के बाद आरोपी मजिस्ट्रेट एवं दोनों कर्मचारी भूमिगत हो गए है। थाना मथुरागेट प्रभारी रामनाथ ने बताया कि यौन शोषण के शिकार 15 वर्षिय एक बालक की माँ की तरफ से इस मामले को लेकर थाने में पेश की गई। रिपोर्ट के बाद विशिष्ठ मजिस्ट्रेट भृष्टाचार निरोधक ब्यूरो जितेंद्र गुलिया  , न्यायायिक कर्मचारी अंशुल सोनी ब राहुल कटारा को नामजद कर पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। रिपोर्ट में भृष्टाचार निरोधक ब्यूरो के उपाधीक्षक परमेश्वर यादव पर भी यह आरोप लगाया गया है कि बे आरोपियों के अलाबा ब्यूरो के कई पुलिसकर्मियों के साथ पीड़ित बच्चे के घर आए और उन्होंने मामले को रफादफा करने का दवाब बनाते हुए गली गलौच की तथा कहा कि मामले को रफादफा नही किया तो बे परिवार के लोगो को जेल में डलबा देंगे। दर्ज रिपोर्ट के अनुसार पीड़ित नावालिग टेनिस खेलने के लिए डिस्ट्रिक्ट क्लब जाता था। जहां आरोपी मजिस्ट्रेट ने उससे जानपहचान बनाई। रिपोर्ट में कहा गया है कि जानपहचान बढाने के बाद आरोपी मजिस्ट्रेट बच्चे को अपने घर ले जाने लगे जहां उसे कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ पिला यौन शोषण ब दुष्कर्म किया जाता था। 

जब बच्चे की मां ने दोबारा बच्चे से पूछा तो उसने बताया कि मजिस्ट्रेट जितेंद्र गुलिया उसे शराब पिलाते हैं। जूस में कोई नशीली चीज मिलाकर देते हैं। फिर कपड़े उतारकर मेरे साथ गलत काम करते हैं। यह सब करने से मना करने पर धमकियां देते हैं। बच्चे ने बताया कि मजिस्ट्रेट के साथ रहने वाले दो लोग अंशुल सोनी और राहुल कटारा ने भी उसके साथ कुकर्म किया है।मजिस्ट्रेट ने 30 तारीख को राहुल कटारा को बच्चे के घर भेजा। राहुल कटारा ने माफी मांगते हुए कहा कि आगे से ऐसी गलती नहीं होगी। कुछ देर बाद अंशुल सोनी भी बच्चे के घर पहुंच गया। उसने भी बच्चे की मां और बच्चे से माफ़ी मांगी। इसके बाद दोपहर में मजिस्ट्रेट गुलिया बच्चे के घर पहुंचे। उन्होंने भी बच्चे से माफ़ी मांगी और आगे से कुछ भी करने से मना किया। इस दौरान बच्चे के घरवालों ने मजिस्ट्रेट का माफी मांगते हुए वीडियो बना लिया, जिसे उन्होंने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। महिला ने बताया कि शाम को एसीबी के सीओ परमेश्वर लाल यादव उनके घर पहुंचे और माफ़ी मांगने के बहाने उनके रिश्तेदारों को रंगदारी के मामले में फंसाने की प्लानिंग कर दी।

मथुरा गेट थाना अधिकारी रामनाथ गूजर ने बताया कि मथुरा गेट थाना इलाके की एक महिला ने अपने बच्चे के साथ कुकर्म का मामला दर्ज करवाया है। महिला का कहना है कि उसके बच्चे के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ है। बच्चे की उम्र कम होने के कारण मामला पॉक्सो एक्ट में दर्ज किया गया है, जिसकी जांच सीओ सिटी सतीश वर्मा कर रहे हैं। महिला ने मजिस्ट्रेट जितेंद्र गुलिया और उनके दो साथियों पर कुकर्म के आरोप लगाए हैं।

Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मुख्यमंत्री सोमवार को जारी करेंगे कोरोना की नई गाइड लाइन

शिक्षा विभाग ने स्कूल सफाई कर्मचारियों की उपेक्षा की-शासन नया परिपत्र जारी करे - कर्मचारी संघ