पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान जुडे़ 20 लाख नये मतदाता

 पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान जुडे़ 20 लाख नये मतदाता


जयपुर, 5 जनवरी।  राज्य में निर्वाचन विभाग द्वारा पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान 199 विधानसभा क्षेत्रों में 19 लाख 89 हजार 182 नवीन मतदाताओं के नाम जोड़े हैं, जिनमें 10 लाख 18 हजार 685 महिलाएं और 9 लाख 70 हजार 497 पुरूष मतदाता हैं। अन्तिम प्रकाशन की तिथि तक राज्य में कुल 5 करोड़ 11 लाख 64 हजार 685 मतदाता पंजीकृत हैं, जिनमें 2 करोड़ 44 लाख 72 हजार 600 महिला मतदाता तथा 2 करोड़ 66 लाख 92 हजार 49 पुरूष मतदाता शामिल हैं। 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता द्वारा गुरूवार को यहाँ शासन सचिवालय में राज्य के सरदारशहर विधानसभा क्षे़त्र के अतिरिक्त शेष समस्त 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की फोटोयुक्त मतदाता सूचियों का अन्तिम प्रकाशन किया गया। उन्होंने बताया कि  सरदारशहर विधानसभा क्षे़त्र में विधान सभा उप-चुनाव होने से इसकी अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन 13 जनवरी 2023 को किया जाएगा।

महिला मतदाताओं के पंजीयन में उल्लेखनीय वृद्धि 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि महिला मतदाताओं की संख्या में 2.52 प्रतिशत तथा पुरूषों की संख्या में 2.36 प्रतिशत की वद्धि हुई है। 

20 लाख नवीन मतदाताओं के मोबाइल नम्बर हुए दर्ज

उन्होंने बताया कि 19 लाख 80 हजार 364 नवीन मतदाताओं का मोबाइल नम्बर दर्ज होने से वे अपना ई-इपिक, वोटर हैल्प लाइन एप तथा एनवीएसपी (www.nvsp.in)के माध्यम से डाउनलोड कर सकते हैं।

2.43 प्रतिशत मतदाताओं की हुई बढ़ोतरी 

 गुप्ता ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान निर्धारित अवधि में इन 199 विधान सभा क्षेत्रों में मतदाता सूची में नाम जुड़वाने, हटवाने व संशोधन के लिए कुल 38 लाख 64 हजार 426 आवेदन प्राप्त हुए, जिनमें से 21 लाख 15 हजार 887 आवेदन ऑनलाइन प्राप्त हुए हैं। मतदाता सूची में नाम जुड़वाने हेतु प्ररूप-6 में कुल 24 लाख 45 हजार 988 आवेदन पत्र एवं विलोपन हेतु  प्ररूप-7 में 7 लाख 93 हजार 361 आवेदन पत्र प्राप्त हुए। उन्होंने बताया कि प्ररूप-6 में जाँच उपरान्त कुल 19 लाख 89 हजार 182 आवेदन-पत्र स्वीकार किए गए। 

इसी प्रकार मृत या स्थानान्तरित मतदाताओं के संबंध में प्ररूप-7 के माध्यम से कुल 7 लाख 76 हजार नाम विलोपित किए गए। राज्य के सरदारशहर विधान सभा क्षेत्र को छोड़कर, 199 विधानसभा क्षेत्रों में कुल 12 लाख 12 हजार 983 मतदाताओं की वृद्धि हुई है, जो कि गत वर्ष की सूची से 2.43 प्रतिशत अधिक है। 

अप्रेल, 2023 में  एक लाख, जुलाई में 1.50 लाख व अक्टूबर में 1.66 लाख जुडेंगे नवीन मतदाता

 गुप्ता ने बताया कि निर्वाचन संबंधी कानून में नवीन प्रावधान के फलस्वरूप अब वर्ष में चार अर्हता दिनांक, यथा 1 जनवरी, 1 अप्रेल, 1 जुलाई एवं 1 अक्टूबर के संदर्भ में 17 वर्ष की आयु प्राप्त युवाओं द्वारा मतदाता पंजीकरण हेतु आवेदन किया जा सकता है। उक्त प्रावधान के क्रम में, विशेष पुनरीक्षण कार्यक्रम 2023 के दौरान राज्य में  17 वर्ष से अधिक आयु  4 लाख 16 हजार 685  युवाओं ने भी बढ़-चढकर मतदाता सूची में नाम जुड़वाने हेतु आवेदन किया है। 

4 करोड 9 लाख से अधिक मतदाताओं द्वारा अपना ईपिक आधार से लिंक किया जा चुका है

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि इस वर्ष  एक अगस्त 2022 से प्रारम्भ हुए ईपिक नंबर को आधार से लिंक करने के अभियान के अंतर्गत, राज्य के कुल 4 करोड़ 9 लाख 67 हजार 369 मतदाताओं द्वारा अपने ईपिक को आधार से लिंक किया जा चुका हैं जो कुल मतदाता संख्या का 82 प्रतिशत हैं।

विशेष योग्यजन, ट्रांसजेण्डर, घुमन्तु जनजाति एवं कमजोर जनजाति समूह मतदाता भी पंजीकृत 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि इस वर्ष पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान नवम्बर एवं माह दिसम्बर 2022 में, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के प्रत्येक मतदान केन्द्र पर विशेष शिविर आयोजित कर दावे एवं आपत्तियों हेतु प्रार्थना-पत्र प्राप्त किए गए। उन्होंने बताया कि पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान कुल एक लाख 36 हजार 566 विशेष योग्यजनों की फ्लैगिंग की गई। इन 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की मतदाता सूची में कुल 5 लाख 66 हजार 994 विशेष योग्यजन मतदाता पंजीकृत हैं। साथ ही इस दौरान घुमन्तु तथा कमजोर जनजाति समूह के 12 हजार से अधिक मतदाता तथा तृतीय लिंग के 347 नये मतदाताओं को भी मतदाता सूची में जोड़ा गया है। 

1 लाख 42 हजार से अधिक सेवा नियोजित मतदाता भी जुड़े

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि इस पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान राज्य में 1 लाख 42 हजार 386 सेवा नियोजित मतदाताओं का भी पंजीयन किया गया है।

मतदाताओं को जोड़ने हेतु स्वीप कार्यक्रम के तहत किये गये विशेष प्रयास:-

मतदाता पंजीयन संबंधी लक्ष्य अर्जित किये जाने हेतु पूरे राज्य में विभिन्न स्थानों पर, नवीन मतदाता पंजीकरण हेतु विद्यालय, महाविद्यालय, विशेष योग्यजन गृह, ट्रांसजेण्डर के डेरों में विशेष कैम्प आयोजित किये गये। कमजोर जनजाति समूहों के मतदाता पंजीकरण हेतु विशेष कैम्प आयोजित किये गये।

Dedicated AERO: अभियान के दौरान मतदाता पंजीकरण के कार्य के फील्ड स्तर पर प्रभावी क्रियान्वयन का उत्तरदायित्व Dedicated AERO को दिया गया।

अभियान के दौरान लक्ष्य अर्जित किये जाने हेतु विभिन्न विभागों से समन्वयः 

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, महिला एवं बाल विभाग, स्कूल एवं कॉलेज शिक्षा विभाग, चिकित्सा विभाग से प्रभावी समन्वय। 

विशेष योग्यजन व ट्रांसजेण्डर स्टेट आईकॉन तथा स्कूल कॉलेज में कैम्पस एम्बैसेडर का मनोनयन।  

Voter Awareness Forum - वोटर अवेयरनेस फोरम के माध्यम से सरकारी एवं निजी क्षेत्र के संगठनों एवं संस्थाओं में मतदाता जागरूकता मंच का गठन एवं इनमें मतदाता जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।


-----

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी

मंत्रियों,सीएस से मिला कर्मचारी महासंघ (एकीकृत)प्रतिनिधिमंडल