फर्जी डिग्रीयाँ उपलब्ध कराने वाले गिरोह का भंडाफोड़

फर्जी डिग्रीयाँ उपलब्ध कराने वाले  गिरोह का भंडाफोड़ 


बिहार के तीन ठग गिरफ्तार

बड़ी संख्या में प्राइवेट कॉलेज व विश्वविद्यालय के जाली दस्तावेज, मोहर, सर्टिफिकेट, करोड़ो रूपये के हिसाब किताव की डायरियां बरामद


अलवर 28 जनवरी। जिले की एनईबी थाना पुलिस ने शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न कोर्स करने वालें इच्छुक विद्यार्थियों से सम्पर्क कर उन्हें घर बैठें फर्जी डिग्री, डिप्लोमा, मार्कशीट, माईग्रेशन सर्टिफिकेट, प्रोविजनल सर्टिफिकेट आदि उपलब्ध कराने वाले अन्तर्राज्य गिरोह का शुक्रवार को खुलासा कर बिहार निवासी अन्तर्राज्यीय गिरोह के तीन आरोपियों सुधीर कुमार पुत्र सुदेश्वर यादव (35), सुजीत कुमार मिश्रा पुत्र सुरेश चन्द (23) एवं सचिन कुमार सिंह पुत्र देवेंद्र कुमार सिंह (31) को गिरफ्तार किया है।

      अलवर एसपी तेजस्वनी गौतम ने बताया कि गिरफ्तार जालसाजों से पूछताछ में सामने आया कि प्राईवेट यूनिवर्सिटियों से सम्बन्ध स्थापित कर प्रवेश से लेकर परिणाम तक की सारी व्यवस्थाएँ खुद ही तैयार करते हैं। उत्तर भारत के कई राज्यों के प्राईवेट यूनिवर्सिटियों से इनका टाईअप होना पाया हैं। थाना पुलिस को इनके पास मिली डायरियो व हार्ड डिस्क में कई करोडो का हिसाब किताब मिला है। इनके पास जिले की एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी व राज्य के अन्य विश्वविद्यालयों के दस्तावेज मिले हैं। जांच में प्राईवेट विश्वविद्यालयों का गौरखधन्धा भी सामने आ सकता हैं। 

बरामद। 10 से 15 लाख का खुद का सालाना आयकर रिटर्न भरना बताया  हैं।

*ऐसे हुआ खुलासा*

शुक्रवार को एनईबी थाना पुलिस को सूचना मिली की झंकार होटल के पास एक मारुति कार खडी हैं। जिसमें तीन व्यक्ति बैठें हैं जो विभिन्न यूनिवर्सिटीयों से किसी भी कोर्स की फर्जी डिग्री और डिप्लोमा बिना कॉलेज गये मोटी रकम लेकर देने बात कर रहें हैं। सूचना पर थानाधिकारी सुरेश कुमार मय टीम के मौके पर पहुंचे ओर भाग रहे तीनों आरोपियों को बामुश्किल काबू किया। भागने का कारण पूछा तो कोई सन्तोषप्रद जवाब नहीं दिया। जिस पर गाडी की तलाशी ली की गई तो फर्जी गोरखधंधे का खुलासा हुआ। 

*कार की तलाशी में मिले ये दस्तावेज*

कार की तलाशी में विभिन्न यूनिवर्सिटी की कुल 439 उत्तर पुस्तिका भरी हुई, 850 खाली उत्तर पुस्तिका, 93 भरे हुये माईग्रेशन प्रमाण पत्र, 41 कॉलेज परित्याग प्रमाण पत्र, टी.सी. व 91 मार्कशीट, 26 प्रोविजनल  प्रमाण पत्र, 4 खाली प्रोविजनल प्रमाण पत्र, 118 खाली माईग्रेशन प्रमाण पत्र , 37 खाली एप्लीकेशन फार्म, 118 भरे हुयें एप्लीकेशन फार्म ,18 ओपीजेएस यूनिवर्सिटी चूरू के खाली लैटर पैड, 3 खाली एफीडेविट, 5 खाली नोड्यूज सर्टिफिकेट, 05 नोड्यूज प्रमाण पत्र भरे हुयें, डिग्री सर्टिफिकेट, 22 रसीद विद्यार्थियों से रूपयें प्राप्ति की, भरा हुआ चैक बैक अफ बडौदा बिहार, 10 एटीएम कार्ड, 7 क्रेडिट कार्ड, एक लेपटॉप व एक टैबलेट एवं हार्डडिस्क, 4 डायरिया पैसो के लेन देन के हिसाब की एवं 4 मोहरे बरामद की गई।

गाडी में विभिन्न यूनिवर्सिटीयों की उत्तर पुस्तिकाए (कापियाँ) , भरे हुयें एवं खाली माईग्रेशन प्रमाण पत्र , टी.सी, मार्कशीट, कलेज परित्याग प्रमाण पत्र , भरे हुयें व खाली प्रोविजनल प्रमाण पत्र , भरें हुए व खाली  एप्लीकेशन फार्म (आवेदन फार्म ) , ओपीजेएस यूनिवर्सिटी के खाली लैटर पैड , खाली एफीडेविट , खाली व भरें हुयें नोड्यूज सर्टिफिकेट , डिग्रियां , विद्यार्थियों से फीस की प्राप्ति बाबत रसीद , भरा हुआ बैंक चैक ,एटीएम कार्ड , डेबिट कार्ड , भारी मात्रा में खाली उत्तर पुस्तिकाए ,एक लैपटप , एक टैबलेट, एक हार्ड डिस्क , हिसाब किताब की चार डायरियाँ  जिनमें करोडों रूपयें का लेन देन का हिसाब हैं । ओपीजेएस यूनिवर्सीटी सहित अन्य राजपत्रित अधिकारी की मोहरे मिली । 

    इन दस्तावेजों के सम्बन्ध में गाडी में मिले सुजीत कुमार मिश्रा व सचिन कुमार सिंह ने बताया कि वे विभिन्न यूनिवर्सिटीयों से विभिन्न कोर्सेज जिनमें बीएससी, बीए, बीकम, बीबीए, एमसीए, पीजीडीसीए, डीएड , पोलोटैकनिक , लाईब्रेरियन इत्यादि के फर्जी तरीके से विद्यार्थियों को बिना कॉलेज बुलायें उनसे मोटी रकम लेकर अच्छें नम्बरों से पास करवाने का झांसा देकर डिप्लोमा या डिग्री दिलवातें हैं। उनका कई राज्यों में विभिन्न विश्वद्यालयों से टाईअप हैं । फर्जी प्रवेश फार्म से लेकर के परिणाम तक की सारी कार्यवाहियाँ करके हम परीक्षार्थी को सीधे ही डिग्री / डिप्लोमा दे देते हैं । विश्वविद्यालयों में रिकार्ड जमा कराकर पूर्ति करा देते हैं । ताकि बाद में अगर किसी विद्यार्थी की इन डिग्री से सरकारी नौकरी लगती हैं तो फर्जीवाडे में नहीं फंसें ।    

     एसपी गौतम ने आमजन से अपील की है कि दलाल या ऐजेन्ट के मार्फत प्रवेश ना लेकर स्वयं ही विश्वविद्यालय में जाकर प्रवेश लेवें। विश्वविद्यालय की यूजीसी व सरकार द्वारा जारी नियमावली से मान्यताओं की जानकारी सुनिश्चित कर लें तथा जल्दबाजी व शार्टकट के चक्कर में पडकर अपने भविष्य से खिलवाड नहीं करें।

                         

Comments

Popular posts from this blog

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

एसओजी ने महिला पुलिसकर्मी को कालवाड़ में मौसा के घर से दबोचा,

डीएसपी हीरालाल सैनी मामले में चार पुलिस अधिकारी नपे