जितेंद्र गोठवाल एवं अन्य की रिहाई को लेकर धरना

 जितेंद्र गोठवाल एवं अन्य की रिहाई को लेकर धरना


जयपुर। सामाजिक पूर्वी राजस्थान के जनप्रिय नेता भाजपा प्रदेश मंत्री पूर्व विधायक व संसदीय सचिव जितेंद्र गोठवाल की रिहाई को लेकर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंच राजस्थान के बैनर तले अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों ने गुरुवार को जयपुर के कलेक्ट्रेट सर्किल पर धरना दिया तथा जन प्रतिनिधि मंडल द्वारा  राज्यपाल के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया। 



प्रतिनिधिमंडल में प्रभु दयाल काकरवाल, लादूराम सरपंच ,रामधन मेहरा ,राजू लाल लोदवाल, मुकेश किराड, ललित लकवाल ,रामजीलाल खंडेवला, अभिषेक गोठवाल( प्रधान ) मौजूद थे। हेमराज गंगवाल ( सामाजिक कार्यकर्ता )के अनुसार मुख्य रूप से पूर्वी राजस्थान के विभिन्न जिलों से हजारों की संख्या में पुरुष व महिलाएं जयपुर धरने में पहुंचे लोगों ने कहा कि एक तरफ तो अनुसूचित जाति वर्ग पर अत्याचार ,बलात्कार ,उत्पीड़न नहीं रुक रहा है वही दलितों की आवाज उठाने व संघर्ष करने वाले भाजपा प्रदेश मंत्री व जननेता जितेंद्र गोठवाल सहित अन्य 7 लोगों को बेगुनाह होने के बावजूद जेल में डाल रखा है, धरने को संबोधित करते हुए प्रमुख जनप्रतिनिधियों ने कहा कि यदि उपरोक्त प्रकरण में निर्दोष लोगों को जल्द से जल्द रिहा नहीं किया गया व प्रकरण की सीबीआई जांच नहीं कराई गई तो पूरे प्रदेश भर में चक्का जाम कर जन आंदोलन किया जाएगा। 

महामहिम राज्यपाल को दिए ज्ञापन में राजस्थान में विगत 3 वर्षों से लगातार अनुसूचित जाति वर्ग पर हो रहे उत्पीड़न बलात्कार गैंगरेप तथा दिनांक 28 मार्च 2022 को गठित लालसोट प्रकरण में गिरफ्तार निर्दोष लोगों की रिहाई व प्रकरण की सीबीआई जांच कराने की मांग की गई l लालसोट प्रकरण का विस्तृत वर्णन करते हुए बताया कि जितेंद्र गोठवाल पुलिस द्वारा एफ आई आर दर्ज होने के 5 घंटे बाद लालसोट पहुंचे थे ,क्योंकि पीड़िता आशा देवी जितेंद्र गोठवाल के समाज बिरादरी की थी तो उसके परिवार को उचित न्याय दिलाने हेतु जितेंद्र गोठवाल घटनास्थल पर पहुंचे थे ,पूरे घटनाक्रम में कुछ कांग्रेसी नेताओं ने जितेंद्र गोठवाल की प्रसिद्धि व राजनीतिक संघर्ष को लक्ष्य बनाकर इस घटना में फंसा दिया और सरकार ने जितेंद्र गोठवाल सहित सात अन्य बेगुनाह कार्यकर्ताओं को जेल में डाल दिया। जितेंद्र गोठवाल को जेल में डालने से संपूर्ण राजस्थान के अनुसूचित जाति वर्ग में रोष तथा भय का वातावरण है उक्त ज्ञापन में धौलपुर में एईएन को कांग्रेस विधायक गिर्राज मलिंगा द्वारा बेरहमी से पीटने तथा दलित बच्चियों के बलात्कार की घटनाओं पर भी रोष प्रकट किया तथा जितेंद्र गोठवाल सहित सभी निर्दोष कार्यकर्ताओं को जल्द से जल्द रिहा करने व प्रकरण की सीबीआई जांच कराने की मांग की गई। 

धरने की अगुवाई जेपी जलवानिया, जय नारायण बैरवा ,प्रभु दयाल काकरवाल, लादूराम सरपंच, रामधन मेहरा, राजू लाल लोदवाल, मुकेश गर्ग, मुकेश किराड, ललित लकवाल, हेमराज गंगवाल ,राजपाल सांवरिया, रामजीलाल खंडेवला द्वारा की गई ,जिसमें बाबूलाल मीणा पूर्व प्रदेश मंत्री एसटी मोर्चा, रामजी लाल बेरवा पूर्व जिला अध्यक्ष एससी मोर्चा ,मांगीलाल बेरवा, राधेश्याम बेरवा, बजरंग लाल बेरवा सरपंच ,हेमराज बैरवा, धारा सिंह बैरवा , चौथमल बैरवा बाबूलाल दातोंनिया, जगदीश राजवंशी ,राम सहाय वर्मा ,अनिल गोठवाल ,रामेश्वर बंसीवाल ,महेंद्र ,सरवन वर्मा सहित सभी प्रमुख जनप्रतिनिधि व कार्यकर्ताओं की उपस्थिति रही। 

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

मंत्रियों,सीएस से मिला कर्मचारी महासंघ (एकीकृत)प्रतिनिधिमंडल