3 दिवसीय एक्सपो में राजस्थान अपनी विकास क्षमता का प्रदर्शन करेगा

3 दिवसीय एक्सपो में राजस्थान अपनी विकास क्षमता का प्रदर्शन करेगा



प्रदेश के फाउंड्री कल्स्टर एक्सपो में बड़ी संख्या में भाग लेंगे।



 एक्सपो का विषय- 'एराइज, आटोमेक और आत्मनिर्भर' के साथ नई तकनीकों, स्थिरता और निर्यात पर ध्यान केंद्रित करना है। 


जयपुर, 6 फरवरी । ग्रेटर नोएडा (दिल्ली-एनसीआर) में इंडिया एक्सपो सेंटर और मार्ट में 71वीं इंडिया फाउंड्री कांग्रेस (आईएफसी) और प्रदर्शनी (आईएफईएक्स 2023) में अग्रणी फाउंड्री उत्पादक राज्य राजस्थान अपनी नई टेक्नोलॉजी और इन्नोवेशन सहित अपनी ताकत का प्रदर्शन करेंगा, यह आयोजन 8 फरवरी से लेकर 10 फरवरी  तक किया जायेगा। इस मेगा इवेंट का अयोजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन फाउंड्रीमेन (IIF) द्वारा किया जा रहा है। प्रतिनिधियों और प्रदर्शकों की संख्या के लिहाज से इस मेगा इवेंट में राजस्थान की भागीदारी 35 होगी। राजस्थान में फाउंड्री के 250 से भी ज्यादा इकाइयां हैं। राजस्थान से सबसे ज्यादा प्रतिनिधित्व जयपुर क्लस्टर से होगा। इस तीन दिवसीय सम्मेलन और प्रदर्शनी में लगभग 12,000 प्रतिनिधि, एक्जीबिटर्स और अन्य स्टेकहोल्डर के भाग लेने की उम्मीद है, जिसमें नई तकनीकीकरण, नए ट्रेंड और उद्योगों के अन्य घटकों को प्रदर्शित करने के साथ-साथ आने वाली नई चुनौतियों और अवसरों पर विचार विमर्श किया जाएगा, जो 2021-22 में 3.5 बिलियन अमरीकी डालर के निर्यात के साथ देश में लगभग 20 बिलियन अमरीकी डालर आंका गया है। भारत 12.49 मिलियन टन के साथ दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है। 

इस कार्यक्रम को भारत के रक्षा मंत्री,  राजनाथ सिंह, केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री-  पीयूष गोयल, रक्षा राज्य मंत्री-  अजय भट्ट व केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री- महेंद्र नाथ पांडे द्वारा संबोधित किया जाएगा। इस कार्यक्रम के दौरान नीति निर्माता, शोधकर्ता, वैज्ञानिक, नीति आयोग और अन्य संस्थानों के विशेषज्ञ, उद्योग प्रमुख और पेशेवर भाग लेंगे जो ऑटो, बिजली, मशीनरी निर्माता, रेलवे, पंप, कंप्रेशर्स, वाल्व आदि मेटल कास्टिंग का उपयोग करने वाले विभिन्न क्षेत्रों में भारत और विदेशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करेंगे। फाउंड्री ने शिक्षा और कौशल विकास, स्वचालन, मेक इन इंडिया के तहत अनुभव और गुणवत्ता प्रबंधन पर तकनीकी को दर्शाते हुए इस साल का मुख्य विषय "उठो, स्वचालित और आत्मनिर्भर" को रखा है। 

फाउंड्री बिजनेस को भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जाता है, जिसमे कांग्रेस और एग्जीबिशन कास्ट इंडिया एक्सपो ( कास्टिंग कैपेसिटीज एंड कैपेबिलिटीज ), कास्ट सोर्स मीट और बी2बी मीट, सीईओ मीट, सप्लाई चेन बाजार (आईएफईएक्स में पहली बार आईएफईएक्स की पूरी सप्लाई चेन) के माध्यम से उद्योगों के विभिन्न आयामों पर विचार-विमर्श करेगी।

मेगा शो की मुख्य विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए, IFC और IFEX की आयोजन समिति के चेयरमैन प्रदीप मित्तल ने कहा कि मध्यम और लघु उद्योग (MSMEs) संपूर्ण उद्योग जगत का 80% से अधिक हिस्सा हैं। सरकार ने इस बार के यूनियन बजट 2023 24 में हाई क्रेडिट फ्लो और अनुपालन को सरल बना कर धन की कमी से जूझ रहे सेक्टर को बढ़ावा दिया है। MSMEs के लिए 9,000 करोड़ रुपये की एक संशोधित क्रेडिट गारंटी स्कीम का शुभारंभ होगा, जिससे छोटे व्यवसायियों को 2 लाख करोड़ रुपए के अतिरिक्त संपार्श्विक-मुक्त क्रेडिट की अनुमति देगा। 71वें IFCs/IFEX का आयोजन 'अमृत काल' की पृष्ठभूमि में 'उठो, स्वचालित और आत्मानिभर' के मुख्य विषय के साथ किया जा रहा है।

आईआईएफ के अध्यक्ष  विनीत जैन  ने बताया कि आत्मनिर्भर भारत हमारे इतिहास में इनोवेशन, इंफ्रास्ट्रक्चर, पर्यावरण, डिमांड, टेक्नोलॉजी और सोशल इकोनामी के विकास को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित करके नए भारत की उद्यमशीलता की भावना को बढ़ाता है जो भारत के विकास की एक नई लहर को सुनिश्चित करेगा और इससे भारतीय उद्योग विकास के पथ पर आगे बढ़ेंगे। इसलिए वैश्विक बाजार में अपना अलग स्थान बनाने के लिए और आयात निर्भरता को कम करने के उद्देश्य से उठो, स्वचालित और आत्मनिर्भर" के रूप में इस विषय को चुना गया है।

आईआईएफ के  सचिव दिनेश गुप्ता जी ने कहा कि सरकार स्वदेशी डिफेंस उत्पादन पर ध्यान केंद्रित कर रही है। ऑटो सेक्टर के साथ रेलवे और डिफेंस हमारे लिए प्रमुख सेक्टर हैं। यूनियन बजट में डिफेंस के सेक्टर को बढ़ाकर 5,93,537.64 करोड़ रुपये कर दिया गया है, जो भारत सरकार के कुल बजट का 13.18 प्रतिशत है। इस वृद्धि का फाउंड्री उद्योग पर भी प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने कहा की इससे टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट, सामंजस्य पूर्ण सहयोग, नॉलेज शेयरिंग, नेतृत्व विकास, क्षमता निर्माण और स्थिरता पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। 

आईआईएफ- उत्तरी क्षेत्र के अध्यक्ष, सौरभ गुप्ता  ने कहा कि 20.0 बिलियन अमरीकी डालर का भारतीय फाउंड्री उद्योग अब अपनी विकास दर को दोगुना करने की दहलीज पर है। आईआईएफ में हम भारतीय फाउंड्री उद्योग को कास्टिंग के लिए एक कास्टिंग महाशक्ति और वैश्विक गंतव्य बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। कास्ट इंडिया एक्सपो, कास्ट सोर्स मीट, बी2बी मीटिंग्स, पैनल डिस्कशन और सीईओ मीट इस मेगा इवेंट की प्रमुख विशेषताएं हैं, जिन्हें मंत्रियों और वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों द्वारा संबोधित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में आकर्षण के रूप में तकनीकी प्रस्तुतियों के साथ केस स्टडी और सफलता की कहानियां शामिल हैं।

इंडियन फाउंड्री इंडस्ट्री का अवलोकन

इंडियन फाउंड्री उद्योग ऑटो के लिए 80%, ट्रैक्टर, रेलवे, मशीन टूल्स, सेनेटरी, पाइप फिटिंग्स, डिफेंस, एयरोस्पेस, अर्थ मूविंग, टेक्सटाइल, सीमेंट, इलेक्ट्रिकल, पावर मशीनरी, पंप / वाल्व, टर्बाइन जनरेटर, विंड में उपयोग के लिए मेटल कास्ट कंपोनेंट्स का निर्माण करता है। फाउंड्री उद्योग का लगभग 3.1 बिलियन अमरीकी डालर के निर्यात के साथ लगभग 20 बिलियन अमरीकी डालर का कारोबार है। यहां 4500 से अधिक इकाइयां हैं जिनमें से 80% को MSME के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है जो मेक इन इंडिया', ईज ऑफ डूइंग बिजनेस, इंफ्रास्ट्रक्चर और अन्य क्षेत्रों में निवेश को बढ़ावा देता है। जिसका फाउंड्री उद्योग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। प्रमुख फाउंड्री क्लस्टर बटाला, जालंधर, लुधियाना, आगरा, पुणे, कोल्हापुर, शोलापुर, राजकोट, मुंबई, अहमदाबाद, बेलगाम, कोयम्बटूर, चेन्नई, हैदराबाद, हावड़ा, कोलकाता, इंदौर, चेन्नई, फरीदाबाद और गुड़गांव में स्थित हैं। . आमतौर पर, प्रत्येक फाउंड्री क्लस्टर कुछ विशेष उपयोग के बाजारों को पूरा करने के लिए जाना जाता है। उदाहरण के लिए, कोयम्बटूर क्लस्टर पंप-सेट कास्टिंग के लिए प्रसिद्ध है, ऑटोमोटिव कास्टिंग के लिए कोल्हापुर और बेलगाम क्लस्टर और डीजल इंजन कास्टिंग के लिए राजकोट क्लस्टर, सैनिटरी कास्टिंग के लिए हावड़ा क्लस्टर आदि प्रकार के उद्योगों से 5 लाख लोगों को सीधे और 15 लाख लोगों को अन्य तौर पर रोजगार देता है। इससे मुख्य रूप से ऑटो सेक्टर, ट्रैक्टर, निर्माण उपकरण मशीनरी टूल्स, डिफेंस और रेलवे जैसे सेक्टर में विकास को बढ़ावा मिलता है।

आईआईएफ के बारे में

इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन फाउंड्रीमेन 1950 में स्थापित किया गया था और 1860 के सोसायटी पंजीकरण अधिनियम XXI के तहत पश्चिम बंगाल में एक समाज के रूप में पंजीकृत किया गया था। इसके राष्ट्रीय स्तर की चार रीजनल ब्रांच और 27 राज्यों में अलग-अलग ब्रांच है। इसकी वर्तमान सदस्यता संख्या 3500 से अधिक है। IIF वर्ल्ड फाउंड्रीमेन ऑर्गनाइजेशन (WFO) का भी सदस्य है।

Comments

Popular posts from this blog

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस को बंपर सीटें

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे