जैसलमेर में आयोजित हुआ डेजर्ट फेस्टिवल

पाली के गणपतसिंह बने मिस्टर तो मूमल बनी बीकाणा की गरीमा


            जैसलमेर में आयोजित हुआ डेजर्ट फेस्टिवल



पाली (महावीर दाधीच)। थार के धोरों की नगरी जैसलमेर में हल्की गुलाबी ठंड में डेजर्ट फेस्टिवल का आयोजन किया गया, जिसमें देश विदेश के हजारों नागरिकों ने भाग लिया। फेस्टिवल में राजस्थान की शान लंबी मूछें, पचरंगी साफा पहने पुरूषों व गहनों से सजी धजी आई महिलाओं को देखकर विदेशियों के हौश उड़ गये। ये कोई किसी बारात या शादी ब्याह का दृश्य नहीं है, हिन्दूस्तान के सबसे बड़े रेगिस्तान में आयोजित डेजर्ट फेस्टिवल का हैं। 


आयोजको की माने तो फेस्टिवल में भाग लेने के लिए जैसलमेर ही नहीं वरन राजस्थान के विभिन्न जिलों एवं देश के कई प्रांतों समेत जापान, अमेरिका के युवक-युवतियां भी भाग लेते हैं। युवा वर्ग फेस्टिवल में मिस्टर डेजर्ट व मूमल बनने के लिए सालों से तैयारियां करते हैं। जैसलमेर में रंग-बिरंगे डेजर्ट फेस्टिवल की शुक्रवार को शुरुआत हुई। प्रथम दिन राजस्थान के कई रंग देखने को मिले। कार्यक्रम में मिस मूमल-मिस्टर डेजर्ट के साथ ही विदेशियों के बीच साफ बांधने का भी कॉम्पिटिशन हुआ।

मिस्टर डेजर्ट का खिताब पाली के गणपत सिंह को उनकी कद-काठी और रौबदार दाढ़ी-मूंछ की कारण मिला। गणपत सिंह ने बताया कि- फेस्टिवल के लिए उन्होंने 3 वर्षों से मेहनत कर रहे थे। कई महीनों तक दाढ़ी-मूंछ को मुल्तानी मिट्टी से धोकर उस पर तेल लगाया। उनको आज भी फेस्टिवल में उपस्थित होने के लिए तैयारी में 6 घंटों से ज्यादा समय लगा। इधर, मिस मूमल के लिए 26 प्रतिभागियों ने भाग लिया और अपना भाग्य आजमाया। इसमें बीकाणा की गरिमा ने सभी को पछाडते हुए विजयी रही। युवतियों ने रैप पर वाक किया साथ ही लाल जोड़ों में रथों पर सवार रही जिनको जजों ने उनके कपड़ों, गहनों और नाक-नक्श के साथ उनके आत्मविश्वास को देखकर बीकानेर की गरिमा विजय को मिस मूमल के लिए चुना।

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे