अंतर्राज्यीय नकबजन गिरोह का पर्दाफाश

1 करोड़ के माल पर हाथ साफ करने वाले 


अंतर्राज्यीय नकबजन गिरोह का पर्दाफाश

सरगना भुगलेसुर सहित नकबजन गिरोह के 5 शातिर नकबजन गिरफ्तार,
50 से अधिक नकबजनी की वारदातों का खुलासा
वारदातों में प्रयुक्त मारूती वैन एवं नकबजनी के औजार बरामद
नेशनल हाईवे के आसपास बसी कॉलोनियों में एक ही रात को 
बहुत सी वारदातों को अंजाम देते थे। 
गिरोह के सभी सदस्य वारदात के समय रहते थे नंगे पैर



जयपुर। पुलिस आयुक्त जयपुर  आनन्द श्रीवास्तव आईपीएस ने बताया कि जयपुर पश्चिम जिला पुलिस ने नकबजन गिरोह का पर्दाफाश कर सरगना सहित 5 अपराधियों को गिरफ्तार किया है, जो नकबजनी की अन्तर्राज्यीय  गैंग है।
श्रीवास्तव ने बताया कि पिछले दिनों जयपुर पश्चिम के पुलिस थाना झोटवाड़ा, करणी विहार, चित्रकूट, वैशाली नगर, मुरलीपुरा, हरमाड़ा आदि थाना क्षेत्रों में नकबजनी की वारदातें हुई। जिनमें जैवरात, नगदी, इलेक्ट्रोनिक व अन्य सामान जिनकी कुल कीमत करीब 1 करोड़ रूपये के लगभग है।


श्रीमती ऋचा तोमर आईपीएस पुलिस उपायुक्त जयपुर पश्चिम ने रामसिंह शेखावत आर.पी.एस. अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त जयपुर पश्चिम के नेतृत्व में संबंधित वृत झोटवाड़ा व  घनश्याम सिंह पु.नि. थानाधिकारी पुलिस थाना झोटवाड़ा,  देवेन्द्र पु. नि. थानाधिकारी मुरलीपुरा व  बनवारी लाल पु. नि. थानाधिकारी करधनी जयपुर पश्चिम को निर्देशित किया कि 24 घंटे में अज्ञात गैंग व वाहन को चिन्हित करेंगे व आगे की कार्यवाही करेंगे। पुलिस द्वारा सभी घटनाओं के घटनास्थलों का निरीक्षण किया गया। अलग अलग घटनास्थलों पर जाकर पीडितों से जानकारी ली गई। आस पास के सीसीटीवी फुटेज देखे गये व वारदातों में प्रयुक्त वाहनों की सीसीटीवी फुटेज द्वारा पहचान की गई व तरीका वारदातों का विश्लेषण किया गया व गैंग के आने जाने के रास्तों का मालूम किया गया व सकिय गैंग को नामजद किया गया। इस कार्यवाही में पुलिस थाना झोटवाड़ा की महत्वपूर्ण भूमिका इस ऑपरेशन को  प्रमोद स्वामी सहायक पुलिस आयुक्त झोटवाड़ा घनश्याम सिंह राठोड पुलिस निरीक्षक थानाधिकारी थाना झोटवाड़ा की देखरेख में सफल बनाने वाले अधिकारियों का योगदान रहा है।

उपायुक्त पश्चिम श्रीमती श्रृचा तोमर ने  बताया कि गिरोह के सदस्य ज्यादा पढें लिखे नहीं है। सिर्फ 8-10 क्लास तक ही पढ़ाई की है। इसके अलावा ये सभी 20- 27 साल की उम्र के है। 



घनश्याम सिंह पुलिस निरीक्षक थानाधिकारी थाना झोटवाडा व  नरेंद्र खींचड थानाधिकारी थाना दौलतपुरा जयपुर पश्चिम मय टीम के निर्देशन में इंद्राज एसआई,  गोपीचन्द एसआई,  तेजपाल एसआई, बलराम हैड कानि, कानिगण मालीराम, राकेश, सुरेश, गजानन्द, गोरीशंकर, भवानी, शेर सिंह, देशराज व दिनेश कुमार कानि. तकनिकी सहायक डीसीपी वेस्ट जयपुर की विशेष टीम द्वारा अथक प्रयास व लगातार वारदातों में आ रहे चौपहिया वाहनों का रूट तय कर लगातारा दो दिनों तक दौलतपुरा, मनोहरपुर टोल नाकों पर नाकाबंदी रखी गई व हर आने जाने वाले संदिग्ध वाहनों पर निगरानी रखी गई।
02.12.2021 को  बलराम हैड कानि 2081 ने सूचना दी कि आज नकबजन गिरोह के सदस्य दिल्ली नम्बर की मारूति वैन में जयपुर की तरफ वारदात करने आने की पूर्ण संभावना है। उक्त सूचना पर पूर्व घटित टीम द्वारा दौलतपुरा टौल पर प्रत्येक दिल्ली व हरियाणा नम्बर के वाहनों को सघनता से चैक किया गया व उसी समय वाहन मारूती सुजुकी ईको वैन जयपुर की तरफ आ रही थी जिसको रूकने का ईशारा करने गाड़ी को भगाने की कोशिश की जिस पर पहले से ही पूर्व नियोजित प्लानिंग के तहत टीम द्वारा गाड़ी के आगे व पिछे दो ढक व बोलेरो कैम्पर लगाकर रोका व घेरा डालकर नकबजन गैंग को काबू किया। वाहन की सघन तलाशी ली गई तो वाहन के अन्दर एक बैग में नकबजनी में काम लेने वाले औजार (कटर, लोहे की नकब, अलग अलग साईज के पेचकश, चाबिया, प्लास ) आदि मिले। गिरोह के सदस्यों से अलग अलग कर पूछताछ की गई तो सभी ने जयपुर शहर में नकबजनी की कई वारदातें करना कबूल किया जिनको बाद पूछताछ मुकदमा नम्बर 776/2021 धारा 380, 457, 401 आईपीसी पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम में 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया व आरोपियों से अनुसंधान जारी है, वारदातों में चोरी किये गये माल को बरामद करने के प्रयास जारी है।

गिरफ्तारशुदा अभियुक्तों के नाम --
1-मुगलेसुर पुत्र  अलाउदीन शेख जाति शेख मुसलमान उम्र 27 साल निवासी एन 38 बी 287 थाना जहांगीरपुरी दिल्ली
2-शहजाद पुत्र  कदीर जाति मुसलमान उम्र 21 साल निवासी बी 7-262 भलस्वा डेयर थाना भलस्वा दिल्ली
3- शेख अताउल उर्फ अताबुल पुत्र  शेख रजाबुल जाति मुसलमान उम्र 20 साल निवासी एन 38 सीढीपार्क 224 जहांगीरपुरी दिल्ली
4-आमीर पुत्र मोहम्मद शफीक जाति मुसलमान कुरेशी उम्र
उम्र 20 साल निवासी 44 बी 190 (254) झुग्गी नई सीमापुरी थाना दिलशाद गार्डन दिल्ली
5-आफताब पुत्र  फिरोज जाति मुसलमान उम्र 20 साल निवासी
मंगलबाजार चौक एच 2 मार्केट थाना जहांगीरपुरी दिल्ली मोडस ऑपरेन्डी नकबजन गिरोह संरगना मुगलेसुर के ईशारों पर रात्रि के समय नकबजनी की वारदातें करते है।
गिरोह वारदात के लिए नेशनल हाईवे के आस पास के क्षेत्र में बने मकानों व फ्लेटों को निशाना बनाते है। ये लोग दिल्ली से चौपहिया वाहन से रवाना होकर नेशनल हाईवे से रैकी करते हुए अपने टारगेट तक पहुचते है।  वारदात में प्रयुक्त वाहन को अंधेरे में छिपा कर खड़ा करते है जिससे उसकी पहचान नही हो।गिरोह नंगे पैर वारदात करने निकलता है, जिसको शुभ भी मानते है व पैरों की आवाज भी नही आती है। गिरोह द्वारा वारदात करते समय आस पास के व पड़ोसियों के मकानों की कुंदी लगा देते है जिससे जाग होने पर बाहर नहीं निकल सकें।गिरोह  वारदात को अंजाम देकर सुबह जल्दी वापिस दिल्ली के लिए निकल जाता है व दिन में चोरी के माल को बेचकर मौज मस्ती की जिन्दगी जीते है।इनके द्वारा अलग अलग वाहनों से वारदात को अंजाम दिया जाता है। गिरोह के अधिकांश सदस्य पूर्व में चोरी व नकबजनी की वारदातों में गिरफ्तार हो चुके है।


पुलिस टीम द्वारा की गई कार्यवाही


• गठित  टीम द्वारा घटनास्थलों के आसपास के सीसीटीवी कैमरों को चैक किया गया, वारदात में काम में लिये गये वाहनों को चिन्हित कर निगरानी रखी गई।संदिग्ध मोबाईल नम्बरों का विश्लेषण किया गया। संदिग्ध गिरोह के आने जाने का रूट तय किया गया। टोल नाकों पर निगरानी की गई। टीम के सदस्य राकेश कानि 3879 व  सुरेश कुमार कानि नं 10750 को नेशनल हाईवे पर निगरानी हेतु तैनात किया गया व आसुचना प्राप्त की गई। संदिग्ध गैंग को चिन्हित करते हुए पुलिस टीम द्वारा अथक प्रयास करते दोलतपुरा टोल पर गिरोह को पकड़ने की सफलता हासिल की। 

विशेष विवरण
नकबजन गिरोह अपने साथ ताले व दरवाजे काटने, तोड़ने के औजार  बैग में रखकर लाते है, बैग को चौपहिया वाहन के बोनट के अन्दर छिपाकर लाते है। नाकाबंदी व पुलिस
पूछताछ के दौरान बैंग का मालूम नही चलता। नकबजन गिरोह बहुत ही शातिर है, कम समय में बंद मकान व फलेटों को चिन्हित कर अधिक से अधिक वारदातों को अजाम देने में माहिर है। सभी गिरोह के सदस्य रात्रि के समय एक साथ चलते है व किसी भी व्यक्ति द्वारा विरोध करने पर हमला कर फरार हो जाते है।

पूछताछ के दौरान 50 से अधिक नकबजनी की वारदातों का खुलासा पूछताछ में सामने आया है कि उपरोक्त गिरोह गत एक वर्ष से लगातार रात्रि के समय नकबजनी की वारदातों में लिप्त है। गिरोह के सदस्य रात्रि के समय चोपहिया वाहन में सवार होकर नेशनल हाईवे के आसपास बसी कॉलोनियों में प्रवेश करके एक ही रात्रि को बहुत से सूने मकानों व फ्लेटो में एक साथ नकबजनी की वारदातों को अंजाम देते है। अभियुक्तगणों ने दिल्ली, पंजाब, यूपी,
राजस्थान, हरियाणा में गत एक वर्ष में अनेको नकबजनी की वारदातों को अंजाम दिया हैं।
अभियुक्तगणों ने पूछताछ के दौरान झोटवाडा, करणी विहार, वैशाली नगर, चित्रकूट, भांकरोटा,
मुरलीपुरा, हरमाडा, दौलतपुरा आदि थाना क्षेत्रों से दर्जनो नकबजनी की वारदातों को अंजाम दिया है।

गठित टीम के सदस्य:

घनश्याम सिंह पुलिस निरीक्षक थानाधिकारी पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, नरेन्द्र खीचड़ पुलिस निरीक्षक थानाधिकारी पुलिस थाना दौलतपुरा जयपुर पश्चिम मय थाना जाब्ता , इंद्राज सिंह उप निरीक्षक पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, गोपीचन्द उप निरीक्षक पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, तेजपाल उप निरीक्षक पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, बलराम हैड कानि 2081 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, मालीराम कानि 8696 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, राकेश कुमार कानि 3879 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, सुरेश कुमार कानि 10750 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, गजानन्द कानि 9494 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, गोरीशंकर कानि 4936 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, भवानी सिंह कानि 9979 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, शेर सिंह कानि 6994 पुलिस थाना झोटवाडा जयपुर पश्चिम, देशराज कानि 9412 पुलिस थाना झोटवाड़ा जयपुर पश्चिम, दिनेश कुमार कानि. तकनिकी सहायक कार्यालय श्रीमान डीसीपी पश्चिम जयपुर। सम्पूर्ण कार्यवाही व गैंग का खुलासा करने में हैड कानि  बलराम नं 2081, कानि  राकेश नं 3879,  सुरेश कुमार कानि 10750,  गजानन्द कानि 9494 का महत्वपूर्ण योगदान रहा ।


Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

एसओजी ने महिला पुलिसकर्मी को कालवाड़ में मौसा के घर से दबोचा,

डीएसपी हीरालाल सैनी मामले में चार पुलिस अधिकारी नपे