29 गांवो के लाखों लोग चिकित्सा सुविधा से वंचित

       29 गांवो के लाखों लोग चिकित्सा सुविधा से वंचित 


नागौर। जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूरी पर स्थित अलाय ग्राम मे सामुदायिक चिकित्सा (स्वास्थ्य) केन्द्र के अभाव के कारण बहुत बड़े क्षेत्रफल की आबादी चिकित्सा सुविधा से वंचित है । ग्राम वासियों द्वारा मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर इस चिकित्सालय को क्रमोनत करने की मांग की जा रही है। अनेक बार समय पर उपचार नहीं मिलने पर मरीजों को जान से हाथ भी धोना पड़ता है। ग्रामीण क्षेत्र के गरीब मजदूर किसान लोगों को चिकित्सा सुविधा सुलभ नहीं हो रही है। 


उल्लेखनीय है कि अलाय मे प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र है जिसके लिए  भामाशाह अमृतलाल सुधार की प्रेरणा से जगदंबा ट्रस्ट द्वारा 1988 मे भवन निर्माण करवाकर उपलब्ध करवाया गया । जिसको 2008 मे राज्य सरकार  को सुपुर्द कर दिया गया था ताकि सरकार अस्पताल को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (CH.C )मे क्रमोनत कर सके तब से लेकर आज तक अलाय एवं आस पास के ग्रामीणों द्वारा सरकार से चिकित्सालय को क्रमोनत करने की मांग समय समय पर की जाती रही है।


लेकिन सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। उल्लेखनीय है कि प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र अलाय के पास 6 बीघा जमीन है एवं 25 हजार वर्गफुट मे चिकित्सालय भवन बना हुआ है जिसमे आधुनिक सुविधाओं से युक्त वातानुकुलित दवा वितरण केन्द्र व वातानुकुलित प्रयोगशाला कक्ष की भी सुविधा है। इस कारण सरकार को कोई अतिरिक्त वित्तीय भार भी इनके लिए नही लगेगा।


प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र अलाय मे प्रतिवर्ष औसतन 20 हजार लोग उपचार के लिए आते हैं। 2008 से 2022 तक की अवधि मे 4500 प्रसूताओं को प्रसव सुविधा उपलब्ध करवाई गयी जिससे चिकित्सालय की अन्य आवश्यकता का पता चलता है।


चिकित्सालय मे सघन वृक्षारोपण संवाटिका उपलब्ध है। कोविड 19 के कालखण्ड मे ग्रामीण जनभागीदारी से 65 लाख रुपयों की लागत द्वारा चिकित्सालय को सुसज्जित किया गया है।


नेशनल हाइवे पर स्थित चिकित्सालय आमजन एवं चिकित्सा अधिकारियों एवं कर्मचारियों की पहुँच को सुगम बनाता है।

Comments

Popular posts from this blog

माउंट आबू में पूर्व विधायक का माफियाराज!

ब्यावर के ज्योतिषी दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी

मंत्रियों,सीएस से मिला कर्मचारी महासंघ (एकीकृत)प्रतिनिधिमंडल