हिमाचल के नए मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू

हिमाचल के नए मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू: प्रतिभा गुट से मुकेश अग्निहोत्री होंगे डिप्टी CM, कल 2 बजे शपथ ग्रहण

                               (राजेश ठाकुर)

शिमला ।
हिमाचल प्रदेश में लंबी उठापटक के बाद मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा हो गई। सुखविंदर सिंह सुक्खू राज्य के नए CM होंगे। शनिवार शाम कांग्रेस विधायक दल की बैठक में उनके नाम का ऐलान कर दिया गया। उनके साथ प्रतिभा सिंह के खेमे से मुकेश अग्निहोत्री को डिप्टी CM बनाया गया है। रविवार को 2 बजे वह रिज मैदान में शपथ लेंगे। हिमाचल में सरकार बनाने का दावा पेश करते वक्त सुखविंदर सुक्खू के साथ हिमाचल कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह, कांग्रेस प्रभारी राजीव शुक्ला और ऑब्जर्वर छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल और हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्‌डा भी थे।*

_हिमाचल में 8 दिसंबर को चुनाव नतीजे आने के बाद से ही CM को लेकर घमासान जारी था। 40 सीटें जीतकर बहुमत हासिल करने वाली कांग्रेस में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह भी की CM दावेदारी कर रही थीं। हालांकि विधायकों से रायशुमारी के बाद सुखविंदर सिंह सुक्खू इस दौड़ में आगे निकल गए थे। सूत्रों के मुताबिक सुक्खू को गांधी परिवार के करीबी होने का फायदा मिला। प्रतिभा सिंह ने मुकेश अग्निहोत्री का नाम आगे बढ़ाया, लेकिन बात नहीं बनी इससे पहले प्रतिभा सीएम की दौड़ से बाहर हो गईं। दोपहर तक तो CM चुनने की प्रोसेस वैसी ही चल रही थी, जैसी उम्मीद थी। असल पेंच इसके बाद फंसा, जब प्रतिभा सिंह ने सुक्खू के नाम से असहमति जता दी। वे अपने खेमे से मुकेश अग्निहोत्री को मुख्यमंत्री बनाने पर अड़ गईं। सुक्खू का नाम आगे बढ़ने पर प्रतिभा सिंह गुट के लोगों ने सड़क पर धरना दिया और हाईकमान के खिलाफ नारेबाजी की।_

*_सांसद होने के चलते कमजोर पड़ी प्रतिभा की दावेदारी:*

_प्रतिभा सिंह मंडी सीट से सांसद हैं। इसी वजह से उनकी दावेदारी कमजोर पड़ गई। हाल ही विधानसभा चुनाव में मंडी जिले की 10 में से कांग्रेस सिर्फ 1 ही सीट जीत सकी। ऐसे में कांग्रेस यहां उपचुनाव का रिस्क नहीं लेना चाहती। वहीं प्रतिभा को सीएम बनाने पर विधायक का चुनाव लड़ना होगा। ऐसे में कांग्रेस 2 उपचुनाव करवाने के मूड़ में नहीं है।

*_सुखविंदर सुक्खू का नाम आते ही होटल पहुंचीं प्रतिभा:*


_इससे पहले सुखविंदर सुक्खू का नाम चर्चा में आते ही कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह होटल पहुंच गईं। उनके साथ मुकेश अग्निहोत्री, विक्रमादित्य सिंह, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर, हर्षवर्धन चौहान, रोहित ठाकुर, सुदर्शन सिंह बबलू समेत एक दर्जन से ज्यादा विधायक थे। यहां उनकी मुलाकात ऑब्जर्वर से भी हुई। मगर, कांग्रेस हाईकमान के आगे उनका ऐतराज नहीं टिक सका।

*विधानसभा परिसर के अंदर घुसे प्रतिभा सिंह समर्थक:*


_सुक्खू को CM बनाने का पता चलते ही प्रतिभा सिंह के समर्थक विधानसभा परिसर के अंदर घुस गए। उन्होंने सत्ता पक्ष की लॉज के बाहर जमकर हंगामा किया। उनकी एक ही मांग थी कि प्रतिभा सिंह को CM बनाया जाए। उनका आरोप है कि सुखविंदर सुक्खू प्रचार समिति के अध्यक्ष थे, लेकिन वे अपनी सीट नादौन से बाहर प्रचार करने के लिए नहीं गए। इसके उलट प्रतिभा सिंह और उनके बेटे विक्रमादित्य ने पूरे राज्य में प्रचार किया। इसके बावजूद प्रतिभा खेमे की यह प्रेशर टेक्टिक्स कोई काम नहीं आई।

*_हिमाचल में रिजल्ट के बाद कांग्रेस में अब तक क्या:*

_8 दिसंबर को विधानसभा चुनाव नतीजे आए जिसमें 40 सीट जीतकर कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत हासिल किया। 9 दिसंबर को कांग्रेस हाईकमान ने छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा और प्रदेश कांग्रेस प्रभारी राजीव शुक्ला को ऑब्जर्वर बनाकर शिमला भेजा। इन तीनों को जिम्मेदारी दी गई कि वे विधायक दल की मीटिंग बुलाकर सीएम का नाम फाइनल करें। 9 दिसंबर को CM पद की सबसे तगड़ी दावेदार और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह के समर्थकों ने ऑब्जर्वरों के होटल से लेकर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय तक जमकर शक्ति प्रदर्शन किया। प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला की गाड़ी का घेराव किया। मुख्यमंत्री पद के दूसरे सबसे बड़े दावेदार और चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू डेढ़ दर्जन से ज्यादा विधायकों के साथ गायब हो गए।

*_दोपहर 3 बजे शुरू होने वाली विधायक दल की मीटिंग देर शाम पौने आठ बजे शुरू हो पाई।:*


_बैठक में किसी नाम पर सर्वसम्मति न बनने पर सिंगल लाइन प्रस्ताव पासकर मुख्यमंत्री का चेहरा फाइनल करने के सारे अधिकार कांग्रेस हाईकमान को दे दिए गए। 10 दिसंबर को फिर विधायक दल की मीटिंग बुलाई गई। जिसमें मंथन के बाद सुक्खू के नाम का ऐलान कर दिया गया।

*_विधायक दल की पहली बैठक में नहीं हो सका कोई फैसला:_*

_इससे पहले शिमला में शुक्रवार देर रात तक चली कांग्रेस विधायक दल की बैठक में कोई नतीजा नहीं निकल पाया। मीटिंग में प्रतिभा सिंह, मुकेश अग्निहोत्री और सुखविंदर सिंह सुक्खू के नाम का प्रस्ताव रखा गया, मगर सहमति नहीं बनी। इसके बाद सभी विधायकों ने सिंगल लाइन प्रस्ताव पास कर पार्टी हाईकमान को CM चुनने और सभी निर्णय लेने के लिए अधिकृत कर दिया।

*_कांग्रेस में CM पद के थे 6 दावेदार:*

_विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने वाली कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष और सांसद प्रतिभा सिंह, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू CM पद के सबसे बड़े दावेदार माने जा रहे थे। मगर, इन तीनों के नामों पर सहमति बनने की शुरू से ही उम्मीद नहीं थी।

*_इनके नाम पर भी चर्चा हुई:*


_प्रतिभा सिंह, सुखविंदर सिंह सुक्खू और मुकेश अग्निहोत्री के अलावा प्रदेश की पॉलिटिक्स में सबसे अनुभवी कहे जाने वाले ज्वाली के विधायक चंद्र कुमार, सबसे उम्रदराज सोलन के विधायक धनीराम शांडिल ओर शिलाई के MLA हर्षवर्धन चौहान का नाम भी एकबारगी चर्चा में आया। यह तीनों ही प्रदेश की राजनीति में बेदाग छवि के नेता रहे हैं। कांगड़ा जिले ने कांग्रेस की झोली में 15 में से 11 सीटें डाली हैं। इस लिहाज से चंद्र कुमार का नाम चला। वीरभद्र सिंह की सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके चंद्र कुमार नए चुने गए सभी विधायकों में सबसे सीनियर नेता है। सोलन के विधायक कर्नल धनीराम शांडिल भी कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। बेदाग छवि उनके पक्ष में गिनी जा रही थी। सिरमौर जिले की शिलाई सीट से चुनाव जीतकर 5वीं बार विधानसभा पहुंचे हर्षवर्धन चौहान भी साफ छवि के नेता हैं। हालांकि वे कभी मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं रहे। हालांकि शुरुआती चर्चा के बाद ही इन तीनों के नाम दौड़ से बाहर हो गए।हिमाचल CM फाइनल करने के लिए शुक्रवार को शिमला में कांग्रेस का जो सियासी ड्रामा देखने को मिला, वह अचानक हुआ घटनाक्रम नहीं, बल्कि एक सोची समझी रणनीति थी। इसका उद्देश्य प्रेशर बनाना और सिर्फ किसी तरह अपने-आप को सामने वाले से ऊपर रख कर पार्टी हाईकमान को यह दिखाना था

*_कांग्रेस विधायक दल मीटिंग: सुक्खू को 16 MLA ने समर्थन दिया, प्रतिभा के पक्ष में 18 लेकिन उनकी राय-सीएम। विधायक ही हो:*

_हिमाचल में CM चेहरा चुनने के लिए कांग्रेस विधायक दल की एक घंटे मीटिंग चली। प्रतिभा सिंह, सुखविंदर सुक्खू और मुकेश अग्निहोत्री समेत 6 नाम चर्चा के लिए रखे गए। मगर, किसी एक पर सहमति नहीं बन सकी। बगावती तेवर दिखा रहे सुखविंदर सुक्खू को 16 विधायकों का समर्थन मिला। वहीं प्रतिभा के हक में 18 MLA सामने आए लेकिन उनकी राय थी कि CM कोई विधायक ही होना चाहिए।हिमाचल में CM के चेहरे को लेकर चल रहे घमासान के बीच अब कांग्रेस हाईकमान के पाले में गेंद डाली गई है। विधायक दल की बैठक में फिलहाल जिन 6 चेहरों पर चर्चा हुई है, उनमें 2 सबसे बड़े नाम कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रतिभा सिंह और सुखविंदर सिंह सुक्खू हैं। इन दोनों नेताओं ने मीडिया के सामने कांग्रेस पार्टी में एकजुटता का संदेश भले दिया हो, लेकिन अंदरखाते CM बनने के लिए अब लॉबिंग और तेज हो गई है

*हिमाचल में प्रतिभा-सुक्खू के शक्ति प्रदर्शन से ऑब्जर्वर नाराज:हाईकमान को दी रिपोर्ट; समर्थकों ने नारेबाजी कर हंगामा किया, बघेल की गाड़ी भी रोकी:*


_राजनीति में शक्ति प्रदर्शन के नाम पर उग्र नारेबाजी और फिर धक्का-मुक्की व हाथापाई। हिमाचल कांग्रेस के नए विधायक दल की बैठक में फिर वही कांग्रेसी कल्चर नजर आया। कांग्रेस पार्टी ऑफिस शिमला में CM पद के दावेदार सुखविंदर सिंह सुक्खू और प्रतिभा सिंह के समर्थक आपस में भिड़ गए। प्रतिभा समर्थकों ने उन्हें मुख्यमंत्री घोषित करने को लेकर छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल का कारकेड ही रोक दिया।

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी

मंत्रियों,सीएस से मिला कर्मचारी महासंघ (एकीकृत)प्रतिनिधिमंडल