परियोजना समिति की 170वीं बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

 परियोजना समिति की 170वीं बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

 




हाऊसिंग बोर्ड जयपुर में 170 विला, 1100 फ्लैट और 132 दुकानें  बनाएगा, माह के अंत तक होगी आवेदन प्रक्रिया आरंभ



जयपुर, 12 जनवरी। आवासन मंडल द्वारा बने फ्लैट, विला और दुकान खरीदने का इंतजार कर रहे लोगों के लिए सुखद खबर है कि मंडल द्वारा जयपुर में 1400 से अधिक यूनिट्स बनाई जाएंगी। मंडल इस माह के अंत तक इनकी आवेदन प्रक्रिया शुरू कर देगा। यह निर्णय गुरुवार को नगरीय विकास विभाग के प्रमुख शासन सचिव कुंजीलाल मीणा की अध्यक्षता में परियोजना समिति की 170वीं बैठक में लिया गया। राजस्थान आवासन मण्डल मुख्यालय में हुई बैठक में कई अन्य महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए गए। 

आवासन आयुक्त पवन अरोड़ा ने बताया कि बैठक में एक दर्जन से ज्यादा प्रकरणों पर विस्तार से चर्चा कर जरूरी दिशा निर्देश दिए गए। बैठक में 8 जून को हुई 169वीं बैठक में लिए गए निर्णयों की क्रियान्विति के बारे में जानकारी दी गई।। अरोड़ा ने बताया कि बैठक में प्रताप नगर सेक्टर-8, चेतक मार्ग में 244 बहुमंजिले आवास, सेक्टर 22 में 297 फ्लैट, सेक्टर 26 में एमएनआईटी के लिए 124 फ्लैट, सेक्टर 28 में 164 विला, 132 दुकान, आइकॉनिक टावर में 56 फ्लैट, सेक्टर 22 में ही 39 एमआईजी फ्लैट, सेक्टर 23 में 325 बहुमंजिला फ्लैट बनाने का अनुमोदन किया गया। आयुक्त ने बताया कि इसके अलावा हिरण मगरी उदयपुर के सेक्टर 11 में 24 फ्लैट्स, शाहपुरा आवासीय योजना में 277 प्लॉट अनुमोदित किए गए। इस दौरान मंडल की इंदिरा गांधी नगर योजना जयपुर में गंगा मार्ग स्थित ग्राम कुंदनपुरा के विस्थापितों के लिए भूखंड उपलब्ध कराने के पुनर्वास योजना का अनुमोदन किया गया। परियोजना समिति के सदस्य सचिव अतिरिक्त मुख्य नगर नियोजक अनिल माथुर ने मानचित्रों के माध्यम से सभी योजनाओं के बारे में अधिकारियों को विस्तार से बताया व संबंधित जानकारियां दी। बैठक में मुख्य अभियन्ता के.सी. मीणा, मुख्य नगर नियोजक संदीप दंडवते, जी.एस. बाघेला, मनोज गुप्ता, अतिरिक्त अतिरिक्त मुख्य अभियन्ता संजय पूनियां, विजय अग्रवाल सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी

मंत्रियों,सीएस से मिला कर्मचारी महासंघ (एकीकृत)प्रतिनिधिमंडल