हर माह होगी जल जीवन मिशन की समीक्षा -एसीएस पीएचईडी

समस्याएं गिनाने की बजाय कार्य तय समय में पूरे करने पर करें फोकस 


हर माह होगी जल जीवन मिशन की समीक्षा- एसीएस पीएचईडी


जयपुर। अतिरिक्त मुख्य सचिव जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी एवं भूजल डॉ. सुबोध अग्रवाल ने कहा कि फील्ड में कार्य कर रहे अभियंता समस्याएं गिनाने की बजाय जल जीवन
मिशन के लक्ष्यों को समय पर हासिल करने पर फोकस करें। उन्होंने आंकड़ों की बाजीगरी दिखाने के स्थान पर जल जीवन मिशन के कार्य मिशन मोड पर करने के निर्देश दिए और कहा कि जिन कार्यों के वर्क ऑर्डर हो चुके हैं उनमें तेजी लाई जाए।
डॉ. अग्रवाल बुधवार को जल भवन के कॉन्फ्रेंस हॉल से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से फील्ड अभियंताओं एवं मुख्यालय के अधिकारियों के साथ जल जीवन मिशन के कार्यों की प्रगति एवं गर्मियों में पेयजल प्रबंधन की व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने नल के माध्यम से हर घर जल पहुंचाने के इस पुण्य कार्य को एक कर्मयोगी की तरह करते हुए जेजेएम के समस्त कार्य मार्च, 2024 से पहले ही पूरे करने को कहा। उन्होंने मुख्य अभियंता जेजेएम को निर्देश दिए कि समस्याओं को प्राथमिकता से हल करें ताकि फील्ड में मौजूद अधिकारी मिशन के कार्यों को गति दे सकें। उन्होंने अधीक्षण अभियंताओं से जिलेवार समस्याओं के बारे में भी जानकारी ली।


16 मई को होगी जिला कलेक्टर्स के साथ वीसी

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने 16 मई को जिला कलेक्टर्स के साथ होने वाली वीसी से संबंधित मुद्दों की भी जानकारी ली और कहा कि अधीक्षण अभियंता पेयजल प्रबंधन में जिला
प्रशासन के साथ समन्वय स्थापित कर कार्य करें। उन्होंने कहा कि वे स्वयं 13 मई को कोटा के दौरे पर जाकर जेजेएम के कार्यों की प्रगति की जानकारी लेंगे। साथ ही, उन्होंने एसीएस स्तर पर हर माह जेजेएम के कार्यों की प्रगति की समीक्षा और मुख्य अभियंता एवं अतिरिक्त मुख्य अभियंता स्तर के अधिकारियों के फील्ड में जाकर जेजेएम के कार्यों की मॉनिटरिंग पर जोर दिया।
बिजली कनेक्शन के संबंध में चेयरमैन डिस्कॉम्स को लिखा पत्र

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि भीषण गर्मी का दौर चल रहा है और कई नलकूपों में पानी बहुत गहराई पर चला गया है। जो नए खुदे हुए ट्यूबवैल हैं उनमें बिजली कनेक्शन नहीं होने से आमजन को पर्याप्त पेयजल उपलब्ध कराने में कठिनाई आ रही है। ऐसे में उन्होंने डिस्कॉम्स चेयरमैन को पत्र लिखकर पीएचईड़ी के नलकूपों के बकाया विद्युत कनेक्शन प्राथमिकता के आधार पर जल्द से जल्द जारी करने के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करने को कहा है। उन्होंने कहा कि पीएचईड़ी द्वारा जिन पेयजल योजनाओं के लिए बिजली कनेक्शन की मांग की गई है वहां डिमांड नोट एवं अंडरटेकिंग जैसी औपचारिकताएं पूरी होने का इंतजार किए बिना प्राथमिकता के आधार पर कनेक्शन जारी किए जाएं।
जल परिवहन की अवधि 31 जुलाई तक बढ़ाई

डॉ. अग्रवाल ने नहरबंदी से प्रभावित जिलों में पेयजल आपूर्ति के सम्बंध में की गई व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने सभी अधीक्षण अभियंताओं को समर कंटींजेंस में
हैण्डपंपों की मरम्मत, ट्यूबवैल की खुदाई तथा ट्यूबवैल को बिजली कनेक्शन से जोड़ने के लंबित प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने पाली एवं दौसा में पेयजल संकट की स्थिति को देखते हुए पर्याप्त पेयजल आपूर्ति पर ध्यान देने को कहा।
बैठक में अधिकारियों ने बताया कि आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा 10 प्रभावित जिलों में पीएचईड़ी द्वारा आपदा मद के तहत किए जा रहे जल परिवहन की अवधि 31 जुलाई, 2022
तक बढ़ा दी गई है। इसके अलावा समर कंटींजेंसी में जिला कलक्टर की अनुशंसा अनुसार 16.37 करोड़ के 353 आकस्मिक कार्य स्वीकृत किए गए हैं जिनमें से 237 कार्य आरंभ एवं 70 पूर्ण हो चुके हैं। अधिकारियों ने बताया कि हैण्डपम्प मरम्मत अभियान के तहत एक अप्रेल 2022 से अब तक 24 हजार 86 हैंडपम्पों का मरम्मत हो चुकी है।
बैठक में एमडी, जल जीवन मिशन  प्रताप सिंह ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जल जीवन मिशन के तहत कार्यों की प्रगति के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जेजेएम की शुरूआत के समय अगस्त 2019 में 11.74 लाख घरों में नल कनेक्शन थे जो अब  बढ़कर 25 लाख 76 हजार पर पहुंच चुके हैं। मुख्य अभियंता (तकनीकी) संदीप शर्मा ने सिंगापुर में अप्रेल में हुई वाटर एक्सपो के दौरान के अनुभवों एवं वहां अपनाए जा रहे पेयजल प्रबंधन के उपायों पर प्रस्तुतीकरण दिया।

वीसी में संयुक्त शासन सचिव  रामप्रकाश, मुख्य अभियंता (ग्रामीण)  आर. के. मीना, मुख्य अभियंता (स्पेशल प्रोजेक्ट )  दलीप कुमार गौड़, मुख्य अभियंता (जेजेएम ) दिनेश गोयल, मुख्य अभियंता - जोधपुर  नीरज माथुर, मुख्य अभियंता ( गुणवत्ता नियंत्रण) केडी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य अभियंता (शहरी)  अमिताभ शर्मा, अतिरिक्त मुख्य अभियंता
(ग्रामीण)  देवराज सोलंकी, अतिरिक्त मुख्य अभियंता (स्पेशल प्रोजेक्ट)  बीएस मीना सहित सभी संभागीय कार्यालयों से अतिरिक्त मुख्य अभियंता एवं जिला मुख्यालयों से अधीक्षण अभियंताओं सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी भी जुड़े।



Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मंत्रियों,सीएस से मिला कर्मचारी महासंघ (एकीकृत)प्रतिनिधिमंडल