सॉफ्ट टिशु सार्कोमा कैंसर की सफल सर्जरी

 सॉफ्ट टिशु सार्कोमा कैंसर की सफल सर्जरी 



55 वर्षीय महिला की छाती से निकाला गया 25 सेंटीमीटर से भी अधिक लंबा कैंसर का ट्यूमर


जयपुर। गंगानगर निवासी 55 वर्षीय राजरानी पिछले कई महीनो से छाती में दर्द की शिकायत कर  रही थी एवं पिछले तीन महीने से सांस लेने  में परेशानी हो रही थी। कई निजी अस्पतालों में घूमने के बाद रोगी राजरानी एच.सी.जी कैंसर सेंटर जयपुर में पहुंची। यहां पर डॉक्टर अभिषेक पारीक, सीनियर कंसल्टेंट, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, एच. सी. जी. कैंसर सेंटर और उनकी टीम ने प्रीऑपरेटिव सिटी स्कैन करवाई जिसमें चेस्ट वॉल से जुड़ा हुआ विशाल ट्यूमर सामने आया और बायोप्सी के माध्यम से पता चला कि राजरानी सॉफ्ट टिशु सार्कोमा नाम के दुर्लभ कैंसर से जूझ रही थी एवं ट्यूमर 25 सेंटीमीटर से भी बड़ा था जिसकी वजह से लिवर फंक्शनिंग भी सही से नहीं हो पा रही थी व इस केस में सबसे बड़ी चुनौती  सॉफ्ट टिशु सार्कोमा जैसी दुर्लभ बीमारी के साथ में गांठ को निकाल के चेस्ट वॉल का रिकंस्ट्रक्शन भी करना जरूरी था। ट्यूमर के विशाल आकार और उसके स्थान के कारण दाई ओर की पांचवी, छठी और सातवीं पसली को हटाकर के दाई और की दीवार से जोड़ प्रोलीन मैच पुनर्निर्माण प्रक्रिया की गई।

सर्जरी की जटिलता और उससे जुड़ी समस्याओं के बारे में बताते हुये डॉ. अभिषेक पारीक, सीनियर कंसल्टेंट, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, एच. सी. जी. कैंसर सेंटर, जयपुर ने कहा, "यह प्रक्रिया अपने आप में एक चुनौती थी, क्योंकि चेस्ट वॉल सरकोमा एक दुर्लभ कैंसर है। इस तरह के ट्यूमर के साथ चुनौती पोस्ट-ऑपरेटिव देखभाल की भी होती है। क्योंकि रोगी को प्रोलीन मेश का उपयोग करने से छाती का पुनःर्निर्माण देरी से होता हैं। ट्यूमर के आकार, उसके स्थान और रोगी की उम्र को ध्यान में रखते हुए उसका ऑपरेशन किया गया। यदि इसमे देरी की जाती तो यह ट्यूमर अन्य महत्वपूर्ण अंगों में फैल सकता था और गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकता था ।

एच सी जी कैंसर सेंटर जयपुर के सीओओ डॉ. भरत राजपुरोहित ने कहा, एच.सी.जी. कैंसर सेंटर, जयपुर कैंसर का एक उत्कृष्ट चिकित्सा केंद्र है। जहाँ विश्व स्तरीय तकनीक व अनुभवी डॉक्टर्स की टीम है। जो की मरीजों को कैंसर की सर्वोत्तम केयर प्रदान करने के लिए प्रतिबद्धित है। इस सफलता पर मैं पूरी टीम को बधाई देना चाहता हूं जिन्होंने इस सर्जरी की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है 

विशेष रूप से पोस्ट ऑपरेटिव चरण के दौरान डॉक्टरों एवं अस्पताल के प्रति आभार व्यक्त करते हुए श्रीमती राजरानी ने कहा यह समय मेरे लिए बहुत कठिन था और निदान की प्रक्रिया तनावपूर्ण थी लेकिन डॉक्टर अभिषेक पारीक और उनकी टीम ने लगातार मेरा मनोबल बढ़ाएं रखा एवं यह विश्वास दिलाया कि मैं कैंसर से मुक्ति पा लूंगी।

डॉ अभिषेक पारीक ने बताया कि अब मरीज पूर्ण रूप से स्वस्थ हैं वह हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दी गई है।

एचसीजी कैंसर सेंटर जयपुर राजस्थान का एक ऐसा कंप्रिहेंसिव हॉस्पिटल है जिसमें एक ही छत के नीचे कैंसर की जांच व इलाज की सुविधाएं उपलब्ध है। अस्पताल अत्याधुनिक उच्च स्तरीय तकनीको से सुसज्जित है एवं यहां मौजूद सभी चिकित्सक उच्च प्रशिक्षित एवं महत्वपूर्ण भारत के केंद्रों से अपनी ट्रेनिंग प्राप्त कर जहां अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

डीएसपी हीरालाल सैनी का वीडियो वायरल

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी