24 अगस्त को अलवर से शुरू होगा जागृति अभियान

 कर्मचारियों की मांगों के लिए चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा



24 अगस्त को अलवर से शुरू होगा  जागृति अभियान



14 सितंबर को राज्यभर के जिला मुख्यालयों पर होगा प्रदर्शन


जयपुर। अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ (एकीकृत) की आहूत आपात बैठक में महासंघ के प्रदेश पदाधिकारी तथा जयपुर मुख्यालय पर उपस्थित सम्बन्ध संगठनों के प्रदेश प्रतिनिधियो द्वारा सरकार की कर्मचारी विरोधी आर्थिक नीतियों की निंदा करते हुए,विस्तृत राज्यव्यापी चरण वद्ध आंदोलन  की रणनीति तय की गई।  

महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह राना , महासंघ प्रमुख महेंद्र सिंह तथा संरक्षक सियाराम शर्मा ने राज्यव्यापी आंदोलन की  घोषणा करते हुए बताया कि सरकार द्वारा  लगभग चार वर्ष से  नियमितिकरण की बाट जोह रहे आर्थिक रूप से शोषित संविदा, निविदा, मानदेय भोगी कर्मचारियों के भरोसे को तो तोड़ा ही  है,वही दूसरी ओर वेतन विसंगति दूर होने की बाट जोह रहे नियमित कार्मिकों के वेतन में वृद्धि की बजाय, हाल ही में 31मई 2022 को वित्त विभाग ने आदेश जारी कर  ACP नियमो में संसोधन करते हुए  लाखों कार्मिकों के मूल वेतन में  900 रूपये प्रतिमाह तक की कटोती कर आर्थिक कुठाराघात किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है!

वही डीसी सावंत कमेटी की रिपोर्ट को ठंडे बस्ते में डाल खेमराज कमेटी का कार्यकाल लगातार बढ़ाना कर्मचारी हितैषी सोच का प्रतीक नहीं है। जिससे कर्मचारियों  में असंतोष  व्याप्त है।महासंघ द्वारा सरकार को 15 अगस्त तक का समय दिया गया था, परंतु सरकार द्वारा कोई सुनवाई नही होने से कर्मचारीयो में आक्रोश में है इसलिए महासंघ मांगों के लिए राज्य भर में आंदोलन  के लिए विवश है।


महासंघ के प्रदेश महामंत्री विपिन प्रकाश शर्मा ने बताया कि आपात बैठक में निर्धारित राज्यव्यापी आंदोलन के प्रथम चरण में 24 अगस्त से 13 सितंबर 2022 तक कर्मचारी जाग्रति अभियान, तथा 14 सितंबर 2022 को राज्य भर के जिला कलेक्टर कार्यालयों  पर प्रदर्शन किया जायेगा।    

 प्रवक्ता, पुरुषोत्तम कुंभज एवं वकी अहमद, ने बताया कि महासंघ  की प्रमुख मांगों में, सभी विभागों, निगम, बोर्डो में कार्यरत संविदा,निविदा (ठेका), मानदेय भोगी कार्मिकों का नियमितीकरण एवं उनके  वेतन में नियमित पद अनुरूप  वृद्धि , राजकीय विभागों में नियमित पदों पर ठेकेदारों द्वारा भर्ती पर रोक तथा चतुर्थ श्रेणी,सफाई कर्मी इत्यादि पदों पर नियमित भर्ती,  नियमित कर्मचारियों के वेतनमान में की गई कटौती वापिस लेने,लंबित वेतन भत्तों की विसंगति केंद्र के समान  दूर करने, एसीपी परिलाभ 9, 18, 27 वर्ष के स्थान पर 7,14,21,28 वर्ष करने,  संविदा काल को पेंशन परिलाभ में जोड़ने, 2 वर्ष की संविदा सेवा से नियमित होने वाले कार्मिकों का परिवीक्षा काल समाप्त करने,  विभिन्न संवर्गो जैसे लैब टेक्नीशियन, रेडियोग्राफर, नर्सिंग ट्यूटर, लैब असिस्टेंट, पशुधन सहायक, इत्यादि संवर्ग  के लंबित पदनांम परिवर्तन शीघ्र करने, तृतीय श्रेणी शिक्षकों के स्थानांतरण,शिक्षकों के पदोन्नति के नये शिक्षा नियमों में  संशोधन , विभिन्न संवर्गो , प्रबोधक, शिक्षक, नर्सेज, रेडियोग्राफर ,लैबटेक्नीशियन,फार्मासिस्ट,पशुधन सहायक , लैबअसिस्टेंस ,मंत्रालयिक कर्मी, जलदाय विभाग हेल्पर्स, इत्यादि के पदोन्नति संबधी पदों में अपेक्षित बृद्धि हेतु कैडर रिव्यू करवाने तथा लंबित पदोन्नतियां शीघ्र किये जाये ,जेल विभाग ,राजस्थान पुलिस,इत्यादि के कार्मिकों की वेतन विसंगति एवम वरिष्ठता आधरित पदोन्नति इत्यादि मांगे शामिल है।।                                         

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी