रूपये 500 में मिलेगा गैस सिलेण्डर

प्रदेश में पुन: कांग्रेस की सरकार बनने पर 

रूपये 500 में मिलेगा गैस सिलेण्डर


महिला परिवार मुखिया को प्रतिवर्ष किश्तों में गृह लक्ष्मी गारंटी योजना के तहत्  10 हजार रूपये सहायता राशि का वादा


जयपुर, 25 अक्टूबर। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं पद्मश्री स्व. श्री शीशराम ओला की मूर्ति अनावरण एवं इस अवसर पर अरडावता, तहसील चिड़ावा, जिला झुन्झुनूं में आयोजित विशाल जनसभा को कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गॉंधी, मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  गोविन्द सिंह डोटासरा एवं पूर्व प्रदेशाध्यक्ष  सचिन पायलट ने सम्बोधित किया तथा मंत्री  बृजेन्द्र सिंह ओला ने स्वागत भाषण दिया। सभा में मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने प्रदेश की जनता से वादा करते हुये दो गारंटी दी है कि प्रदेश में पुन: कांग्रेस की सरकार बनने पर एक करोड़ पांच लाख परिवारों को रूपये 500 में गैस सिलेण्डर मिलेगा तथा एक करोड़ से अधिक राजस्थान की महिला परिवार मुखिया को प्रतिवर्ष किश्तों में गृह लक्ष्मी गारंटी योजना के तहत् 10 हजार रूपये सहायता राशि प्रदान की जायेगी। जनसभा में भाजपा की विधायक श्रीमती शोभा रानी कुशवाह, भाजपा के किशनगढ़ से प्रत्याशी रहे डॉ. विकास चौधरी, भाजपा की पीपल्दा से प्रत्याशी रही श्रीमती ममता शर्मा एवं समृद्ध शर्मा को कांग्रेस का दुपट्टा उढ़ाकर श्रीमती प्रियंका गॉंधी ने पार्टी में शामिल किया।


सभा को सम्बोधित करते हुये राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि प्राणो की आहूति देकर जो सैनिक देश की रक्षा करते हैं उनकी भूमि झुन्झुनूं शेखावाटी में पद्मश्री स्व. श्री शीशराम ओला ने बालिका शिक्षा का जो पौधा लगाया था वह आज वट वृक्ष बनकर बालिका शिक्षा में देश में अव्वल स्थान पर है। उन्होंने कहा कि स्व. श्री शीशराम ओला जिले के ही नहीं प्रदेश एवं देश की 36 कौमों को साथ लेकर देश को आगे बढ़ाने का काम करने वाले नेता थे। उन्होंने कहा कि स्व. श्री शीशराम ओला की दूरदृष्टि ने झुन्झुनूं जिले को विकसित करने एवं अव्वल स्थान पर पहुॅंचाने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि शेखावाटी में मुख्यमंत्री ने सम्भाग बनाने का कार्य किया जिससे सभी निवासियों को लाभ मिलेगा एवं 10 गारंटी देकर राहत प्रदान करी जिस कारण सबका दायित्व है कि आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को वोट देकर जितायें। उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रे्रस सरकार ने काम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जो जनता ने मांगा संगठन के कहने पर सरकार ने किया। उन्होंने कहा कि पिछले चुनावों में जिले में भाजपा सिर्फ एक सीट जीत पाई थी, किन्तु आगामी चुनावों में सभी सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी जनता के समर्थन से जीतकर आयेंगे यह विश्वास उपस्थित जनसमूह के बलबूते पर श्रीमती प्रियंका गॉंधी जी को दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि अग्निपथ योजना लागू कर केन्द्र सरकार ने किसान के बेटों के साथ जो धोखा किया है उसका बदला लेने का वक्त आ गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार ने तीन काले कृषि कानून लाकर 15 महिने तक किसानों को खून के आंसू रूलाये व सडक़ों पर बैठने को मजबूर किया, इस नुकसान की भरपाई करने के लिये भाजपा से बदला लेने हेतु 25 नवम्बर को मशीन पर हाथ के निशान को दबाकर कांग्रेस को वोट देने का कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि भाजपा किसान विरोधी है, इसलिये आगामी विधानसभा चुनावों में प्रदेश में पुन: कांग्रेस की सरकार बनानी है, साथ ही केन्द्र से भाजपा सरकार का सफाया करना होगा।  


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जनसभा को सम्बोधित करते हुये कहा कि सौभाग्य है कि श्रीमती प्रियंका गॉंधी का तीसरी बार राजस्थान दौरा हुआ है, वह भी ऐसे मुबारक मौके पर जननेता पद्मश्री स्व. श्री शीशराम ओला की मूर्ति का अनावरण किया गया। उन्होंने कहा कि महान् नेताओं के जीवन को देखकर आने वाली पीढ़ी व नौजवान प्रेरणा प्राप्त करते हैं। उन्होंने कहा कि स्व. श्री शीशराम ओला का पूरा परिवार कांग्रेस में रहकर जनसेवा को समर्पित रहा है जिसकी झलक उनके पुत्र मंत्री  बृजेन्द्र सिंह ओला में दिखाई देती है। उन्होंने कहा कि आज खुशी की बात है कि विधायक श्रीमती शोभा रानी कुशवाह, श्रीमती ममता शर्मा,  विकास चौधरी एवं  समृद्ध शर्मा कांग्रेस में शामिल हुये हैं। उन्होंने कहा कि झुन्झुनूं जिले में बांगड़, बिड़ला आदि उद्योगपतियों ने शिक्षण के क्षेत्र में जबरदस्त कार्य किया है। आजादी के पूर्व से ही बड़ी-बड़ी शिक्षण संस्थायें गॉंधीवादी स्वतंत्रता सैनानियों ने बनाई थी। उन्होंने कहा कि शेखावाटी में पूर्वजों ने शिक्षा पर ध्यान दिया क्योंकि शिक्षा बिना अंधेरा होता है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार ने 310 कॉलेज और 103 बालिका महाविद्यालय खोले तथा मांगते-मांगते थक जाओगे कहा था और सरकार ने देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। उन्होंने कहा कि दस गारंटियों के तहत् एक करोड़ से अधिक नागरिकों को विधवा, बुजुर्ग इत्यादि को एक हजार रूपये न्यूनतम पेंशन सोशल सिक्योरिटी के तहत् मिल रही है। उन्होंने कहा कि यह कोई एहसान नहीं है बल्कि सरकार का दायित्व है जो मंहगाई से राहत देने हेतु आवश्यक है। उन्होंने कहा कि सरकार ने तीन लाख नौकरियों, दो हजार यूनिट किसानों को बिजली फ्री दी, लम्पी रोग से ग्रसित गायों के मुआवजे हेतु 40 हजार रूपये प्रदान किये, आगे किसानों को नुकसान ना हो इसलिये कामधेनु योजना के तहत् प्रति पशु 40 हजार रूपये का बीमा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मंहगाई से राहत प्रदान करने हेतु कैम्प लगाये गये तथा प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी को भी झुकना पड़ा एवं राज्य सरकार की योजनाओं की तारीफ करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि राजस्थान एक मात्र प्रदेश है जहॉं रूपये 500 में गैस सिलेण्डर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सामाजिक सुरक्षा में किये गये कार्यों के तहत् प्रदेश की पूरे देश में अलग पहचान बनी है। गॉंव में सडक़ें बनी, स्वास्थ्य, शिक्षा, पानी, बिजली हेतु जबरदस्त काम हुये। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व. श्री राजीव गॉंधी ने पंचायती राज में महिलाओं को अधिकार दिये जिसका परिणाम है कि आज महिलायें सरपंच एवं प्रधान बनकर देश के विकास की मुख्यधारा में अपना योगदान दे रही है। उन्होंने कहा कि श्रीमती सोनिया गॉंधी ने महिलाओं के अधिकारों हेतु लड़ाई लड़ी जिस कारण प्रधानमंत्री श्री नेरन्द्र मोदी को झुकना पड़ा एवं 9 साल बाद महिला आरक्षण बिल पास कराना पड़ा। उन्होंने कहा कि आज महिलायें मोबाईल पर बात कर रही हैं, बच्चियां मोबाईल पर पढ़ाई कर रही हैं, यह देन पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री राजीव गॉंधी की है जो देश में कम्प्यूटर तकनीक लेकर आये। उन्होंने कहा कि ऐसे विकास कार्य कांग्रेस ही कर सकती है क्योंकि कांग्रेस की सोच विकासोन्नमुखी है जबकि दकियानुसी सोच वाले धर्म के नाम पर भडक़ाते हैं। ईडी, आईटी जैसी संवैधानिक संस्थाओं का उपयोग विपक्ष के नेताओं के खिलाफ कर फासिस्ट सोच का परिचय देते हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान की सरकार ने मंहगाई से राहत दी तथा जो दस गारंटियां दी वे लागू हो गई जिसके परिणामस्वरूप राजस्थान की जनता लाभान्वित हो रही हे। उन्होंने कहा कि एक करोड़ लोगों का बिजली का बिल शून्य आ रहा है, प्रदेश में न्यूनतम आय की गारंटी लागू है, इस तरह की योजनायें एवं जो कानून प्रदेश में बने हैं उनकी चर्चा पूरे देश में हो रही है। चिरंजीवी योजना के माध्यम से चिकित्सा खर्च का पैकेज देने वाला राजस्थान देश का एकमात्र प्रदेश है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आगे की सोचती है, छात्र, युवा, महिला, किसान के लिये कार्य करती है।


इस अवसर पर मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने राजस्थान की जनता से वादा किया कि प्रदेश में पुन: कांग्रेस की सरकार बनने पर एक करोड़ पॉंच लाख परिवारों की महिलाओं को रूपये 500 में गैस सिलेण्डर राजस्थान सरकार द्वारा दिया जायेगा तथा गृह लक्ष्मी गारंटी योजना के तहत् एक करोड़ से अधिक महिलाओं को किश्तों में 10 हजार रूपये की सहायता राशि प्रदान की जायेगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सहायता राशि मिलने पर अपने परिवार में एवं आने वाली बहिन-बेटियों को सम्मान स्वरूप उपहार देने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि राजस्थान में कर्मचारियों को ओल्ड पेंशन स्कीम एवं आरजीएचएस स्कीम लागू कर लाभान्वित किया गया जो राजस्थान के अलावा कुछ ही प्रदेशों में है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में जनकल्याणकारी योजनाओं के दम पर पुन: कांग्रेस की सरकार बनेगी ऐसे उन्हें विश्वास है।


श्रीमती प्रियंका गांधी ने विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा – सबसे पहले तो मेरी बहनें बहुत सारी बैठी हैं, आप सबका इस सभा में बहुत-बहुत स्वागत। काफी समय से बैठी हैं? मैंने सुना 11:30 बजे आई थी, (जनसभा में आई महिलाओं ने कहा कि 11 बजे से) 11 बजे। गर्मी भी बहुत है और वहाँ पर काफी नौजवान लड़कियां भी अब बोर हो रही होंगी (जनसभा में बैठी लड़कियों ने कहा, अभी नहीं)? अभी नहीं, तो मैं करती हूं थोड़ा बोर तुम्हें।


 अशोक गहलोत ,  सचिन पायलट ,  सुखजिंदर सिंह रंधावा ,  गोविंद सिंह डोटासरा ,  बृजेंद्र सिंह ओला ,  हेमाराम चौधरी ,  गोविन्द राम मेघवाल , राजकुमार शर्मा , रीटा चौधरी , जेपी चंदेलिया , जितेंद्र सिंह , दीनेश सुंदर , श्रवण कुमार , यहाँ उपस्थित सभी नेतागण, सभी कांग्रेस के कार्यकर्ता, बहनों और भाइयों, आप सबका इस सभा में बहुत-बहुत स्वागत।


शुरु करने से पहले एक बार मेरे साथ शाकंभरी माता की जय, सालासर बालाजी महाराज की जय, खाटू श्याम जी की जय, बावलिया बाबा की जय और आपकी इस पवित्र मिट्टी की भी मेरी तरफ से जय। आपकी ये जो मिट्टी है, इसने देश को बहुत कुछ दिया था। शीशराम ओला जी जैसे नेता, अनगिनत शहीद सैनिक, आपने इसी धरती से स्वतंत्रता की अलख जगाई। 1857 से लेकर आज तक आपकी धरती के वीर इस देश के लिए शहीद होने के लिए तैयार हैं। यहाँ की माताओं को मेरा प्रणाम। सबसे ज्यादा रिटायर्ड सैनिक झुंझनू में ही हैं और सबसे ज्यादा सैनिक जो सरहद पर आज भी तैनात हैं, वह भी झुंझुनू से हैं। आपने देश को बहुत दिया- बिरला, डालमिया, सिंघानिया, खेतान, पीरामल, बजाज जैसे बड़े-बड़े नाम, बड़े-बड़े उद्योगपति।


यहाँ पर जो शिक्षा का केंद्र बना, जो पूरे विश्व में प्रसिद्ध है, इसका भी निर्माण आपने ही किया। भारत की जो गंगा-जमुनी संस्कृति है, यहाँ झुंझनू में इसकी मिसाल भी है। यहाँ चंचल नाथ जी के टीले पर कव्वाली भी सुनाई देती है और कमरुद्दीन जी की दरगाह पर भजन भी।  


ये राजस्थान प्रदेश वीरों का प्रदेश है। आपको गर्व होना चाहिए अपने प्रदेश पर, आपने हमारे देश को कितना दिया। आपकी मेहनती जनता, दिन-रात काम करने वाले किसान, आपने ही इस देश का निर्माण किया है, आपने ही इस प्रदेश को आगे बढ़ाया है।आपका इतिहास शौर्य का, शक्ति का एक ऐसा इतिहास है, जिस पर पूरे देश को गर्व है।


तो आज आपके सामने मैं चुनाव के मौके पर खड़ी हूं। ओला जी ने कहा कि मेरे परिवार के बहुत से सदस्य मेरे से पहले यहाँ आए, उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों की भी बात की। शायद पायलट जी ने आस्था की बात की, कि किस तरह से झुंझनू के लोगों ने इन नेताओं में अपनी आस्था रखी। चुनाव आता है, तो हर पार्टी के लोग, हर पार्टी के नेता आते हैं। सबके भाषण सुनते हैं आप, कभी-कभी मेरे मन में आता है कि सबके भाषण एक ही लगते हैं मुझे। हम उनको दोष देते हैं, वो हमें दोष देते हैं। हम कहते हैं कि वो भ्रष्ट हैं, वो कहते हैं कि हम भ्रष्ट हैं। हम कहते हैं कि हम सेवा करते हैं, वो कहते हैं कि वो सेवा करते हैं। तो आपको कैसे मालूम होगा कि किसकी बात सही है और किसकी नहीं है और इस देश को चलाने के लिए, प्रदेश को चलाने के लिए आप एक नेता में या एक पार्टी से क्या उम्मीद रखते हैं, क्या चाहते हैं उससे? आपने इस बात को गहराई से सोचा है?


आज मैं इस बात को आपके सामने रखना चाहती हूं कि जो नेता होता है, जो प्रदेश को चलाता है या देश को चलाता है, उसको एक गहरी समझ होनी चाहिए। किसी ने कहा विजन होना चाहिए, रोड मैप होना चाहिए। क्या होता है ये विजन, ये रोडमैप - ये होता है कि भविष्य में क्या बनाना चाहते हैं, किस तरह से प्रदेश का निर्माण करना चाहते हैं, देश को किस तरह से मजबूत बनाना चाहते हैं और इसमें क्या-क्या चीजें हैं जो उसको करनी चाहिए और ये जो विजन होता है, ये रोडमैप जो होता है, इसी के जरिए फिर विकास होता है। जिस तरह से यहाँ आपका कॉलेज है, ये छात्राएं बैठी हुई हैं, आज आप पढ़ाई कर रही हैं, अगर एक ऐसा नेता इस प्रदेश को चला रहा है, जो आपके भविष्य के बारे में सोचे नहीं, आप कितनी भी पढ़ाई कर ले, आपको जॉब नहीं मिलेगा। आप रोजगार ढूंढते हुए भटकते जाएंगे। रोजगार नहीं मिलेगा। अगर ऐसी सरकार आए, जो सोच नहीं रही है आगे के बारे में, भविष्य के बारे में। आप देखिए यहाँ पर बिट्स पिलानी है, आपके क्षेत्र में, किसी की सोच के जरिए बनी है। बिरला जी ने बनाई, नेहरु जी ने उनका प्रोत्साहन किया कि कहा, आप बनाओ। ऐसा इंस्टीट्यूट बनाओ जो विश्व में प्रसिद्ध हो जाए और उन्होंने किया। आज की सरकार को देखिए, आज की सरकार सिर्फ दो उद्योगपतियों का प्रोत्साहन कर रही है, सिर्फ दो। उनके जो मित्र हैं, उनको देश की पूरी संपत्ति सौंपी जा रही है। देश के बंदरगाह, देश के एयरपोर्ट, देश के जितने भी बड़े-बड़े पीएसयू थे। अब आप सोचिए, मैंने भविष्य की बात की, भविष्य में सोचते हैं, तो सबसे ज्यादा क्या जरुरी होता है भविष्य के लिए, नौजवानों के भविष्य के लिए। बहनें आप यहाँ बैठी हैं, आप अपनी बेटियों को, बच्चों को पढ़ाती हैं, लिखाती हैं, मेहनत करती हैं, रोज खेती में जाती हैं, मेहनत करती हैं और उस मेहनत की कमाई से इन्हें पढ़ाती हैं। तो आप क्या उम्मीद रखती हैं इनके भविष्य के लिए कि बड़ी होकर नौकरी मिलेगी, कमाएंगे, खुद अपना भविष्य मजबूत बनाएंगे। तो एक ऐसी सरकार है जो रोजगार बना ही नहीं रही है, तो फिर आपके भविष्य का क्या होगा? जिसका विजन नहीं है, रोडमैप नहीं है कि रोजगार कैसे बने। शिक्षा की एक नई संस्था नहीं बनाएंगे, जो पुरानी हैं, उनको भी बिगाड़ कर रख देंगे। अगर ऐसी सरकार होगी, तो आपके भविष्य का क्या होगा?


देखिए, रोजगार कहाँ से बनते हैं, समझ लीजिए ये बात - सबसे पहले तो जो बड़े-बड़े पीएसयू थे, इससे बनते थे। आज मैंने कहा आपसे, सब के सब अपने बड़े-बड़े उद्योगपति मित्रों को सौंप दिए हैं। वहाँ प्राइवेटाइज हो जाता है। उसमें ना आरक्षण होता है, उसमें ना रोजगार बनते हैं। तो जो सबसे बड़ी पीएसयू थे, जहाँ रोजगार बनते थे, वो तो इन्होंने अपने बड़े-बड़े उद्योगपति मित्रों को सौंप दिए और ये भी नहीं कहा कि चलो जितने अच्छे उद्योगपति हैं, मैंने इतने नाम लिए आपके सामने, जो सब आपके ही क्षेत्र से हैं, इन सबका प्रोत्साहन सरकारों ने किया था एक जमाने में। सबको मदद की थी कि आप बड़े बनेंगे, तो आप रोजगार दिलवाएंगे, आपकी कंपनियां बड़ी होंगी तो मजबूती होगी देश में। आज सिर्फ दो उद्योगपति हैं और उनकी ऐसी-ऐसी कंपनियां हैं, ऐसे-ऐसे कारोबार हैं, जिससे रोजगार नहीं बनते। तो एक तो यहाँ रोजगार का जरिया खत्म हो गया। दूसरा रोजगार का सबसे बड़ा जरिया क्या होता था, माध्यम क्या होता था- खेती, किसानी और आपने सबकी बातें सुनी। आप सब जानते हैं कि किसान आंदोलन हुआ। किसलिए हुआ इतना बड़ा आंदोलन, कितने किसान शहीद हुए, क्यों उतरे वो सड़क पर? क्योंकि ऐसे काले कानून ला रहे थे, जो कि ये खेती, किसानी भी अपने बड़े-बड़े उद्योगपति मित्रों को सौंप रहे थे। आपको अपनी जमीनों पर हक, अपनी खेती पर हक, वो सब बिगाड़ने जा रहे थे और झुके, जरुर झुके। लेकिन ये भी समझ लीजिए बहनों और भाइयों, कब झुके - चुनाव से पहले झुके। जब चुनाव आ रहा था, किसानों को शहीद होने दिया उससे पहले, उनकी कोई सुनवाई नहीं की, सड़क पर बैठे हुए थे। खाना नहीं था, पानी नहीं था, सर्दी थी मुझे याद है उस समय, किसी ने बात तक नहीं की उनसे। बात तब होनी शुरु हुई, जब चुनाव सामने आ रहा था। तब तक हमने खुद आंदोलन किया। लखीमपुर खीरी में किसानों को अपनी जीप के नीचे रौंदने वाले मंत्री के बेटे को उन्होंने बचाया और वो मंत्री उनके साथ मंच पर बैठता था। कुछ नहीं किया। तब किया जब चुनाव आने लगे।


तो आप सोचिए, किसानों ने आंदोलन किया, क्यों किया? जैसे मैंने कहा कि एक ऐसी नीति आ रही थी, जो उनको कुचलने वाली नीति थी। इसी तरह से हर वर्ग को देखिए। आप महिलाओं की बात कर रहे हैं, सब कर रहे हैं आजकल। क्योंकि,  आजकल नेता भी समझ गए हैं कि महिलाओं का वोट बहुत कीमती है, इसलिए आज सब महिलाओं की बात कर रहे हैं। लेकिन महिला आरक्षण की बात सबसे पहले किसने की - सालों पहले कांग्रेस पार्टी ने की। महिलाओं को आरक्षण किसने दिया पंचायतों में - सबसे पहले कांग्रेस पार्टी ने दिया और इन्होंने एक ऐसा कानून पास किया है जो कहते हैं कि 10 साल तक लागू नहीं होगा। क्या करेंगे हम इस आरक्षण का, अगर 10 साल हमें रुकना पड़ेगा इसके लिए?


तो इनकी बातें जो हैं पूरी तरह से खोखली है। जो उदारता होनी चाहिए, जो समर्पण होना चाहिए, वो नहीं है। उदारता तो वो होती है जो किसान बाहर बैठा हुआ है सर्दी में, खा नहीं रहा है, पी नहीं रहा है। सुनवाई तो कर लो, समझ तो लो कह क्या रहा है, इस देश की जनता क्या कह रही है आपसे। लेकिन आज जो सरकार है, मोदी जी की सरकार, भाजपा की सरकार, उसमें आपकी कोई सुनवाई नहीं है। ये सरकार सिर्फ बड़े-बड़े उद्योगपतियों के लिए चल रही है और वो भी जो इनके गिने-चुने मित्र हैं। जिनको पूरे देश की संपत्ति सौंप कर इनकी सत्ता मजबूत रहे।


तो आपको समझना पड़ेगा कि आज की जो परिस्थितियां हैं, उनसे आपका भविष्य कैसे बनेगा। ओपीएस की आपने बात की। अब जो कर्मचारी है, 20-20 साल काम करता है, उसकी क्या उम्मीद होती है और सरकारी नौकरी, मुझे याद है बचपन में भी, जब मैं छोटी थी, तो मुझे याद है कि बहुत लोग आते थे कि सरकारी नौकरी किसी तरह से, इंदिरा जी से कह दीजिए, पिता जी से कह दीजिए किसी तरह से हमारी लग जाए तो हमारा जीवन बन जाएगा। किसलिए कहते थे ये बात,  क्योंकि ये नौकरी करने के बाद, 20-20 साल नौकरी करने के बाद पेंशन तो ठीक ढंग का मिलता था, उसकी सुरक्षा होती थी। आज जितने भी ये पुलिसकर्मी हैं, जितने यहाँ तैनात हैं, क्या किसी को पुरानी पेंशन नहीं मिल सकती? जब आप मांग उठाते हैं, तो आपको कहा जाता है कि पैसा नहीं है इसके लिए। तो जब इसके लिए पैसे नहीं है, तो आप बताइए कि इतने बड़े-बड़े उद्योगपतियों के कर्ज माफ करने के लिए पैसे कहाँ से आए? जो हजारों-करोड़ रुपए इनके माफ होते हैं, वो पैसे कहाँ से आए? जो मोदी जी दो हवाई जहाज अपने लिए विदेश में जाने के लिए खरीदते हैं, एक 8,000 करोड़ का, दूसरा 8,000 करोड़ का, 16 हजार करोड़ के दो हवाई जहाज सिर्फ अपने लिए खरीदते हैं, उसके लिए पैसे हैं। 20 हजार करोड़ आपके पास हैं खर्चने के लिए नए संसद भवन को बनाने के लिए, जबकि पुराना संसद भवन ठीक तरह से चल रहा है। उसका सौंदर्यकरण करने के लिए आप 20 हजार करोड़ रुपए खर्च करने के लिए तैयार हैं। लेकिन किसान की मांग, किसान का कर्ज माफ  नहीं करेंगे। ओपीएस के लिए आपके पास पैसे नहीं हैं। तो आज की सच्चाई ये है, असलियत ये है।


आपने देश को अनगिनत शहीद दिए। इस सरकार ने क्या किया आपके लिए, अग्निवीर ले आए। जब मैं लखीमपुर खीरी में किसानों के लिए आंदोलन कर रही थी, उस समय जब इन्होंने किसानों को कुचला था जीप के नीचे, तब हम उनके परिवार से मिलने के लिए जाना चाह रहे थे, तो हमें रोक दिया गया। रात का समय था, हम निकल गए अपनी गाड़ी से, हम चले गए कि किसी ना किसी तरह से हम पहुंचेंगे परिवारों के पास। पुलिस ने सब जगह नाकाबंदी की हुई थी, हमें ढूंढ रहे थे और हम ऐसे ही निकल गए गाड़ी में पीछे छुपकर। 4 बजे रात में हम एकदम दूर एक गांव में थे, कुछ नहीं था वहां, बिजली नहीं थी, कुछ नहीं था और हम इंतजार कर रहे थे कि हमारे कुछ साथी जाकर देखें कि पुलिस कहां खड़ी है, हम दूसरी तरफ से निकलें।


तो मैंने देखा कि कम से कम 30-40 बच्‍चे साढ़े तीन बजे सुबह सड़क पर आ गए, तो मैंने अपने साथ‍ियों से पूछा ये क्‍या हो रहा है? कहा वो दौड़ लगाने आए हैं। मैंने कहा- दौड़ किसलिए, अभी इस समय? कहते नहीं ये दौड़ लगाने आए हैं, क्‍योंकि ये सेना में भर्ती होना चाहते हैं।


तो मैंने खुद अपनी आंखों से देखा है कि यूपी के गांव-गांव में, हरियाणा के गांव-गांव में, राजस्‍थान के गांव-गांव में ये एक उम्‍मीद है नौजवानों में कि हम सेना में भर्ती होंगे, हमारा जीवन बनेगा, हमें अच्‍छी नौकरी मिलेगी और हम देश के लिए शहीद हो सकते हैं और ये आशा, ये उम्‍मीद अपने दिल में रखते हैं कि हम देश की रक्षा करेंगे, हम देश की सुरक्षा करेंगे। बदले में क्‍या मिला – चार साल की स्‍कीम, कि आप सुबह ऐसी दौड़ लगा रहे हो, ट्रेनिंग कर रहे हो, हर तरह की मुश्किलों का सामना करके आप सेना में भर्ती होने की कोशिश करेंगे और सेना में भर्ती होने के बाद, चार साल बाद आप घर वापिस आ जाएंगे और आपको वो भी बेनिफिट्स नहीं मिलेंगी जो बाकी सेना में मिलते हैं। तो आज-कल जब मुझे नौजवान मिलते हैं मुझे कहते हैं कि इस बार तो हम भरेंगे ही नहीं एप्‍लीकेशन, हम भर्ती ही नहीं होना चाहते, क्‍या फायदा है दीदी।


तो जहां-जहां आप देखो ये सरकार आपको दबाने की कोशिश करती है और आपके भविष्‍य को नकारती है, सिर्फ अपनी सत्ता, अपना भविष्‍य देखना चाहती है। आज बेरोजगारी इस देश में 45 सालों में सबसे ज्‍यादा बढ़ गई है। जैसे मैंने कहा जहां-जहां से रोजगार बनना था, वो तो खत्‍म कर दिया आपने। जो छोटे कारोबार थे, छोटे बिजनेस, छोटी दुकानें, जहां से भी रोजगार बनते थे, क्या किया– नोटबंदी लाए, जीएसटी थोप दी, अब हर चीज पर जीएसटी, सबकुछ महंगा हो गया, दुकानदार अपनी कमाई नहीं कर पा रहा। तो जहां-जहां से रोजगार बनने थे, वो सारा खत्‍म कर डाला और ऊपर से महंगाई इतनी बढ़ा दी कि प्रदेश की सरकारें आपके लिए महंगाई राहत कैंप लगा रही हैं, आपके लिए प्रदेश की अशोक गहलोत जी की सरकार महंगाई राहत शिविर लगा रही है, क्‍योंकि महंगाई... भाजपा की देश में जो सरकार है केंद्र में, उन्‍होंने इतनी बढ़ा दी है... मेरी बहनें बैठी हैं, आपको मालूम है जब कुछ पकाना पड़ता है या कोई त्‍यौहार होता है, अभी दशहरा था, अब दीवाली आएगी तो मन में क्‍या बात है, किस तरह से मैं करूंगी? आप कुछ खरीदना चाहते हैं घर के लिए, धनतेरस आएगा, धनतेरस पर खरीदना चाहती हैं तो आपके दिल में हमेशा ये बात होती होगी कि कैसे करूंगी? कमाई तो कम हो रही है, महंगाई इतनी बढ़ रही है, बच्‍चों को पढ़ाना है, उनको स्‍कूल भेजना है, उनकी फीस भरनी है, उनकी किताबें खरीदनी हैं, उनके कपड़े, जूते खरीदने हैं, कोई बीमार पड़ जाता है, उसका इलाज कराना है। यहां तो प्रदेश सरकार ने आपको इतनी मदद दी है, महंगाई राहत शिविर लगाए हैं, इलाज के लिए 25 लाख का बीमा है, 25 लाख का इलाज मुफ्त। जब मैं दूसरे प्रदेशों में जाती हूं और ये बात कहती हूं तो चौंक जाते हैं। वहां तो अगर कोई बीमार पड़ता है तो दिल में इतनी टेंशन हो जाती है, इतनी घबराहट हो जाती है कि किस तरह से हम इसका इलाज भी कराएंगे। तो ये परिस्थितियां हैं आज की।


तो इन सबको आप अच्‍छी तरह से जब समझेंगे और आप जागरुक बनेंगे कि किस तरह की सरकार आप चाहते हैं, किस तरह के नेता चुनना चाहते हैं। क्‍या आप ऐसे नेता चाहते हैं जो सिर्फ अपना ही भविष्‍य देखते रहे हैं? अपनी सत्ता में रहने का काम करते रहे हैं और आपके बारे में सोचे ही नहीं। चुनाव आए तो धर्म की बातें शुरू। तो आपका काम है कि नहीं है, आपका दायित्‍व है, आपका धर्म होना चाहिए और आपका कर्तव्‍य है कि आप नेता को जवाबदेह बनाओ और असलियत ये है बहनों और भाईयों कि जो धर्म की राजनीति चलाते हैं, उनकी जवाबदेही खत्‍म हो गई है। वो समझ गए हैं कि चुनाव के समय धर्म की बात कर लो, जाति की बात कर लो, सबके जज़्बात उससे जुड़े हुए हैं, सबको डरा लो, सबको कह दो कि हम धर्म की सुरक्षा नहीं करेंगे तो ऐसा हो जाएगा, वैसा हो जाएगा और वोट मिल जाएंगे।


ये समझ गए हैं कि काम करने की जरूरत नहीं है, सिर्फ धर्म का नाम लीजिए, जाति का नाम लीजिए, चुनाव के समय वोट बटोरते जाइए, लेकिन इस सिलसिले को बंद करना ये आपका कर्तव्‍य है। जब तक आप जागरुक नहीं बनेंगे, जब तक आप ये तय नहीं करेंगे कि जो नेता है, वो काम की बात करे, वो काम करके दिखाए और उसी काम के अनुभव पर आपका वोट लगेगा, तब तक ये राजनीति चलती रहेगी।


देखिए, मैं कुछ दिनों पहले सिकराय गई थी, वहां पर मैंने एक बात की, इतना भड़क गए भाजपा वाले कि मुझ पर केस भी डाल दिया उन्‍होंने और मैंने बात सुनिए क्‍या कही थी। मैनें ये कहा था कि मैंने टीवी पर देखा, पता नहीं सच है कि नहीं, क्‍योंकि टीवी पर ऐसी बातें भी होती हैं जो सच नहीं होती हैं आज-कल, लेकिन मैंने टीवी पर देखा कि श्री देवनारायण जी के मंदिर में मोदी जी गए और उन्‍होंने एक बक्सा होता है मंदिर का, उसमें लिफाफा डाल दिया, फिर उस लिफाफे को 6 महीने के लिए किसी ने खोला नहीं कि मोदी जी ने डाला है। 6 महीनों बाद वहां के मंदिर के जो पंडित जी हैं और सब लोग इकट्ठे हुए और टीवी वाले भी कैमरा लेकर गए और उन्‍होंने वो बक्‍सा खोला तो उस लिफाफे से क्‍या निकला (जनता ने कहा – 21 रुपए) 21 रुपए निकले। तो सबकी उम्‍मीदें कहां थी और निकला क्‍या।


देश के प्रधानमंत्री, इतने बड़े नेता और उन्‍होंने 21 रुपए का लिफाफा डाल दिया सबके सामने कि लिफाफा तो डल रहा है, उसके अंदर क्‍या है हमें नहीं मालूम। तो देखिए मैं तो समझ गई कि ये मोदी जी का लिफाफा खाली है। ये बात चुभ रही है इनको, क्‍योंकि ये बात सच ही होगी और ये बात इसलिए चुभ रही है, क्‍योंकि जो काम ये करते हैं उससे यही दिख रहा है बार-बार।


वो कहते हैं महिलाओं के लिए आरक्षण, आरक्षण कब आएगा – 10 साल बाद। बिल पास हुआ अभी, आरक्षण आएगा 10 साल बाद, इसका मतलब क्‍या है, मोदी जी का लिफाफा - (जनता ने कहा – खाली है)। हमने जाति जनगणना की बात की, इन्‍होंने ओबीसी वर्ग के लिए बोला कि हम आगे बढ़ाएंगे, हम खूब काम करेंगे, एससी, एसटी, ओबीसीज़ के लिए। फिर जब हमने जाति जनगणना की बात की, फिर से मुंह बंद, कुछ नहीं कहते, क्‍यों – क्‍योंकि मोदी जी का लिफाफा -  (जनता ने कहा – खाली है)। ईआरपीसी (Eastern Rajasthan Canal Project) का वादा किया, 10 साल निकल गए, बनाया उन्‍होंने - (जनता ने कहा – नहीं बनाया) नहीं बनाया न, क्‍यों – क्‍योंकि मोदी जी का लिफाफा - (जनता ने कहा – खाली है)।


देख‍िए, इनकी सिर्फ खाली घोषणाएं हैं, खोखली घोषणाएं हैं, खाली लिफाफे हैं। जो भी घोषणा करते हैं, उसको जमीन पर उतारते नहीं हैं। आज कांग्रेस की सारी सरकारें, जितनी भी गारंटी उन्होंने दी हैं, जितनी घोषणांए की हैं आज जमीन पर उतार रही हैं। छत्तीसगढ़ को देखिए, राजस्‍थान को देखिए, हिमाचल प्रदेश को देखिए, कर्नाटका को देखिए और मेरी बातों पर मत जाइए। ये नौजवान बच्‍चे बैठे हैं, मेरी बातों पर मत जाओ, इंटरनेट पर जाओ और देखो कि कौन से प्रदेशों में कौन सी गारंटी लागू हो रही है कि नहीं और आपको खुद दिखेगा, आपका अपना अनुभव है, आप महंगाई शिविर कैंप में गए होंगे, आपको यहां की प्रदेश की सरकार ने जितनी भी सुविधाएं दी हैं, आपको उसका अपना अनुभव होगा। तो आप मन बना लीजिए इस बार, कांग्रेस की बहुत सारी परियोजनाएं हैं, इधर बड़ी लंबी लिस्‍ट है। स्‍वास्‍थ्‍य, भोजन, शिक्षा, सब चीज।


पूरे देश में राजस्‍थान आज स्‍वास्‍थ्‍य का अधिकार देने वाला पहला राज्‍य है। स्‍वास्‍थ्‍य बीमा, मैंने आपसे कहा 25 लाख रुपए तक है। ग्रामीण क्षेत्रों के लिए एक हजार इंदिरा रसोई चल रही हैं जिसमें 8 रुपए में आपको भरपेट भोजन मिल रहा है, कहीं नहीं हो रहा ये किसी प्रदेश में। इंदिरा गांधी गैस सिलेंडर सब्सिडी योजना के तहत 500 रुपए का आपको गैस सिलेंडर मिलता है, इन्‍होंने 1,200 तक इसका दाम बढ़ा दिया था, अब चुनाव आ गए हैं, उसको घटाने जा रहे हैं, वो भी अपने प्रदेशों में।


तो आपको देखना चाहिए कि क्‍या हो रहा है आपके साथ – धोखा हो रहा है, खोखली बातें हो रही हैं। हमारी सरकार ने यहां एक करोड़ से ऊपर उपभोक्‍ताओं का बिजली बिल शून्‍य बनाया है, आपको बिजली शून्‍य बिल पर मिलती है। यहां आज मिन‍िमम इंकम गांरटी एक्‍ट लागू है, मिन‍िमम इंकम गारंटी का मतलब है कि जो भी नौकरी करता है, काम करता है उसको इससे कम पैसे नहीं मिलने चाहिए, इसकी गारंटी है। पांच लाख गिग वर्कर्स को कानूनी सुरक्षा दी है, जैसे जो यहां से गांवों से बड़े-बड़े शहरों में जाते हैं काम करने के लिए, कोई उनकी सुरक्षा नहीं देखता, कोई ये नहीं देखता कि वो नौकरी कर रहा है, उसको कितने पैसे मिल रहे हैं, तो इसलिए उनके लिए खास ये योजना बनाई गई। 12वीं तक शिक्षा नि:शुल्‍क हो गई है आपके प्रदेश में, 309 नए कॉलेज बने हैं, 9 नई सरकारी यूनिवर्सिटियां खोली हैं, 2,500 महात्‍मा गांधी राजकीय स्‍कूल खोले हैं, हर जिले में अस्‍पताल और नर्सिंग होम है, सरकारी नौकरियों में ठेका प्रथा खत्‍म कर दी गई है, 21 लाख किसानों का 14 हजार करोड़ का कर्ज माफ किया है, हमने ये नहीं कहा कि पैसे नहीं है इसके लिए, अन्‍नपूर्णा फूड पैकेट के माध्‍यम से आपको गेहुं, दाल, चीनी, तेल, नमक और मसाले, सब कुछ मिलता है। केंद्र की कुनीतियों को कांग्रेस ने यहां पर, आपके प्रदेश में रोकने की कोशिश की है, आपको मदद करने की कोशिश की है। आप इनकी वजह से जूझ रहे हैं और हम आपको मदद करने के लिए, आपकी सहायता करने के लिए सबकुछ करने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस का जो लिफाफा है, वो आपके लिए राहत और सहायता और सुरक्षा की पूंजी से भरा हुआ है। तो मैं तो कहती हूं इनका लाभ उठाइए, अपने भविष्‍य को मजबूत बनाइए। आपके सामने सबकुछ है।


देखिए, मेरी दादी इंदिरा जी कहती थीं कि सबसे ज्‍यादा विवेक पब्लिक में ही है और जब कोई शक हो कि समझ में नहीं आ रहा है कि क्‍या करना है? कैसे करना है? पब्लिक के पास जाओ, जनता बताएगी तुम्‍हें कि तुम्‍हें क्‍या करना है और कैसे करना है। तो इस देश की सबसे बड़ी मजबूती जनता ही है। अफसोस इस बात का है कि आप इस बात को समझ नहीं रहे हो। जब आपका ध्‍यान कहीं और आकर्षित हो रहा है, आपको भटकाया जा रहा है, आप भटक रहे हो। आप अपना ध्‍यान अर्जुन की आंख की तरह सटीक रखो और कहां होना चाहिए ये ध्‍यान – अपने ऊपर, अपने बच्‍चों के भविष्‍य के ऊपर, अपनी खेती पर, अपने रोजगार पर। आपके लिए क्‍या हो रहा है? आपके लिए सरकार क्‍या रही है? किस तरह से ये सरकार आपको मजबूत बनाएगी? किस तरह से ये सरकार आपके बच्‍चों के भविष्‍य को बनाएगी? इस पर आपका ध्‍यान होना चाहिए और उससे हटना नहीं चाहिए।


तो मैं एक ही चीज मांगने आई हूं, वोट मांगने नहीं आई हूं, मैं आपकी जागरुकता मांगने आई हूं। मैं ये मांगने आई हूं कि अब चुनाव का समय है, समझ लो ध्‍यान भटकाने वाला कौन है और काम करने वाला कौन है। आज जो भाजपा की परिस्थिति है आपके प्रदेश में कि अपने लोगों को समेट नहीं पा रहे हैं, खुद एक नहीं हो पा रहे हैं। वो तो ये देख रहे हैं कि उनके कौन से-कौन से वरिष्‍ठ नेताओं को मार्गदर्शक मंडल में डालें। खुद देख रहे हैं न, तो आपसे वोट किस आधार पर मांग रहे हैं। मोदी जी तो आकर कहते हैं कि मुझे वोट दो, भाई मोदी जी थोड़ी बनने जा रहे हैं आपके मुख्‍य मंत्री, वो तो प्रधानमंत्री हैं।


तो बात समझिए, बिखरी हुई पार्टी, जो आपके भविष्‍य को ध्‍यान में नहीं रख रही है, आपकी पेंशन काट रही है, आपको रोजगार नहीं दे रही है, महंगाई बढ़ा रही है और दूसरी तरफ एक पार्टी है जिसके सारे नेता आपके लिए समर्पित हैं। नौजवान नेता सचिन पायलट, बुजुर्ग नेता जिनका अपार अनुभव है, जो दिन-रात आपके लिए एक करते हैं, जिन्‍होंने देखा कि केंद्र की वजह से आप तड़प रहे हैं और एकदम आपके लिए ऐसी स्‍कीमें लाए जिससे आपकी सहायता हो सकती है। तो आपके सामने एक चुनौती है। आप अपने भविष्‍य को चुनोगे या फिर ऐसी राजनीति को चुनोगे जो आपको भटकाए जाए और बार-बार धर्म की बात, जाति की बात कर-करके, कर-करके आपको इसी खाई में रहने देगी।


वही सत्ता में रहेंगे, वही फूलेंगे-फलेंगे, उनके बच्‍चे तो कोई यहां पर स्‍कूल में नहीं जा रहे हैं, सब बाहर जाते हैं विदेश में, बड़ी-बड़ी गाड़ि‍यां हैं उनकी, बड़े-बड़े महल हैं। वो तो फूल रहे हैं, फल रहे हैं तो आपका ध्‍यान कौन रखेगा? तो मैं सिर्फ इतना कहने आई हूं कि आप जागरुक बनो, सबको समझो अच्‍छी तरह से। वो अनुभव जिसमें इंदिरा जी की आस्‍था थी, वो विवेक जिसमें हम सबकी आस्‍था है उस विवेक को जगाओ और उसी विवेक के आधार पर, उसी अनुभव के आधार पर अपना वोट डालो, एक ऐसी सरकार चुनो जो आपके लिए काम करती रहे और जब आप ध्‍यान से सोचेंगे और जब आप देखेंगे कि अलग-अलग प्रदेशों में क्‍या हो रहा है और आप देखेंगे कि भाजपा की नीतियां क्‍या हैं और कांग्रेस की नीतियां क्‍या हैं, तो मैं दावे के साथ कह सकती हूं आप सिर्फ अपना वोट कांग्रेस को देंगे, क्‍योंकि यही कांग्रेस पार्टी है जिसने आपके बच्‍चों की शहादत का आदर किया है।


मैं एक शहीद की बेटी हूं, एक शहीद की पोती हूं, मैं जानती हूं कि इसका मतलब क्‍या है और मैं जानती हूं कि जितने भी परिवार हैं यहां झुंझनू में, जिन्‍होंने अपना बेटा या अपनी बेटी इस देश को दी है, जिनके बच्‍चे शहीद हुए हैं, मैं जानती हूं कि आप पर क्‍या गुजरती होगी। इसीलिए मैं कहती हूं कि एक ऐसी सरकार चुनो जो आपका आदर करे। जितनी श्रद्धा आप नेताओं में रखते हैं, उतनी ही श्रद्धा नेता को आपमें रखनी चाहिए और अगर नेता भटक रहा है तो आपको सिखाना पड़ेगा, ये आपकी एक बहुत बड़ी जिम्‍मेदारी है, इसको पूरी तरह से 25 तारीख को निभाइए, मेरी बातों को याद रखिए, भूलिए नहीं। बोर तो नहीं किया (जनता ने कहा – नहीं), अच्‍छा बोर नहीं हुए हो तो जोर से मेरे साथ बोलो एक बार।


जय हिंद। (जनता ने दोहराया- जय हिंद।) जय हिंद। (जनता ने दोबारा दोहराया- जय हिंद।) जय हिंद। (जनता ने एक और बार दोहराया- जय हिंद।)


धन्‍यवाद!

Comments

Popular posts from this blog

नाहटा की चौंकाने वाली भविष्यवाणी

मंत्री महेश जोशी ने जूस पिलाकर आमरण अनशन तुड़वाया 4 दिन में मांगे पूरी करने का दिया आश्वासन

उप रजिस्ट्रार एवं निरीक्षक 5 लाख रूपये रिश्वत लेते धरे