नागौर में नाहटा द्वारा बनाई हस्तरेखा मशीन का बजा डंका

 नागौर में नाहटा द्वारा बनाई हस्तरेखा मशीन का बजा डंका 

 


नागौर। नागौर जिले के डेह गांव में आयोजित हनुमान मंदिर प्रतिष्ठा कार्यक्रम में राजस्थान के अजमेर जिले में स्थित ब्यावर शहर के एस्ट्रोलॉजर एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ दिलीप नाहटा द्वारा 22 जनवरी से लेकर 26 जनवरी 2023  तक लगातार 05 दिनों तक 259 लोगों को अपनी ओर से बिल्कुल निशुल्क सेवाएं प्रधान की गई।


 ज्ञात रहे कि नागौर से 20 किलोमीटर दूर डेह गांव में आयोजित इस हस्तरेखा शिविर में देशभर से आए सैकड़ों लोग नाहटा की हस्तरेखा मशीन की सटीक भविष्यवाणीयों के कारण न केवल दीवाने बनें , अपितु कई लोगों ने मांस एवं मदिरा का सेवन जीवन भर के लिए बंद कर दिया । इस हस्तरेखा शिविर में नाहटा द्वारा लगातार 05 दिनों तक 259 लोगों को देखा गया और जिसमें से केवल 233 लोगों का हस्तरेखा मशीन के बारे में फीडबैक लिया गया ।


 जिसमें से बकायदा लोगों ने रजिस्टर में अपने कमेंट लिखें एवं लोगों ने अपने अपने अंक देकर अपने अपने सिग्नेचर भी किए , जिसमें से हस्तरेखा मशीन की सटीकता से प्रभावित होकर 233 लोगों में से 207 लोगों ने 10 में से 10 अंक हस्तरेखा मशीन को दिए एवं 233 लोगों में से केवल 07 लोगों ने 10 में से 09 अंक हस्तरेखा मशीन को दिए एवं 233 लोगों में से केवल 13 लोगों ने 10 में से 08 अंक हस्तरेखा मशीन को दिए एवं 233 लोगों में से केवल 04 लोगों ने 10 में से 07 अंक हस्तरेखा मशीन को दिए एवं 233 लोगों में से केवल 01 व्यक्ति ने 10 में से 06 अंक हस्तरेखा मशीन को दिए एवं 233 लोगों में से केवल 01 व्यक्ति ने 10 में से 05 अंक हस्तरेखा मशीन को दिए यानी इस हस्तरेखा मशीन को 233 लोगों में से 207 लोगों ने पूरे 10 में से 10 अंक दिए यानी 10 अंक देने वालों का रेश्यो एनालिसिस 88 प्रतिशत आंकडा रहा एवं शेष बचे हुए 12 प्रतिशत लोगों ने किसी ने 09 अंक दिए  तो किसी ने 08 अंक दिए तो किसी ने 07 अंक दिए तो किसी ने 06 अंक दिए तो किसी ने 05 अंक दिए । 


ज्ञात रहे कि साइंटिफिक रिसर्च पर आधारित इस ( गुरु हस्ती हस्तरेखा लैब , पार्ट नम्बर - 01 ) को 88 प्रतिशत लोगों से मिलें 10 में से 10 अंक यानी इतने बड़े जादुई अंकों को एक बड़ी कीर्तिमान एवं उपलब्धि के रूप में देखा जा रहा है , इससे जनता में एवं विज्ञान जगत में यह विश्वास पैदा हो रहा है की भारतीय ऋषि मुनियों की देन ज्योतिष विद्या भी एक साइंस है , जिसे दरकिनार कभी भी नहीं किया जा सकता एवं इसके अलावा नाहटा द्वारा सैकड़ो लोगों को अपने स्वयं की तरफ से तरह-तरह के स्टोन एवं रुद्राक्ष भी बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रदान किए गए । गौरतलब है कि इस हनुमान प्रतिष्ठा कार्यक्रम में नाहटा द्वारा 2013 में बनाई गई विश्व की पहली पोर्टेबल साइंटिफिक ( गुरु हस्ती हस्तरेखा लैब , पार्ट नम्बर - 01 ) की सटीक भविष्यवाणी के कारण दूरदराज से सैकड़ों लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा एवं डेह गांव में आए देशभर से सैकड़ों लोगों ने नाहटा द्वारा 2013 में बनाई गई विश्व की पहली पोर्टेबल साइंटिफिक ( गुरु हस्ती हस्तरेखा लैब , पार्ट नम्बर - 01 ) पर न केवल विश्वास एवं भरोसा व्यक्त किया है अपितु देशभर के सैकड़ों लोग ( गुरु हस्ती हस्तरेखा लैब , पार्ट नम्बर - 01 ) की सटीकता के कारण इस मशीन के दीवाने भी बन गए । गौरतलब है कि नाहटा ने पिछले 10 वर्षों के दौरान ( गुरु हस्ती हस्तरेखा लैब , पार्ट नम्बर - 01 ) के माध्यम से सटीक बातें बताकर देश के ऋषि-मुनियों के द्वारा प्रधान की गई इस ज्योतिष विद्या के प्रति देशभर के हजारों लोगों का न केवल विश्वास बढ़ाया है अपितु देशभर के हजारों लोगों ने मांस एवं मदिरा का सेवन जीवन भर के लिए छोड़कर ईश्वर के प्रति भरोसा एवं आस्था जताई है । 


इसके अलावा हनुमान मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के आयोजक एवं समाजसेवी चेन्नई के अध्यक्ष अनोप चंद  भिड़कचा द्वारा 27 जनवरी  को एस्ट्रोलॉजर एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ दिलीप नाहटा का माला पहनाकर एवं शॉल ओढ़ाकर बहुमान किया गया एवं इस अवसर पर नाहटा के साथ सारी व्यवस्था संभालने हेतु मुख्य रूप से बाहर से आए सहयोगी साथियों का काफी बड़ा रोल एवं सहयोग रहा है । नाहटा ने इन सभी सहयोगी साथियों का भी तहे दिल से आभार व्यक्त किया है सहयोगी साथियों में जैसे - पीपल्स ग्रीन पार्टी के राष्ट्रीय सलाहकार एवं समाजसेवी सूरत निवासी पुखराज  कावड़िया  ( जैन साहब ) , केकड़ी से आए मनीष  राठी  , सूरत से आए मोहनीश  कच्छावा साहब एवं रीता कच्छावा जी एवं मनोज जी पारीक साहब एवं भीम ( तीतरी ) से खीम सिंह  रावत  ने नाहटा के साथ कदम से कदम मिलाकर सेवाएं दी है । इन सभी सहयोगी साथियों का भी हनुमान मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के आयोजक एवं समाजसेवी चेन्नई के अध्यक्ष अनोप चंद  भिड़कचा द्वारा 27 जनवरी 2023 को माला पहनाकर एवं शॉल ओढ़ाकर बहुमान किया गया है । गौरतलब है कि डेह गांव को शामिल करते हुए पिछले 10 वर्षों के दौरान देशभर में 24 जगहों पर हस्तरेखा शिविर में नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से देशहित के लिए अपना योगदान दे चुके हैं , अंत में नाहटा ने डेह गांव में लगातार 05 दिनों तक 259 लोगों के भविष्य के बारें में बताई गई सटीक बातों का सारा क्रेडिट एवं समर्पण डेह गांव स्थित हनुमान मंदिर प्रतिष्ठा कार्यक्रम में हनुमान जी के चरणों में एवं निमाज गांव स्थित गुरु हस्ती समाधि स्थल पर समर्पित किया है ।

Comments

Popular posts from this blog

एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा ने की राजस्थान , मध्य प्रदेश , छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव की भविष्यवाणी

ब्यावर के जिला बनने की भविष्यवाणी हुई सत्य साबित

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन