श्रवण। चिंतन। मनन ये तीन गुण दिलाएंगे सफलता - जया किशोरी

 श्रवण। चिंतन। मनन ये तीन गुण दिलाएंगे सफलता - जया किशोरी



देश के ऐसे नागरिक बनिए ताकि जब एक जवान शहीद हो तो उसकी शहीदी सफल हो- सतीश दुआ।



- जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित राजस्थान के सबसे बड़े ओरिएंटेशन में पहुंचे 5000 छात्र



जयपुर 25 जुलाई।  जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी में हुआ राजस्थान के सबसे बड़े ओरिएंटेशन का शुभारंभ। कार्यक्रम में आए 6500 लोग, बच्चो के साथ उनके माता पिता ने भी दी शिरकत। आज के मुख्य व्यक्ता रहे स्पिरिचुअल और मोटिवेशनल स्पीकर जया किशोरी और लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ। कार्यक्रम की शुरुवात अतिथियों और चेयरमैन, जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी, ओ पी अग्रवाल और प्रेसिडेंट,जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी विक्टर गंभीर द्वारा दीप प्रज्वलित करके हुई।


*जया किशोरी ने बच्चो को दिए जीवन जीने के गुण*

वो कहती है की श्रवण,चिंतन,मनन का पालन कीजिए, श्रवण यानी पहले सुनिए लोग क्या कह रहे है क्या सीख देना चाह रहे है फिर उस बात पे अपना चिंतन करिए, आंख बंद करके किसी की बात मत मानिए फिर आता है मनन जो बात आपके हिसाब से सही है और जो आपके समाज के लिए सही उस काम पर अमल कीजिए, ये गुण आपको सफलता की और बढ़ाएगा।


जया किशोरी कहती है की जीवन एक लीला है और हम सब इस के किरदार, हमे कोशिश करनी चाहिए की हम अपना किरदार इतने अच्छे से निभाए की आप भले चले जाए पर आपका किरदार लोगो को याद रह जाए।

उन्होंने पैरेंट्स को संबोधित करते हुए कहा की आप उनके सबसे बड़े सपोर्ट सिस्टम बने, बाहर की दुनिया काफी है उन्हे नीचा दिखाने के लिए आप उसका साथ दीजिए; और एक बात याद रखिए की आप सिर्फ अपने बच्चे का नही बल्कि देश के भविष्य का निर्माण कर रहे है, इसीलिए ध्यान दीजिए की आप उससे क्या सिखा रहे है। उन्होंने बच्चो से कहा की आप पास और फेल दोनो का प्लान तैयार रखिए, ताकि आपके पास उदास और हताश होने का समय न रहे साथ ही उन्होंने पॉजिटिविटी को लेकर बताया की इसका मतलब प्रॉब्लम्स और फीलिंग्स को इग्नोर करना नहीं बल्की उन्हे समझ कर आगे बढ़ना और वापिस मेहनत करना हैं।


उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित लोगो को बताया की अपने अंदर "एक्सेप्टेंस" रखिए की जीवन में हर चीज आपके मुताबिक नही हो सकती।


*आज का कार्यक्रम काफी वाइब्रेंट है क्योंकि आज यहां कल का भविष्य बैठा है - सतीश दुआ।*

ओरिएंटेशन के दूसरे मुख्य वक्ता लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ ने यूथ को संबोधित करते हुए कहा की लोग कहते है आज का यूथ डिजिटल दुनिया में ज्यादा इंवॉल्व है उससे असली दुनिया से खासा मतलब नही है, पर वो बताते है की विक्रम बत्रा जैसे लोग जो देश के लिए शहीद हो जाते है उनकी उम्र 24 से ज्यादा नही।

उन्होंने कहा की जो लोग बड़े सपने देखते है वही दुनिया बदलते है, और उन्होंने कहा की जरूरी नहीं की आप आर्मी में आकर ही देश की सेवा कर सकते है, आप पूरी मेहनत और शिद्दत से अपना काम करिए इसी से होगी देश की प्रगति।

आज का यूथ लीडरशिप की अनोखी खूबी रखता है,और उन्होंने मौजूद सभी लोगो को कहा की अगर आप एक जवान की इज्ज़त करना चाहते है तो ऐसे नागरिक बनिए जिनके लिए एक जवान की शहीदी बेकार न जाए।


उन्होंने उरी हमले को याद करते हुए कहा की वो उनके जीवन का सबसे सुखद और अंधकार भरा दिन था। चेयरमैन, जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी, ओ पी अग्रवाल ने कहा की जेईसीआरसी सस्टेनेबल एफोर्ट्स ले रहा है बच्चो को वर्ल्ड क्लास शिक्षा प्रदान करने का। डॉयरेक्टर स्टूडेंट अफेयर्स,जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी, धीमांत अग्रवाल ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहते है की अब आपका समय आगया है आपने प्रोफेशनल और पर्सनल ग्रोथ पर मन लगाकर काम करने का।


ओरिएंटेशन सेरेमनी में वाइस चेयरपर्सन,जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी अर्पित अग्रवाल और अमित अग्रवाल सहित यूनिवर्सिटी के डीन और फैकल्टी मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

ब्यावर के जिला बनने की भविष्यवाणी हुई सत्य साबित

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस को बंपर सीटें