महज 26 साल की उम्र में कर दिया अभूतपूर्व कारनामा

 महज 26 साल की उम्र में कर दिया अभूतपूर्व कारनामा 


क्रांतिकारी भगवतीचरण वोहरा की याद मे


                           कल्पना पांडे, लेखिका                                                                   

 


भगत सिंह के महत्वपूर्ण साथी भगवतीचरण वोहरा का जन्म 4 नवंबर1903 को लाहौर में हुआ थाजो अब पाकिस्तान में है। वे एक गुजराती ब्राह्मण थे। उनके पिता पंडित शिवचरण वोहरा रेलवे में एक उच्च पदस्थ अधिकारी थे। उन्हें अंग्रेजों द्वारा 'रायसाहबकी मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था। चूंकि उस समय टाइपराइटर नहीं थाइसलिए भगवती चरण के दादाजी आगरा को जीवन निर्वाह के लिए लिखते (किताबत) थे। उनके पूर्वज गुजरात से आगरा और आगरा से लाहौर चले गए। उपनाम वोहरा (संस्कृत मूल: व्यूह) का अर्थ उर्दू में व्यापारी भी है। माना जाता है कि भगवतीचरण के परिवार ने अपना अंतिम नाम खो दिया था क्योंकि उन्होंने लाहौर के मुस्लिम-बहुल इलाके में ब्राह्मण के रूप में अपनी नौकरी छोड़ दी थी। भगवती चरण के दादाजी के बारे में एक मजेदार कहानी है। उस समय वह एक रुपया प्रतिदिन कमाते थेऔर एक रुपया कमाने के बाद वह काम करना बंद कर दिया करते थे। डेढ़ सौ साल पहले आज की तरह असुरक्षा और लालच नहीं था। 1918 मेंजब वह सिर्फ 14 साल के थेउनके माता-पिता ने उनकी शादी 11 वर्षीय दुर्गावती देवी से कर दीजिन्होंने 5 वीं कक्षा तक पढ़ाई की थी।


विज्ञान विषयों में इंटर के बाद भगवतीचरण वोहरा असहयोग आंदोलन में कूद पड़े। इस आंदोलन में भगतसिंहसुखदेव आदि भी थे। लेकिन चौरीचौरा हिंसा के बाद गांधीजी ने जिस एकतरफा तरीके से आंदोलन वापस ले लिया उससे युवाओं मे निराशा का माहौल फ़ेल गया। उसके बाद वोहरा ने लाहौर के नेशनल कॉलेज से बीए किया। वहां उनकी मुलाक़ात भगत सिंह और कई अन्य सहयोगियों से हुई। भगतसिंह और सुखदेव इसके मुख्य सदस्य थे जिन्होंने 'देश की गुलामी और मुक्ति का सवाल’ नामक एक अध्ययन समूह चलाया। नौजवान भारत सभा का गठन 1923 में भगत सिंह की पहल पर हुआ था। भगवती चरण को उस संगठन का प्रचार सचिव नियुक्त किया गया। नौजवान भारत सभा का कार्य लोगों में क्रांतिकारी विचारों का प्रसार करना था। भगवती चरणभगत सिंहसुखदेवधन्वंतरीएहसान इलाहीपिंडीदास सोढ़ी बैठक की योजना बनाने से लेकर बैठक तक ले जाने तक सभी काम करते थे। संगठन राजनीतिक व्याख्यानों के अलावा सामाजिक भोज का आयोजन करता था। इसमें सभी धर्मों और जातियों के लोगों को एक साथ बैठकर खिचड़ी जैसा सादा भोजन करने के लिए आमंत्रित किया गया था। नौजवान भारत सभा ने जानबूझकर वंदे मातरमसत-श्री अकालअल्लाहु अकबर के नारों के बजाय इंकलाब जिंदाबादजय हिंदहिंदुस्तान जिंदाबाद के व्यापक और धर्मनिरपेक्ष नारों का उपयोग करने का फैसला किया।


भगत सिंह हमेशा अपनी जेब में क्रांतिकारी करतार सिंह सराभा की एक छोटी सी तस्वीर रखते थेजिन्हें 1914 में ग़दर आंदोलन के दौरान फांसी दी गई थी। नौजवान भारत सभा ने एक बार हिम्मत करके लाहौर के ब्रैडली हॉल में सराभा के लिए एक स्मृति कार्यक्रम का आयोजन किया। भगवती चरण ने अपने पैसे का इस्तेमाल एक छोटी सी तस्वीर से बड़ी तस्वीर बनाने के लिए किया। तस्वीर के ऊपर सफेद खादी का पर्दा लटका हुआ था। इस समय भगवती चरण के मुख्य भाषण ने पूरे माहौल को अभिभूत कर दिया। उनकी पत्नी दुर्गावती और सुशीला दीदी नामक एक नौजवान भारत सभा कार्यकर्ता ने उनकी उंगली काटकरअपने खून के छींटें उस सफेद पर्दे पर बिखेर दिए और मरने तक स्वतंत्रता के लिए काम करने की शपथ ली।

दुर्गावती हमेशा भगवतीचरण वोहरा के साथ काम करती थीं। क्रांतिकारी आंदोलनों के कारण भगवतीचरण को अक्सर भागना पड़ता और भूमिगत रहना पड़ा। इस दौरान उनकी अनुपस्थिति में भी क्रांतिकारी भगवतीचरण के घर आर्थिक और अन्य मदद के लिए आतेजाते थे। जिन लोगों ने इन अजनबियों को आते-जाते देखाउन्होंने भी दुर्गावती के चरित्र के बारे में अफवाह फैला दी। अपमान के बावजूददंपति ने क्रांतिकारियों को भोजनआश्रय और वित्तीय सहायता के लिए हमेशा अपने दरवाजे खुले रखे। उन दिनों उनके पास लाहौर में तीन घर थेलाखों की संपत्ति और हजारों बैंक बैलेंस थेलेकिन उन्होंने इन सभी सुख-सुविधाओं से इनकार कर दिया और स्वतंत्रता के लिए कई कठिनाइयों के साथ क्रांतिकारी रास्ता चुना। जब उनका विवाह हुआ तो भगवती चरण अपनी पत्नी दुर्गा को एक साधारण ग्रामीण महिला मानते थे। उन्होंने क्रांतिकारी शचिंद्रनाथ सान्याल के नाम पर अपने बेटे का नाम शचिंद्र रखा। भगत सिंह के साथी यशपाल ने अपनी फांसी के फंदे तक’ इस किताब में इस बारे मे जिक्र किया है। भगत सिंह ने दिल्ली और कानपुर में संपर्क स्थापित किया। काकोरी षडयंत्र में गिरफ्तार क्रान्तिकारियों को मुक्त कराने की योजना बनाई जा रही थी। काकोरी की गिरफ्तारी के बाद संगठन कमजोर हो गया था। भगत सिंह पंजाब के बाहर आते-जाते रहते थे और पंजाब का नेतृत्व जयचंद्र को दिया जाता था। वह निष्क्रिय था। यशपाल लिखते हैं कि जयचंद्र बहुत ही डरपोक व्यक्ति थेवो कभी गोलियां भी साथ नहीं रखते थे। पिस्तौल की गोलियां भी निकाल लेते था। वो भगवती को अपनी राह का रोड़ा समझते थे। वो निष्क्रिय थे और उनसे सक्रियता की उम्मीद थी। भगवती चरण संगठन के लिए बहुत पैसा खर्च करते थेलेकिन कुछ नहीं होने से वे भी तंग आ गए थे। उन्होंने यह भी कहा कि जिन कारणों से काम ठप्प है वो कठिनाइयाँ हमे भी पता होनी चाहिए। अगर कुछ नहीं होता हैतो हम कुछ अलग करेंगे  परिणाम ये हुआ कि जयचंद्र के नेतृत्व को चुनौती देने और सक्रियता के आग्रह के चलते उन्होंने भगवती चरण को एक बाधा समझना शुरू कर दिया।

भगवती का राजनीतिक प्रभाव बढ़ रहा था। पंजाब के पुराने क्रांतिकारियों से भी उनके संबंध थे। 1922 के सत्याग्रह के निरर्थक लगने के बादउन्होंने उस समय पंजाब में गुप्त रूप से बन रही कम्युनिस्ट पार्टी से संपर्क किया। इस कम्युनिस्ट पार्टी के लोगों का बाद में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के साथ इतना घनिष्ठ संबंध नहीं रहा। पंजाब से कुछ साहसी लोग जो अफगानिस्तान के रास्ते रूस गए थेउन्होंने लौटकर इस समूह का गठन किया था। इन लोगों ने गुप्त रूप से रूस और यूरोप से कम्युनिस्ट साहित्य वितरित किया। आंदोलन में व्यवस्था और योजना की कमी के कारणएकत्र किया गया धन इस तरह खर्च किया गया था। भगवतीचरण के घर पेशावर से किताबें और पैसे आते थे। जब अंग्रेजों ने भगवतीचरण और यशपाल को काकोरी क्रांतिकारियों को मुक्त करने की साजिश रचने के लिए वारंट जारी किया गया तो दोनों फरार हो गए।

इस स्थिति का फायदा उठाकर जयचंद्र ने अफवाह फैला दी कि भगवती पुलिस का खबरी है। आंदोलन में जाँच पड़ताल का समय नहीं मिला। भगवती धनी हैं। उन्हें कहीं भी अच्छी नौकरी मिल जाती। अच्छा व्यापार कर सकते हैं लेकिन इसकी क्या जरूरत हैवह सीआईडी में कार्यरत है। वह कोई काम नहीं करतावह हमेशा दरवाजे के पीछे बैठा हुआ कुछ लिखता रहता है। वह इसीलिए राजनीतिक कम कर रहा है ताकि सभी उत्साही क्रांतिकारियों को एक ही समय में फंसाया जा सके। भगवतीभगतसिंहसुखदेव और यशपाल जैसों कि अनुपस्थिति मे लोगों ने इस अफवाह पर विश्वास किया और भगवती को शक की नजर से देखने लगे। भगवतीचरण के  सीआईडी में होने का दुष्प्रचार इतना फैला कि वह नौजवान भारत सभा और कांग्रेस तक पहुंच गया। सभी एक ही बात कहते कि विश्वसनीय सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि भगवती अंग्रेजों का खबरी और सीआईडी का आदमी है

काकोरी षड्यंत्र में गिरफ्तार क्रांतिकारियों की रिहाई की कोशिशों मे पंजाब से कोई मदद नहीं मिल पाने के कारण कोई कदम उठाया नहीं जा रहा था। जयचंद्र पंजाब क्षेत्र में नौजवान सभा के मुखिया थे लेकिन वे डर के मारे निष्क्रिय थे और कोई न कोई कारण सामने रख देते थे। उन्होंने आपसी मनमुटाव को हवा देते हुए भगवती चरण का लगातार अपमान किया और भगवती चरण के बारे में झूठा प्रचार करना शुरू कर दिया। अब लाहौर में इस तरह से संगठन को बनाने का फैसला किया गया कि भगवती चरण को उसका कोई अता-पता न रहे। लेकिन बड़ी समस्या यह थी कि भगवती चरण को संगठन के बारे में बहुत कुछ पता था। इसमें जयचंद्र का व्यवहार यह दिखाना था कि भगवतीचरण एक चालाक और धूर्त व्यक्ति है। जो भी योजना बनती उसके बनाते समय ही  जयचंद्र अपने होठों पर उंगली रखकर कहते थे कि भगवती को पता चल जाएगा और बात वहीं की वहीं रुक जाती।

इस दौरान भगत सिंह काफी परेशान थे। एक तरफ तो खबर आई कि उसका करीबी भगवतीपुलिस की खबर बन गया हैवहीं दूसरी तरफ जयचंद्र के आने से संगठन का काम ठप हो गया है। रूसी क्रांति के दौरानज़ार के लोगों ने क्रांतिकारियों को पकड़ने के लिए खुद ज़ार के खिलाफ साजिश रची। ऐसा जिक्र रशियन पुस्तकों मे हर किसी के पढ़ने में आया था। भगत सिंह दुविधा में थे। एक ओर उन्हें भगवतीचरण पर पूर्ण विश्वास था। लेकिन दूसरी ओर उनकी वजह से उन्हें संगठन के सभी कामों में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था. भगत सिंह नहीं चाहते थे कि व्यक्तिगत मित्रता संगठन के कार्य में आड़े आए। यशपाल लिखते हैं कि - फिर भी भगतसिंह को विश्वास नहीं हो रहा था कि भगवतीचरण सीआईडी में है। लेकिन गहरे मंथन के बाद भगत सिंह इस निष्कर्ष पर पहुंचे थे किइस एक आदमी की वजह से सब कुछ बर्बाद हो रहा है। भगवतीचरण को मार दिया जाना चाहिए अन्यथा उनके कारण संगठन का काम हमेशा बाधित होता रहेगा।

चूंकि यशपाल और दुर्गा भाभी ने एक साथ प्रभाकर की परीक्षा दी थीइसलिए उनके लिए भगवतीचरण के घर जाना आसान था। तो एक दिन भगत सिंह यशपाल से नाराज हो गए और कहा, "तुम्हारा हमेशा उसके पास आना जाना है.. वह अच्छा खाता-पीता है। गप्पे लड़ाता हैलेकिन तू पता नहीं कर सकता कि वो सीआईडी का आदमी है या नहीं। यशपाल ने कहा, - मैंने कोशिश करके देखा पर कुछ मिला नहीं और अगर हर कोई सोचता है कि वह सीआईडी हैतो मैं कैसे इनकार कर सकता हूं?"  एक दिन भगतसिंह ने यशपाल को एक भरी हुई पिस्तौल दिखाई और गंभीरता से कहा, "अब मैं उसे गोली मारने जा रहा हूँ। यशपाल ने कहा कि -पूरी जिम्मेदारी तुम्हारी होगी। भगतसिंह चुप हो गए। इसके एक दिन बाद यशपाल ने भगतसिंह को भगवतीचरण के घर तकिये पर लेटे हुए बतियाते देखाभगवतीचरण बनियान में पेट पर हाथ रखकर बातें कर रहे थे। यशपाल लिखते हैं कि भगत सिंह का चेहरा अंदरूनी अंतर्द्वंद्व से जल रहा था। वे भगवतीचरण की दृढ़तासरलता और संगठन के हित में समंजस्य बैठाने की कोशिश कर रहे थे। उस दिन भगतसिंह मे भगवतीचरण को नहीं मारा।

इसके बाद संगठन में चर्चा चली कि थी कि यशपाल हमेशा उनके घर आ रहा था इसलिए वही उन्हें मारे। यशपाल के पास हाँ कहने के अलावा कोई चारा न था। एक दिन सुखदेव यशपाल के पास आए और बोले 'भगवतीचरण का कुछ तो इलाज होना चाहिए।यशपाल ने पूछा - 'तो क्या किया जाए'। सुखदेव ने कहा कि भगवती को भगतसिंह दूसरे शहर में ले गए हैं। यशपाल साहस करके तुम उनके घर जाकर सभी दस्तावेजों की तलाशी लो और देखो कि कुछ मिलता है क्या । यशपाल हिम्मत बटोर के भगवती के घर पहुंचा तो दुर्गा भाभी घर पर ही थीं। उसने बहाना बनाया कि बीमार चल रहा है और अपनी जेब में से काफी सारी दवा निकालकर पीसकर देने को कहा। अंदर जाकर यशपाल ने फुर्ती से हर अलमारी की जांच की। इस बार वह अपने साथ चाबियों का गुच्छा भी लाया था। लेकिन चूंकि कहीं भी ताला नहीं थाइसलिए उनकी जरूरत नहीं पड़ी। कुछ जगहों पर ताले लटके थे लेकिन खुले थेकई जगहों पर उनके द्वारा लिखीं टिप्पणियाँ कागजों पर बिखरी पड़ी थीं। भगवती चरण ने इससे पहले यशपाल को उनका लेख 'रिवोल्यूशन टुडेद बर्थ राइट ऑफ एवरी स्लेव नेशनपढ़कर सुनाया थाजो पंजाब में ग़दर वापसी आंदोलन की प्रशंसा करने वाला लेख था। जब कुछ हाथ नहीं लगा तो वह जरूरी काम से जा रहा हूँ कह कर चले गए। उन्होने सुखदेव को सारी बात बता दी। तब भगवती चरण को मारने का कोई पक्का फैसला नहीं हो पाया। बाद मेंधीरे धीरे चर्चा शुरू हुई कि भगवती चरण के बारे में झूठी अफवाहें फैलाई गई थीं।

नवंबर 1928 मे साइमन कमीशन के विरोध में लाला लाजपत राय के साथ नौजवान भारत सभा के युवा कार्यकर्ता भी बड़ी संख्या में मौजूद थे। लाला लाजपतराय पुलिस की बेरहमी से पिटाई में घायल हो गए और नवंबर 1928 को शहीद हुए। भारत नौजवान सभा ने उसकी हत्या का बदला लेने का फैसला किया। सॉन्डर्स को गोली मार दी गई और लालाजी की शहादत का बदला लिया गया। इसी के शक में भगत सिंह समेत तमाम कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई और कई कार्यकर्ता भूमिगत हो गए. मेरठ मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद भगवतीचरण भूमिगत हो गए थे। भगतसिंह की गिरफतारी के लिए लाहौर मे पहरा सख्त कर दिया गया। पुलिस से बचने के लिए भगत सिंह को लाहौर से भागना था और इसके लिए उन्होंने एक योजना बनाई।

भगत सिंह ने अपने बाल और दाढ़ी काट ली लेकिन इससे उनकी शक्ल पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ा। फायरिंग करते समय कुछ पुलिसकर्मियों ने उसे देखा और उसके चित्र पुलिस के हाथ में थे, इसलिए बहुत सावधान रहना था। सुखदेव रात 8 बजे अपनी भाभी के पास मदद मांगने गए और कहा कि वह पुलिस से बचाकर एक आदमी को लाहौर से बाहर निकालना हैं।  आप उसकी पत्नी मेम साहब बनकर उसके साथ जाएंगी?

दुर्गावती को तब इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनके साथ जाने वाला गुमनाम व्यक्ति उनका क्रांतिकारी मित्र भगतसिंह था। वे एक-दूसरे को कॉमरेड कहते थे और उनके घर आने वाले हर सहकर्मी पर इतना भरोसा करते थे कि दुर्गा भाभी द्वारा पकड़े जाने और देशद्रोह की सजा मिलने की भारी संभावना और विचार के बावजूद उन्होंने तुरंत हां कर दी। बाद में भगत सिंह भी वहां आए और योजना पक्की की गयी।

रात को वहीं छुपकर सुबह की मेल से कलकत्ता के लिए रवाना हुए। इस बार भगत सिंह ने अपने कॉलर पर एक लंबा ओवरकोट पहना और अपने चेहरे पर अपनी टोपी खींची और भगवतीचरण के तीन साल के बेटे शचिन्द्रकुमार को उठाकर सामने पकड़ लिया। दुर्गाभाभी ने भी अपना चेहरा रंगाऊँची एड़ी के सैंडल पहने और भगत सिंह के साथ चलीं। राजगुरु उनके नौकर बन गए। भगत सिंह के पास इस समय एक लोडेड पिस्टल भी थी। पुलिस को शक होता तो गोलीबारी होती और अगर ऐसा होता तो नन्हे शचिन्द्र और दुर्गा भाभी की मौत हो सकती थी। लेकिन फिर भी उन्होंने बिना किसी डर के बड़ी हिम्मत दिखाई। भगवती चरण कलकत्ता में छिपे थे। जब वह स्टेशन पर भगत सिंह से मिले और उन्होंने अपनी पत्नी और बच्चे को अपने साथ आने में मदद करते देखातो उन्होंने उनके कंधे पर हाथ रखा और कहा, "मैंने आज तुम्हें जाना है। इस साहसी घटना ने दुर्गावती की ओर देखने का सबका नजरिया बदल दिया। यह दुर्गादेवी के जीवन पर स्वतंत्रता आंदोलन में भगवतीचरण के कार्यों के प्रभाव को दर्शाता है।

8 अप्रैल1929 को में भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने दो कानूनों का विरोध करते हुए संसद कम क्षमता वाले बम फेंके और पर्चे फेंके। उन्हें बोस्टन जेल में रखा गया था। कुछ दिनों बाद सुखदेव और राजगुरु को भी गिरफ्तार कर लिया गया। इन सभी को जेल से बाहर लाने के लिए भगवतीचरणचंद्रशेखर आजादयशपालदुर्गावती सभी ने मिलकर योजना बनानी शुरू कर दी। जब भगत सिंहबटुकेश्वर दत्त और अन्य को लाहौर जेल से एक साथ अदालत में ले जाना थातो सेंट्रल जेल के दरवाजे पर अचानक हमला करने और उन्हें रिहा करने का निर्णय लिया गया। इस कार्य के लिए शक्तिशाली बमों की आवश्यकता थी क्योंकि पहरा काफी कडा था। भगवतीचरण बम बनाने की कला जानते थे। ये लोग जेल के पास एक जगह फर्जी नाम से किराए के मकानों में रहने लगे ताकि बम या अन्य सामग्री लाने में खतरा कम हो।

बम के गोले और रसायनों को इकट्ठा किया गया और अगले कुछ दिनों में बम बना दिया गया। बम को केमिकल से सुखाने और ट्रिगर फिट करने की जिम्मेदारी यशपाल की थी। एक दिन ट्रिगर ढीला रह गया। यशपाल बाहर गए हुए थे। लेकिन उनका उपयोग करने से पहले उनका परीक्षण करने की आवश्यकता थी। इसलिए भगवती चरणबच्चन और सुखदेवराज परीक्षण के लिए बम लेकर रावी नदी के तट पर गए। भगवतीचरण ने ट्रिगर देखा और वो ढीला होने के कारण वहीं रख दिया। सुखदेवराज ने मजाक में कहा, "अगर तुम डरे हुए हो तो मुझे दे दो।" भगवती ने कहाऐसी कोई बात नहीं हैजो मेरे लिए है वह तुम्हारे लिए है। उसने बम वापस फेंकने की लिए खींचा लेकिन ट्रिगर काम नहीं कर रहा थाइसलिए उसमें विस्फोट हो गया। भगवतीचरण इतनी बुरी तरह घायल हो गए कि उसका एक हाथ उनकी कलाई से अलग हो गया था। दूसरे हाथ की उंगलियां पूरी तरह टूट चुकी थीं और चेहरे पर कई जख्म थे। पेट के दाहिने हिस्से में एक छेद से खून बहना शुरू हुआ और बायीं तरफ से आंत बाहर निकल आई। पुलिस की सूचना के बिना रक्तरंजित भगवतीचरण को उठाना संभव नहीं था। तो सुखदेवराज ने बच्चन को पहरे पर रखकर बड़े दुख के साथ किराए के घर पहुंचे जहां सभी ठहरे थे। यशपाल छैलबिहारी के साथ टैक्सी से रावी नदी के किनारे पहुंचे और जंगल मे गए। भगवतीचरण के पेट में बड़ा छेद था और उसमें से खून निकल रहा था। पेट से आंत बाहर निकल गई थी। तब तक वह जीवित थे र स्काउटिंग में प्रशिक्षित क्रांतिकारियों ने उसे जंगल से बाहर निकालने की कोशिश की।

यशपाल ने अपनी किताब 'फंसी के फंदे तकमें उल्लेख किया है कि घायल हुए भगवती चरण ने कहा, "मुझे दुख है कि मैं भगत सिंह की रिहाई में योगदान नहीं दे सका। क्या होता अगर इस मौत को दो दिन के लिए टाल दिया जाता?” उसने मुझसे कहा, "बम फट गया। मेरे हाथ होते तो उनमे पिस्तौल देकर पुलिस को बुला लेना चाहिए था। भगतसिंह को छुड़ाने की कोशिशें थमनी नहीं चाहिए। बम का एक टुकड़ा गुर्दे में घुस चुका था। पेशाब लगती पर होती नहीं थी।

रात हो चुकी थीसुखदेवयशपाल अपने पास छैलबिहारी और देवराज सेठी और सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन (जिसे बाद में हिंदी साहित्य में 'अज्ञेय के नाम से जाना जाता है) को ईसाई कॉलेज के छात्रावास में छोड़कर शहर लौट आए। दोनों को साथ लेकर वे फिर से अंधेरे में घने जंगल में पहुंच गए। भगवती चरण शहीद हो गए थे और छैलबिहारी अंधेरे में डर के मारे भाग गए थे। देखते ही देखते सभी के आंसू छलक पड़े। यशपाल ने कहा, "आइए हम उन्हें अपने बहादुर नेता के सम्मान में एक आखिरी सलामी देते हैं।" सलामी कहते ही सभी लोग एक मिनट तक सिर के पास हाथ टिका कर सेल्यूट की मुद्रा मे शव के पास खड़े रहे। भगवतीचरण महज 26 साल की उम्र में 28 मई 1930 को शहीद हो गए थे।

उनके शरीर को चादर से ढक कर सभी लोग भरी मन से अपने किराए के बंगले में लौट आए। तब तक चंद्रशेखर आजाद लौट चुके थे। घर पर छैलबिहारीमदनगोपाल और दुर्गावती को बड़े धैर्य से घटना बताई गयी। दुर्गावती अपना मन खोलकर रो भी नहीं सकीं क्योंकि अगर शोर होता तो लोग इकट्ठा हो जाते और सभी भगोड़े क्रांतिकारियों की सुरक्षा खतरे में पड़ जाती। आजाद ने हमेशा की तरह घर की बत्तियां बुझा दीं। ये सभी क्रांतिकारी रात भर जागे। अगले दिन भोर से ठीक पहलेचंद्रशेखर ने बाहर निकलने के लिए कहा। इन क्रांतिकारियों के साथ साइकिल पर दुर्गावती क्रांतिकारियों की सभाओं में आतीजाती थीं, इसलिए लोग चर्चा करने लगे थे। लोगों का ध्यान न खिंचे इस सावधानी के चलते दुर्गावती इस समय अंधेरे में उनके साथ बाहर नहीं जा सकती थीं। अंत मेंयशपालचंद्रशेखर और बच्चन जंगल के लिए निकल पड़े। शव के पास कोई जंगली जानवर नहीं पहुंचा लेकिन खून में बड़ी-बड़ी चींटियां जमा हो गईं। उनके पास फावड़ा या कुदाल नहीं था, इसलिए शव को खोदकर दफन भी नहीं कर सकते थे। शव जलाते तो धुंए और दुर्गंध से पुलिस को खतरा है। कुछ बाल काटकर स्मृति के रूप मे रख लिया गया। अंत में कोई रास्ता न देख लाश को एक चादर मे बांधकर लाश को नदी के

इस घटना को लेकर यशपाल आजन्म खुद को ही दोषी ठहराते रहे। भगवतीचरण की मृत्यु परचंद्रशेखर आज़ाद ने कहा कि उनका दाहिना हाथ कट गया है। इसके बाद इन क्रांतिकारियों ने कई दिनों तक जेल परिसर अध्ययन किया और योजना को पुख्ता बनाया। कुछ दिनों बाद सभी बोर्स्टल जेल के बाहर तैयार हो गएलेकिन भगत सिंह की ओर से भागने की तैयारी नहीं दिखाई पड़ी, और उनको लेकर पुलिस की गाड़ी चली गयी। चंद्रशेखर आजाद की शहादत के बाद भगत सिंह ने कहा, "हमारा तुच्छ बलिदान उस जंजीर की कड़ी है जिसका सौन्दर्य कॉमरेड भगवतीचरण वोहरा के दुखद लेकिन गौरवपूर्ण बलिदान और हमारे प्रिय योद्धा आजाद की गरिमामयी मृत्यु से निखरा हुआ है


Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल